Sign In
  • हिंदी

Fertile Day's क्या होते हैं, जिसमें इंटरकोर्स करने से मां बनना है आसान; बता रही हैं इनफर्टिलिटी एक्सपर्ट डॉक्टर चंचल शर्मा

कई बार जानकारी के आभाव में भी महिलाएं गर्भधारण नहीं कर पाती हैं. कंसीव करने के लिए जरूरी है कि आप इसकी पूरी गणित को समझें, जिसे समझाने का प्रयास कर रही हैं आयुर्वेदिक इनफर्टिलिटी एक्सपर्ट डॉक्टर चंचल शर्मा।

Written by Atul Modi |Updated : October 26, 2021 2:21 PM IST

प्रेगनेंसी के लिए फर्टाइल डे/फर्टाइल विंडो को सबसे अच्छा समय माना जाता है। क्योंकि फर्टाइल दिनों (Fertile Day's) में प्रेगनेंसी की सबसे अधिक संभावना होती है। लेकिन, हर महिला के फर्टाइल दिन अलग-अलग हो सकते है। सामान्यतः 28 दिनों के मासिक धर्म चक्र होता है। इस आधार पर 14 वें दिन को ओव्युलेशन डे माना जाता है। लेकिन यह हर महिला के लिए कहना ठीक नही होगा। क्योंकि हर महिला के मासिक धर्म चक्र कम या फिर ज्यादा दिनों के हो सकते हैं। ऐसी कंडीशन में हम फर्टाइल विंडो की मदद ले सकते है।

फर्टाइल डे क्या होता है?

डॉ चंचल शर्मा कहती है कि, प्रेगनेंसी से जुडी बहुत सारी समस्याओं में फर्टाइल विंडो आपके बहुत काम की चीज हो सकती है। अगर आपको इसके बारे में पूरी जानकारी है। प्रत्येक महिला हर माह मासिक धर्म (पीरियड्स) या माहवारी से होकर गुजरती है। इस दौरान महिला के अंडाशय से एक अंडा (स्त्री बीज) निकलता है। जिसकी अवधि (Life) 20 से 36 घंटे होती है। यह अंडा पीरियड्स के 12 दिन से लेकर 15 दिन के आसपास निकलता है। लेकिन शुक्राणुओं (Sperm) की लाइफ स्खलन (Ejaculation) के बाद जननांग पथ पर (Genital Tract) 3 से 5 दिनों अर्थात 72 घंटो की होती है। ऐसे में यदि कोई महिला-पुरुष 12वें दिन से लेकर 18वें दिन के बीच संबंध स्थापित करते हैं। तो प्रेगनेंसी की बहुत ज्यादा संभावना होती है। इन दिनों को ही फर्टाइल डे और इस पूरे समय को फर्टाइल विंडो के नाम से जानते है।

फर्टाइल विंडो में क्यों बढ़ जाती है प्रेगनेंसी की संभावना?

महिलाओं में होने वाला ओवुलेशन पीरियड्स का एक अहम हिस्सा होता है। ओवुलेशन के दौरान ही ओवरी में एग रिलीज होता है। और इस समय में पति-पत्नी संबंध स्थापित करते है, तो प्रेगनेंसी की पूरी-पूरी संभावना होती है।

Also Read

More News

फर्टाइल विंडो और फर्टाइल डे के लक्षण

  • फर्टाइल डे के दौरान महिला का शरीर कुछ इस तरह के संकेत दे सकता है:
  • जब किसी महिला को ओवुलेशन हो जाता है तो उसके शरीर का तापमान सामान्य दिनों की तुलना में अधिक हो जाता है।
  • पेट के निचले हिस्सें में अधिक क्रैंप (ऐठन) महसूस होती है।
  • संबंध बनने की इच्छा में वृद्धि होना।
  • इस दौरान महिलाएं संबंध बनाने में अधिक रुची लेती हैं।
  • ब्रेस्ट में दर्द महसूस हो सकता है यानि फर्टाइल डे में महिलाओं के स्तन में सामान्य दिनों की अपेक्षा अधिक दर्द महसूस होता है।
  • महिला की फर्टाइल विंडो करीब 6 दिनों को होती है और इस दौरान महिलो को वजाइना में गीलापन अधिक महसूस होता है।

Total Wellness is now just a click away.

Follow us on