5 पारंपरिक भारतीय अनाज जो हैं सेहत का खज़ाना !

क्विनोआ (quinoa) नहीं खाना चाहते तो आपके लिए बाज़ार में मौजूद हैं कुछ और चीज़ें।

1 / 6

Benefits Of Eating Barley Hindi

क्विनोआ ( Quinoa) ने हमारी भारतीय रसोइयों में जगह बना ली है। लेकिन अगर आपको इसका स्वाद पसंद नहीं, तो आपके लिए डायटिशन करिश्मा चावला बता रही हैं कुछ ऐसे अनाजों के बारे में जो फाइबर से भरपूर हैं। ये रहे 5 पारंपरिक भारतीय अनाज जो ओमेगा -3 फैटी एसिड, कैल्शियम, सेलेनियम, आयरन और ज़िंक जैसे आवश्यक पोषक तत्वों से भरपूर हैं।

2 / 6

Bulgur-wheat Hindi

गेहूं का दलिया: बलगर गेहूं (Bulgur wheat) या दलिया हल्का और खाने में भी नर्म होता है। इसमें मैंगनीज, मैग्नीशियम और लौह या आयरन जैसे मिनरल की मात्रा काफी अधिक होती है। आप बहुत सारी पार्सली, टमाटर, ककड़ी, नींबू का रस और ऑयल के साथ इसका एक अच्छा सलाद भी बना सकते हैं।

3 / 6

Sorghum Hindi

ज्वार: ज्वार या जवारी में का स्वाद मीठा होता है और यह ग्लूटेन-फ्री भी होता है। इसमें पॉलीकोसानॉल (policosanol) नामक एक रासायनिक यौगिक होता है जो कोलेस्ट्रॉल लेवल को मैनेज करने में मदद करता है। ज्वार ग्लूटेन-फ्री रोटी और ब्रेड बनाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

Advertisement
Advertisement
4 / 6

Wheat-berries Hindi

गेहूं के दाने: गेहूं के दाने या व्हील बेरीज़ में चोकर, अंकुर और एंडस्पर्म या अंतर्बीज भी शामिल होते हैं। आप इसे अपनी पसंदीदा सब्जियों के साथ मिलाकर एक हेल्दी सलाद तैयार कर सकते हैं।

5 / 6

Faro Hindi

फैरो गेहूं: अगर आप क्विनोआ खाकर ऊब रहे हैं, तो फैरो (Farro) से बनीं चीज़ें आजमाएं। यह पेट भरता है और इसमें मैग्नीशियम और आयरन भी काफी ज़्यादा होता है। एक अच्छी बनावट और अखरोट जैसे स्वाद के कारण, गेहूं की इस प्रजाति को स्टू और सूप में मिलाना पसंद किया जाता है।

6 / 6

Spelt Hindi

स्पेल्ट: जर्मन मूल का यह गेंहूं कम ग्लूटेन और प्रोटीन से भरपूर होता है। स्पेल्ट (Spelt) गेहूं से आपकी फॉस्फोरस की दैनिक ज़रूरत का एक तिहाई और कॉपर की जरूरत का एक चौथाई हिस्सा मिल जाता है। आप इससे बने नूडल्स, टॉर्टिला और ब्रेड खा सकते हैं।