Advertisement

क्‍या पुरुष नसबंदी से प्रभावित होती है सेेक्‍स लाइफ

पुरुष नसबंदी जन्म दर को रोकने का एक स्थायी, प्रभावी और सुविधाजनक उपाय है। यह यौन जीवन को बेहतर बनाता है और सेक्स के दौरान गर्भ ठहरने की चिंता को दूर करता है।

पुरुष नसबंदी सर्जरी की तरह ही एक सामान्य प्रक्रिया है जिसे जन्मदर को नियंत्रित करने के लिए कराया जाता है। यह नसबंदी डॉक्टर आमतौर पर हॉस्पिटल या अपने क्लिनिक में ही करते हैं। पुरुषों के अंडकोश (scrotum) में एक छोटा सा ट्यूब होता है जो अंडकोश (testicles) से शुक्राणु (sperm) को मूत्रमार्ग तक ले जाने का कार्य करता है।

यह भी पढ़ें - क्‍या कम उम्र में सेक्‍स करने से सेहत को नुकसान हो सकता है?

नसबंदी के दौरान इसी ट्यूब को काट दिया जाता है या फिर बंद (block) कर दिया जाता है जिससे पुरुष के शरीर से शुक्राणु स्खलन के दौरान बाहर नहीं निकलते हैं जिसके कारण यौन संबंध बनाने के बाद महिला गर्भवती नहीं होती है। पुरुष नसबंदी की यह प्रक्रिया (purush Nasbandi procedure) कम समय में ही पूरी हो जाती है और पुरुष नसबंदी कराने के बाद उसी दिन घर भी जा सकता है। यह प्रेगनेंसी को रोकने में 100 प्रतिशत प्रभावी है।

Also Read

More News

यह भी पढ़ें – लंबे समय तक जवां रखती है सेक्‍सुअल फैंटेसी

पुरुष नसबंदी के प्रकार

यह दो प्रकार की होती है, पहला चीरा विधि  और दूसरा बिना चीरा विधि । बिना चीरा विधि से नसबंदी कराने पर इंफेक्शन होने एवं अन्य परेशानियों का खतरा कम रहता है और आमतौर पर यह कम समय में ठीक भी हो जाता है। नसबंदी आमतौर पर स्थायी होती है इसलिए जो लोग जीवन में बच्चा नहीं पैदा करना चाहते या अधिक बच्चे की चाह नहीं रखते, वे नसबंदी करा लेते हैं।

यह भी पढ़ें – नई तकनीक : अब बटन दबाते ही ऑफ हो जाएंगे स्‍पर्म

पुरुष नसबंदी के फायदे

यह  महिला नसबंदी की अपेक्षा बहुत आसान और कम खर्चीला है। जो दम्पत्ति भविष्य में बच्चा पैदा नहीं करना चाहते हैं वे डॉक्टर से बात करने के बाद नसबंदी करा सकते हैं। महिला को प्रेगनेंट होने से रोकने में यह बहुत प्रभावी होता है।

पुरुष नसबंदी जन्म दर को रोकने का एक स्थायी, प्रभावी और सुविधाजनक उपाय है।

यह यौन जीवन को बेहतर बनाता है और सेक्स के दौरान गर्भ ठहरने की चिंता को दूर करता है।

नसबंदी कराने के बाद पुरुषों की यौन क्षमता और यौन क्रिया पर इसका कोई प्रभाव नहीं पड़ता है।

पुरुष नसबंदी के साइड इफेक्ट

  • आमतौर पर सेक्स के दौरान महिला के योनि में स्पर्म को स्खलित होने और उसे प्रेगनेंट होने से बचाने के लिए पुरुषों की नसबंदी की जाती है। लेकिन नसबंदी के बाद पुरुषों को कुछ दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है।
  • पुरुष नसबंदी का सबसे बड़ा नुकसान यह है कि यह यौन संचारित संक्रमण (STI) से बचाव करने में सहायता नहीं करता है।
  • नसबंदी बच्चा पैदा न करने का एक स्थायी उपाय है इसलिए यदि भविष्य में आपको फिर से बच्चे की चाह हो तो आपके पास कोई विकल्प नहीं रहेगा।
  • नसबंदी करने के बाद पुरुषों को कुछ समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।
  • अंडकोश में सूजन, चोट और ब्लीडिंग की समस्या हो सकती है।
  • सेक्स के दौरान सीमेन में ब्लड आ सकता है और पुरुषों को इंफेक्शन भी हो सकता है।
  • पुरुष के अंडकोश में तरल पदार्थ बनने लगता है। इसमें गंभीर दर्द भी हो सकता है।
  • नसबंदी के बाद भी यौन संक्रमण से बचने के लिए पुरुष को सेक्स के दौरान कंडोम का प्रयोग करना पड़ सकता है।

पुरुष नसबंदी का यौन जीवन पर प्रभाव

नसबंदी  के बाद उनके शरीर की सामान्य क्रियाओं पर भी कोई प्रभाव नहीं पड़ता है। नसबंदी के बाद भी पुरुषों के शरीर में टेस्टोस्टेरोन और सीमेन (semen) का उत्पादन पहले की तरह ही होता है, लेकिन सीमेन में अब पुरुष का स्पर्म नहीं होता है और पुरुष को यौन संबंध बनाने के लिए पहले की तरह ही उत्तेजना भी होती है।

नसबंदी के बाद पुरुषों के सेक्स करने की इच्छा (sex drive) और शरीर में बनने वाले हार्मोन्स पर भी कोई प्रभाव नहीं पड़ता है। इसका सिर्फ इतना ही प्रभाव पड़ता है कि यौन संबंध बनाने के बाद महिला कभी भी गर्भवती नहीं हो सकती है।

नसबंदी दंपत्ति के यौन जीवन को बेहतर बनाता है और आप बिना किसी चिंता के अपने यौन जीवन का आनंद उठा सकते हैं।

Stay Tuned to TheHealthSite for the latest scoop updates

Join us on