Advertisement

डिलिवरी के बाद के पीरियड्स के दौरान क्या होता है?

Pregnancy के बाद Periods से जुड़े सभी सवालों के जवाब यहां जानें।

गर्भावस्था के बाद आपके शरीर को पूर्व स्थिति में लौटने के लिए कुछ समय लगता है और इसी तरह धीरे-धीरे आपकी पीरियड्स भी दोबारा शुरु हो जाते हैं। लेकिन याद रखना कि आपका शरीर अभी भी ठीक हो रहा है और आपके हार्मोन अभी स्थिर नहीं हुए हैं, इसलिए गर्भावस्था के बाद के पीरियड्स पूरी तरह से अलग ही तरीके के हो सकते हैं। इसके अलावा, गर्भधारण के बाद के पीरियड्स के बारे में कुछ भी अनुमान नहीं लगाया जा सकता हैं, ये कभी भी शुरु हो सकते हैं, विशेष रूप से, जब आप उनकी उम्मीद न कर रही हों। जैसा कि मेरे साथ और कई अन्य महिलाओं के साथ ऐसा ही हुआ है, मुझे नहीं पता था कि गर्भधारण के बाद के पीरियड्स कैसे हो सकते हैं। तो, आज मैं आपको यह बता रही हूं कि डिलिवरी के बार आपके पहले पीरियड्स से कैसे अपेक्षा की जा सकती है और उनके लिए कैसे तैयार होना चाहिए।

1.     प्रेगनेंसी के बाद के पीरियड्स अप्रत्याशित हो सकते हैं।

आदर्श रूप से,डिलिवरी के 6 या 8 सप्ताह बाद, अगर आप स्तनपान नहीं करा रही हैं, तो आपके पीरियड्स शुरु हो सकते हैं। ब्रेस्टफीडिंग कराने वाली माताओं के पीरियड्स देर से शुरु हो सकते हैं।  हालांकि, यह सिर्फ एक सिद्धांत है और यह पूरी तरीके से आपके हार्मोनल गतिविधियों पर निर्भर करता है। कुछ महिलाओं के पीरियड्स तब तक शुरु नहीं होते जब तक कि वे बच्चे को दूध पिलाती हैं और कुछ के कुछ हफ्तों या महीनों बाद वापस आ सकते हैं। मैं अपने सबसे पहले बच्चे को विशेष रूप से केवल अपना दूध पिलाती थी। डिलीवरी के बाद 8 सप्ताह के भीतर मेरी पहले (प्रेगनेंसी के बाद के) पीरियड्स शुरु हुए। इसलिए, तैयार रहें और इमरेंजी के लिए अपनी अलमारी में मैटर्निटी पैड रखें। यही नहीं अपने डायपर बैग में कम-से-कम 2 पैड ज़रूर रखें, ताकि अगर आप अपने बच्चे के साथ कहीं सफर कर रही हैं, और आपके पीरियड्स शुरु हो जाएं तो यह आपके काम आएगा।

Also Read

More News

2.     प्रेगनेंसी के बाद के पीरियड्स अलग हो सकते हैं।

हर महिला के साथ स्थिति अलग होती है, लेकिन ज्यादातर महिलों में, गर्भावस्था से पहले के पीरियड्स प्रेगनेंसी के बाद के पीरियड्स से अलग हो सकते हैं। आप मासिक धर्म की ऐंठन और रक्त के थक्के के साथ हल्का या भारी फ्लो का अनुभव कर सकती हैं। आपके पीरियड्स के दोबारा शुरु होने पर आपके गर्भाशय में कई बदलाव आते हैं। बच्चे को समायोजित करने के लिए गर्भावस्था के दौरान इसके आकार में वृद्धि होती है और बच्चे के जन्म के बाद यह सिकुड़ना शुरू कर देता है और इसके चलते या प्रसव के बाद यूटरस एंडोमेट्रियल लाइनिंग और बचे हुए अवशेष या टिश्यूज़ को भी खून के साथ बहा देता है। एक बार लेचीया स्थिर हो जाता है और पीरियड्स शुरू हो जाने के बाद भी हो सकता है कि आपको भारी फ्लो महसूस हो, दरअसल हो सकता है कि गर्भाशय अभी भी मृत ऊतकों को बाहर निकालने की कोशिश कर रहा हो। यह गर्भावस्था के बाद के शुरुआती कुछ महीनों की स्थिति हो सकती है। चूंकि 8 हफ्तों के भीतर मेरे पीरियड्स शुरु हो गए थे, मुझे भारी फ्लो हुआ और भारी फ्लो के लिए मैंने मैटर्निटी पैड का इस्तेमाल किया।

कुछ महिलाओं को हल्का फ्लो भी हो सकता है और यह भी सामान्य है। आपका शरीर गर्भावस्था के समय हुए परिवर्तनों के साथ तालमेल बिठाने, ठीक होने और हार्मोनल चक्र को स्थिर करने की कोशिशें कर रहा है, ऐसे में पीरियडस में भी बदलाव सामान्य हैं। हालांकि, वहीं कुछ महिलाओं के पीरियड्स में डिलीवरी के बाद बहुत अधिक बदलाव नहीं होते।

3.बच्चे के जन्म के बाद पीरियड्स अनियमित हो सकते हैं।

बच्चे के जन्म के बाद अनियमित या इर्रेग्यूलर पीरियड्स असामान्य नहीं हैं । डिलीवरी के बाद आपके पीरियड्स कितनी जल्दी शुरु होगें, यह इस बात पर निर्भर करता है कि आप कब तक अपने बच्चे को स्तनपान कराती हैं। चूंकि आपके हार्मोन अभी तक स्थिर नहीं हुए होगें, इसलिए आपका चक्र 24-दिन से लेकर 28-दिन का हो सकता है कि और कभी-कभी यह 40-दिन का भी हो सकता है। एक बार जब आप स्तनपान रोक देती हैं, तो कुछ महीनों के भीतर यह सामान्य हो जाएगा।

Read this in English

अनुवादक-Sadhna Tiwari

चित्रस्रोत-Shutterstock Images.

Stay Tuned to TheHealthSite for the latest scoop updates

Join us on