Advertisement

साइकिल चलाना है सेहत के लिए फायदेमंद

साइकिल चलाना है सेहत के लिए फायदेमंद  है। हर रोज 30 मिनट साइकिल चलाने से आप अपनी उम्र और सौंदर्य में कई गुणा इजाफा कर सकते हैं  अलग-अलग देशों में हुई रिसर्च से यह साबित हो चुका है। अमेरिका की स्‍टैनफोर्ड यूनीवर्सिटी में हुई रिसर्च में साइकि‍लिंग को एंटी एजिंग माना गया है। कुछ घंटे साइकिलिंग करने से ब्‍लड सेल्‍स और स्‍किन में ऑक्‍सीजन की पर्याप्‍त पूर्ति होने से आपकी त्‍वचा ज्‍यादा अच्‍छी और चमकदार रहती है।

अगर आप सुबह कुछ देर साइकिलिंग करतें हैं, तो रात को आपको बेहतर नींद आएगी। यानि नीदं न आने की समस्‍या पूरी तरह से खत्‍म हो जाएगी। साइकिलिंग करने वाले लोगों की बॉडी की मसल्‍स हेल्‍दी और मजबूत होती हैं। जिससे उनकी सेक्‍सुअल पावर भी बढ़ती है। अमेरिकन यूनीवर्सिटी की एक रिसर्च के रिजल्‍ट से पता चलता है। साइकिलिंग ऐसा काम है, जिसे आप अपने पार्टनर और बच्‍चों के साथ भी मजे से कर सकते हैं। पार्क या स्‍मॉल पिकनिक पर जाना हो तो साइकिल आपके परिवार की शानदार साथी साबित होगी। हेल्‍थ और इंज्‍वायमेंट दोनों के लिए आसान बहाना बन सकती है साइकिलिंग।

Advertisement

फिटनेस वीडियोView More

Advertisement

ब्यूटी वीडियोView More

डिज़ीज़ वीडियोView More

सेक्‍सुअल हेल्थ वीडियोView More

प्रेगनेंसी वीडियोView More

Health Calculator

Latest Articles

Deficiency Of Vitamin B

पैरों पर दिखाई देते हैं इस विटामिन की कमी के ये 2 लक्षण! सप्लीमेंट्स और मीट खाने के बावजूद नहीं पूरी होती कमी

Vitamin B deficiency : विटामिन बी12 की कमी, जितना आप सोच रहे हैं उससे भी ज्यादा आम है। रिपोर्ट में ये सामने आया है कि 47 फीसदी लोगों के शरीर में बी12 का लेवल काफी लो रहता है।

Benefits Of Raisins

Benefits Of Raisins: दिन में करें इतनी किशमिश का ऐसे करें सेवन, जानें इसके फायदे, Watch Video

अंगूर और बैरीज को सुखाकर बनाई जाने वाली किशमिश के अनगिनत फायदे हैं। किशमिश में काफी अच्छी मात्रा में फाइबर, आयरन और प्रोटिन पाया जाता है। वहीं इस वीडियो में हम आपको किशमिश के फायदे के बारे में बताएंगे इसके साथ ही ये भी बताएंगे कि दिन में कितनी किशमिश का सेवन करना चाहिए।

Monkeypox In India

इन लोगों को है मंकीपॉक्स का 14 गुना ज्यादा खतरा! सीडीसी ने बताया क्यों जरूरी है वैक्सीनेशन

वैक्सीन पर डेटा से ये मालूम हुआ कि शुरुआत में टीका स्मॉलपॉक्स से लड़ने के लिए बनाया गया था, जिसका इस मौजूदा वक्त में इस्तेमाल बहुत ही सीमित है।