• हिंदी

थोड़ी देर भी करेंगे वॉक तो हेल्थ को होंगे ये 5 फायदे, जानें कितनी देर करनी चाहिए मॉर्निंग वॉक

टहलने और ब्रिस्क वॉक करने से स्ट्रेस कम होता है और स्वस्थ-लम्बी ज़िंदगी जीने में मदद होती है।

Written by Sadhna Tiwari | Published : November 10, 2023 11:50 PM IST

1/6

थोड़ी देर भी करेंगे वॉक तो हेल्थ को होंगे इस तरह फायदे

Walking Health Benefits: वॉक करना सबसे आसान एक्सरसाइजेस में से एक हैं और यह आपके शरीर की मेटाबॉलिज्म को बिना ज्यादा मेहनत किए ही बढ़ा देता है। वॉकिंग करने से कई गम्भीर बीमारियों के लक्षण कम होते हैं । कुछ स्टडीज में यह भी कहा गया है कि रोजाना केवल 20-30 मिनट वॉक करने से भी कई बीमारियां आसपास भी नहीं फटकती। आइए जानें रोजाना वॉक करने के सबसे बड़े फायदों के बारे में।

2/6

लम्बी चलती है ज़िंदगी

कुछ स्टडीज के अनुसार रोजाना वॉक करने वाले लोगों में जीवन प्रत्याशा अधिक होती है। दरअसल, वॉक करने से शरीर के अलग-अलग अंगों को कार्य करने में सहायता होती है। इससे सोचने-समझने, फैसले लेने और मोटिवेटेड रहने में मदद होती है। इस तरह लोगों की जीवन जीने की इच्छा और संभावना बढ़ती है।  Also Read - कोलेस्ट्रॉल जब बढ़ जाए हद से ज्यादा तो हाथों-पैरों और उंगलियों पर दिखते हैं ये लक्षण, इग्नोर करना पड़ सकता है महंगा

3/6

इम्यूनिटी बढ़ती है

आपकी बॉडी की रोग-प्रतिरोधक प्रणाली को सपोर्ट करने वाली सेल्स (B Cells ) और टी सेल्स (T Cells) की सक्रियता वॉक करने से बढ़ती हैं। इससे शरीर की इम्यून पॉवर बढ़ती है। वहीं, वॉक करने से ब्लड सर्कुलेशन में भी सुधार होता है।

4/6

स्ट्रेस होता है कम

टहलने और ब्रिस्क वॉक करने जैसी एक्टिविटीज का एक फायदा यह भी है कि इससे आपके शरीर में कॉर्टिसोल का स्तर कम होता है। कॉर्टिसोल तनाव बढ़ाने वाला हार्मोन है। इसीलिए कॉर्टिसोल का स्तर कम होने से आपको ना केवल तनाव से राहत मिलती है बल्कि यह नींद से जुड़ी समस्याओं से भी आराम दिलाता है।  Also Read - Viruddh Aahar: क्यों एक साथ नहीं खाना चाहिए करेला और भिंडी,आयुर्वेद से जुड़ा है यह नियम

5/6

बीपी लेवल होता है कंट्रोल

ब्लड प्रेशर लेवल को नियंत्रित रखने के लिए वॉक करना चाहिए। यह मोटापा कम करता है और इन सबसे हृदय पर दबाव भी कम पड़ता है।

6/6

ब्लड शुगर लेवल रहे कंट्रोल

रोजाना केवल 10-15 मिनट की वॉक करने से ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल में रहता है। एक्सपर्ट्स के अनुसार खाना खाने के बाद केवल कुछ मिनट चलने से भी शुगर मरीज के फास्टिंग और पीपी ब्लड शुगर लेवल में काफी गिरावट आ सकती है। टाइप 2 डायबिटीज को कंट्रोल में रखने के लिए रोजाना कम से कम 5000 कदम चलने या ब्रिस्क वॉक करने की सलाह दी जाती है।  Also Read - Niacin Benefits: नियासिन क्या होता है? जानें इस पोषक तत्व की कमी से होने वाली बीमारियों के बारे में