Advertisement

लेना है वनिला सेक्‍स का मजा, तो फॉलो करें ये टिप्‍स

यह एक ऐसी सेक्शुअल ऐक्टिविटी होती है जिसमें सेक्स के अन्य तत्व शामिल नहीं होते। इसमें न तो किसी तरह के सेक्स टॉय या फिर अन्य किसी चीज का इस्तेमाल किया जाता है।

एक वक्त था जब सेक्स के बारे में बात करना समाज में वर्जित माना जाता है, लेकिन बदलते वक्त और बढ़ती जागरुकता के बीच अब लोग यौन शिक्षा और यौन संबंधों के विभिन्न तरीकों के बारे में भी जानकारी हासिल करने में दिलचस्पी दिखाते हैं। सेक्स को एक कपल के बीच मजबूत रिश्ते का आधार माना जाता है।

यह भी पढ़ेें – नुकसानदायक हो सकता है कैजुअल सेक्‍स, जानें इसके साइइ इफैक्‍ट्स

क्‍या है वनिला सेक्स

वनिला सेक्स को कन्वेंशनल सेक्स भी कहा जाता है। यह एक ऐसी सेक्शुअल ऐक्टिविटी होती है जिसमें सेक्स के अन्य तत्व शामिल नहीं होते। इसमें न तो किसी तरह के सेक्स टॉय या फिर अन्य किसी चीज का इस्तेमाल किया जाता है। इस प्रक्रिया में सिर्फ एक ही पार्टनर यौन संबंधों का मजा ले पाता है और दूसरा पार्टनर जिसे इस प्रक्रिया में इंजॉयमेंट नहीं मिलता, उसे वनिला पार्टनर कहा जाता है।

यह भी पढ़ें – गर्मियों में सेक्‍स के बाद जरूर फॉलो करें पर्सनल हाइजीन के ये टिप्‍स, हेल्‍दी रहेगी सेक्‍स लाइफ

फर्स्ट टाइम सेक्स के लिए है परफेक्‍ट

फर्स्ट टाइम सेक्स करने जा रहे हैं तो आपके लिए वनिला सेक्स एकदम पर्फेक्ट माना जाता है क्योंकि इसमें आपको अपने पार्टनर को कुछ प्रूव करके दिखाने की जरूरत नहीं होगी और न ही कुछ रोमांचक ट्राई करने की।

बढ जाता है प्‍लेजर टाइम

इस पोजिशन में यौन संबंध बनाना दोनों पार्टनर्स के लिए आसान हो जाता है। साथ ही दोनों पार्टनर एक-दूसरे को प्लेज़र देते हुए काफी टाइम साथ में बिता सकते हैं। जिन महिलाओं को इंटरकोर्स के दौरान दर्द होता है, उनके लिए यह सेक्स स्टाइल बेहद फायदेमंद है।

बेहतर व्‍यायाम

वनिला सेक्स एक तरह का मिशनरी सेक्स ही होता है। अन्य सेक्स पोजिशन और स्टाइल के मुकाबले इस वनिला सेक्स स्टाइल ज्यादा कैलरी बर्न करने में मदद करता है और इसलिए यह एक गजब की एक्सर्साइज है।

मिलता है जल्‍दी ऑर्गेज्‍म

स्टडी के मुताबिक, वनिला सेक्स के जरिए महिला जल्दी ऑर्गेज्म हासिल करती हैं। इस सेक्स स्टाइल के जरिए महिलाओं के क्लाइटोरिस रीजन को बड़ी आसानी से स्टिम्यूलेट किया जा सकता है।

किस का भी रखें ध्‍यान

वनिला सेक्स के दौरान पार्टनर पर किस की अति न करें। यानी किसिंग लिमिट में ही हो और फिर धीरे-धीरे इसे बढ़ाएं। यौन संबंध बनाते वक्त धीरे-धीरे लिप-टु-लिप किस की तरफ आएं।

Stay Tuned to TheHealthSite for the latest scoop updates

Join us on