वायरल, कोरोना इंफेक्शन, फ्लू से बचाते हैं ये 4 आयुर्वेदिक औषधि, करेंगे रोज सेवन तो कोई रोगों से होगा बचाव

इन दिनों बारिश होने से वायरल इन्फेक्शन, फ्लू, बुखार, सर्दी-जुकाम, खांसी, गले में खराश होने की समस्या बढ़ रही है, इसके लिए आप कुछ आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों या हर्ब्स (Immunity Booster Herb) का इस्तेमाल कर सकते हैं। हम आपको चार बेहतरीन हर्ब्स के बारे में बता रहे हैं...

1 / 5

Herbs-to-boosts-immunity-in-hindi

2 / 5

 Also Read - आप जूस पीकर भी चेहरे पर ला सकती हैं निखार, जानिए कौन सा जूस आपकी स्किन के लिए है खास

3 / 5

Ashwagandha Boosts Immunity In Hindi

अश्‍वगंधा (Ashwagandha benefits)- अश्वगंधा भी रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत (Ashwagandha boosts immunity) करता है। अश्वगंधा के इस्तेमाल से आप कई संक्रामक बीमारियों से बचे रहते हैं। अश्वगंधा शरीर के ऊतकों को पोषण प्रदान करता है। इसके साथ ही अश्वगंधा हीमोग्लोबिन लेवल बढ़ाने, मांसपेशियों को ताकत देने, वजन (herbs to boost immunity) बढ़ाने में भी मदद करता है।

Advertisement
Advertisement
4 / 5

Giloy To Boost Immunity In Hindi

गिलोय (Giloy benefits)- गिलोय का इस्तेमाल लोग सबसे ज्यादा डेंगू का बुखार (Giloy to cure Dengu fever) होने पर करते हैं। हालांकि, डेंगू के अलावा भी गिलोय कई रोगों को ठीक करने के काम आता है। गिलोय से इम्यूनिटी भी मजबूत (Giloy boost immunity) होती है। कोरोनावायरस से बचना चाहते हैं, तो गिलोय का जूस (Giloy juice) पीना शुरू कर दें। इसके अलावा, गिलोय औषधि तनाव को भी कम करती है। संक्रमण से शरीर को बचाती है। रोगों से लड़ने की शक्ति (Immunity Booster Herb) बढ़ाती है। इसमें मौजूद एंटीइन्फ्लेमेटरी गुण इन्फ्लेमेशन नहीं होने देते हैं।  Also Read - World Lungs Day: फेफड़ों का ख्याल रखना क्यों है जरुरी, डॉक्टर से जानें फेफड़ों का ख्याल कैसे रखें, Watch Video

5 / 5

Tulsi Boosts Immunity In Hindi

तुलसी (Tulsi benifits)- तुलसी को जड़ी बूटियों की रानी कहा जाता है। तुलसी का इस्तेमाल आयुर्वेद (ayurvedic herbs to boost immunity) में वर्षों से कई रोगों को दूर करने के लिए किया जाता है। तुलसी में मौजूद गुण कुछ पैथोजेन्स जैसे वायरस, बैक्टीरिया, फंगस को दूर करती है। प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत बनाती है तुलसी (Tulsi boosts immunity)। तुलसी का सेवन करने के लिए आप इसकी पत्तियों को यू हीं चबाकर खा सकते हैं या फिर तुलसी का काढ़ा (Tulsi ka kadha) बनाकर पी सकते हैं।