Advertisement

क्या बच्चे के आने से आपकी शादी टूटने से बच सकती है?

क्या वाकई ऐसा हो सकता है? यहां जानिए इस बात में कितनी सच्चाई है!

पति-पत्नी का रिश्ता बहुत ही खास होता है। इस रिश्ते में सबसे जरुरी है कि वो एक-दूसरे को सम्मान दें और एक दूसरे की भावनाओं को समझें। लेकिन कभी-कभी कुछ कारणों से इस रिश्ते में खटास भी पैदा हो सकती है। इतना ही नहीं स्थिति इतनी गंभीर भी हो सकती है कि दोनों को अलग होना पड़ सकता है। लेकिन ऐसा माना जाता है कि पति-पत्नी के बीच चाहे जितना झगड़ा हो लेकिन परिवार में एक बच्चा आने से आपकी शादी टूटने से बच सकती है। लोग इसके पीछे यह कारण मानते हैं कि एक बच्चा होने से पति और पत्नी दोनों मिलकर एक साथ रहेंगे और उनका सारा ध्यान अपने झगड़े से हटकर बच्चे की देखभाल में लग जाएगा, जिससे वो धीरे-धीरे अपने झगड़े भूल जाएंगे।

क्या बच्चे से मदद मिल सकती है?

अगर आप ऐसा सोचते हैं कि बच्चा सभी समस्याओं का रामबाण इलाज बन सकता है , तो यह संभव नहीं है। वास्तव में बच्चे के अलावा माता-पिता को घर के कामकाज को बांटने और बच्चे की देखभाल करने के तनाव के कारण भी बोझ पड़ सकता है। बच्चे के आने से अतिरिक्त वित्तीय बोझ भी बढ़ता है, जिससे स्थिति और बिगड़ सकती है। बच्चे की रूटीन को समायोजित करने की कोशिश में नींद का अभाव और क्रांति पैदा कर सकता है।

Also Read

More News

अध्ययनों ने इस धारणा को खारिज कर दिया है कि एक बच्चा शादी को बचा सकता है। वे कहते हैं कि शादी में एक जोड़े की संतुष्टि पहले बच्चे के पैदा होने के बाद शुरू हो सकती है। पति और पत्नी के बीच के रिश्ते बच्चे के जन्म के बाद बिगड़ने लगते हैं और प्रसव के बाद कुछ सालों तक जारी रहता है। यह पुरुष और स्त्री दोनों को समान रूप से प्रभावित करता है।

साइकेट्रिस्ट डॉक्टर अविनाश के अनुसार, यह बात करना महत्वपूर्ण है कि पति और पत्नी के बीच एक समस्या क्यों है। भारतीय समाज में ससुराल वालों से महिलाओं को बहुत तनाव हो रहा है। महिलाओं को बांझपन होने का कलंक भी सहन करना पड़ता है, जो जोड़े के बीच काफी तनाव पैदा कर सकता है। ऐसी परिस्थितियों में एक बच्चा होने के कारण स्पष्ट रूप से दोनों को एक साथ लाएगा।

अपने स्वयं के अनुभव में, उन्होंने पर्याप्त उदाहरण देखे हैं, जहां एक बच्चे के आने से शादी में काफी सुधार किया है। बच्चे पैदा होने के बाद, पति और पत्नी दोनों नवजात बच्चे पर अपना ध्यान केंद्रित करते हैं और एक-दूसरे की कमियों की उपेक्षा करना शुरू करते हैं।

बच्चे का आना पूरे परिवार के लिए तनाव को दूर करने के रूप में भी काम करता है। डॉक्टर कहते हैं, यह एक सामाजिक स्नेहक के रूप में काम करता है, जिससे परिवारों के बीच सकारात्मक बातचीत होती है।

शाश्वत वैवाहिक आनंद के लिए कोई सूत्र नहीं है और क्या बच्चा आने से आपकी शादी की मरम्मत होगी या नहीं, यह काफी हद तक बहस पर है। अपने बच्चे को पहले से खट्टे समीकरण में लाने से पहले, जोड़ों को अपनी स्थिति का आंकलन करना चाहिए और तदनुसार निर्णय लेना चाहिए।

Read this in English

अनुवादक – Usman Khan

चित्र स्रोत - Shutterstock

Stay Tuned to TheHealthSite for the latest scoop updates

Join us on