Advertisement

Prasarita Padottanasana Aka Wide-Legged Standing Forward Bend- प्रसारित पादोत्तानासन के फायदे, तरीका, लाभ और नुकसान

प्रसारित पादोत्तानासन (Wide-Legged Standing Forward Bend) के फायदे व नुकसान- प्रसारित पादोत्तानासन एक प्राचीन योग मुद्रा है, जिससे अनेक शारीरिक व मानसिक समस्याओं को दूर किया जा सकता है।

प्रसारित पादोत्तानासन एक खास योग मुद्रा है, जो शारीरिक व मानसिक लाभ प्रदान करने में प्रभावी होता है। यह योगासन शरीर के कुछ खास हिस्सों पर सकारात्मक प्रभाव डालता है और इस कारण से आजकल यह काफी लोकप्रिय भी हो गया है। प्रसारित पादोत्तानासन संस्कृत के चार शब्दों प्रसारित, पाद, उत्तान और आसन से मिलकर बना है, जिसमें टांगों को फैलाकर और आगे की तरफ झुक कर सिर को जमीन पर लाया जाता है। प्रसारित पादोत्तानासन को अंग्रेजी में “वाइड लेग्गड स्टैंडिंग फॉरवर्ड बेंड” (Wide-Legged Standing Forward Bend) कहा जाता है।

प्रसारित पादोत्तानासन के फायदे (Benefits of Wide-Legged Standing Forward Bend)

यदि प्रसारित पादोत्तानासन योग मुद्रा को सही तकनीक के साथ और विशेष बातों का ध्यान रखते हुए किया जाए तो इससे कई स्वास्थ्य लाभ मिल सकते हैं -

1. प्रसारित पादोत्तानासन करे मांसपेशियों को लचीला व मजबूत

Also Read

More News

प्रसारित पादोत्तानासन शरीर की कई मांसपेशियों में खिंचाव लाता है और नियमित रूप से इसका अभ्यास करने से मांसपेशियां मजबूत होने लगती हैं।

2. रक्त परिसंचरण को बढ़ाए प्रसारित पादोत्तानासन

प्रसारित पादोत्तानासन के दौरान मस्तिष्क में रक्त आपूर्ति बढ़ जाती है, जिससे इन हिस्सों को पर्याप्त पोषण मिलता है।

3. आंखों के स्वास्थ्य के लिए लाभदायक है प्रसारित पादोत्तानासन

नियमित रूप से प्रसारित पादोत्तानासन आंखों को भी पर्याप्त पोषण युक्त रक्त मिलता रहता है, जिससे आंखों संबंधी समस्याएं होने का खतरा काफी कम हो जाता है।

4. डिप्रेशन व चिंता जैसे लक्षणों को दूर करने में मदद करे प्रसारित पादोत्तानासन

प्रसारित पादोत्तानासन सिर्फ शारीरिक स्वास्थ्य के लिए ही नहीं मानसिक स्वास्थ्य में भी सुधार करता है। नियमित रूप से यह योगाभ्यास करने से चिंता, तनाव व डिप्रेशन जैसी समस्याओं से छुटकारा पाया जा सकता है।

हालांकि, प्रसारित पादोत्तानासन से प्राप्त होने वाले स्वास्थ्य लाभ पूरी तरह से योगासन के तरीके और आपकी स्वास्थ्य स्थिति पर निर्भर करते हैं।

प्रसारित पादोत्तानासन करने का तरीका (Steps to do Wide-Legged Standing Forward Bend)

यदि आप पहली बार प्रसारित पादोत्तानासन अभ्यास करने जा रहे हैं, तो निम्न चरणों का पालन करके आपको यह योग मुद्रा बनाने में मदद मिल सकती है -

Step 1 - सबसे पहले सपाट जमीन पर मैट बिछा लें और उसपर ताड़ासन मुद्रा में खड़े हो जाएं

Step 2 - गहरी सांस लेते हुए टांगों को फैला लें और धीरे-धीरे सांस छोड़ें

Step 3 - इसके बाद हाथों को फैला लें और फिर धीरे-धीरे उन्हें हिप्स पर लेकर जाएं

Step 4 - इस दौरान गहरी सांस लेते रहें और कमर व गर्दन को सीधा रखें

Step 5 - अब गर्दन को सीधी रखते हुए आगे की तरफ झुकना शुरू करें

Step 6 - इस दौरान हाथों को भी आगे ले आएं और पैरों पर रख लें

Step 7 - धीरे-धीरे झुकना शुरू करें और आवश्यकतानुसार रीढ़ की हड्डी में मोड़ देते रहें

इसमें सिर से जमीन को छूना होता है हालांकि, शुरुआती अभ्यासकर्ता क्षमता के अनुसार करीब ला सकते हैं

इस योग क्रिया को आप अपनी क्षमता के अनुसार अवधि तक कर सकते हैं और फिर धीरे-धीरे सामान्य अवस्था में आ सकते हैं। यदि आपको इससे संबंधित कोई भी सवाल है, तो किसी अच्छे योग प्रशिक्षक से संपर्क करें।

प्रसारित पादोत्तानासन के दौरान सावधानियां (Precautions during Wide-Legged Standing Forward Bend)

प्रसारित पादोत्तानासन अभ्यास आमतौर पर योग प्रशिक्षक के निगरानी में ही किया जाता है और इस दौरान निम्न सावधानियां बरतनी जरूरी होती हैं -

  • अच्छे से वार्मअप व स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज करें
  • रीढ़ पीठ या गर्दन में झटका न लगने दें
  • कोई भी क्रिया बलपूर्वक न करें
  • पूरा ध्यान योग क्रिया पर ही फोकस रखें
  • आवश्यकता पड़ने पर योग प्रशिक्षक से मदद लें

प्रसारित पादोत्तानासन पादोत्तानासन कब न करें (When not to do Wide-Legged Standing Forward Bend)

कुछ स्वास्थ्य स्थितियां हैं जिनके दौरान प्रसारित पादोत्तानासन अभ्यास करने से पहले डॉक्टर से अनुमति ले लेनी चाहिए -

  • शरीर के किसी हिस्से में गंभीर दर्द या चोट लगी होना
  • सांस या हृदय संबंधी रोग
  • शरीर में जकड़न महसूस होना
  • गर्भावस्था या मासिक धर्म

Total Wellness is now just a click away.

Follow us on