इन 5 फूलों को अपने डायट में करें शामिल!

डायबिटीज हो या सेक्सुअल हेल्थ फूलों से हो सकता हैं उनका इलाज।

1 / 6

Flowers We Can Eat Hindi

हमारी कई बीमारियों का इलाज़ हमारे आसपास मौजूद प्राकृतिक चीजों में ही मौजूद है। जहां जड़ी-बूटियां और मसाले घरेलू नुस्खों के रुप में इस्तेमाल किए जा सकते हैं वहीं आप ये जानकर हैरान हो जाएंगे कि कई प्रकार के फूल हैं जो खाए भी जा सकते हैं और उनसे नैचुरल दवाइयां भी बनायी जा सकती हैं। तो हम बताते 5 ऐसे फूलों के बारे में जिन्हें आप खा सकते हैं!

2 / 6

Edible-neem-flowers- Hindi

नीम के फूल- नीम के नन्हे-नन्हे फूलों में ऐसे गुण मौजूद हैं जो आपके मेटाबॉलिज्म को बेहतर बनाते हैं और वेट लॉस में मदद करते हैं। नीम के फूलों को मसलकर उनमें थोड़ा-सा शहद और नींबू का रस मिलाइए। सुबह-सुबह खाली पेट यह मिश्रण खाने से आपका बेली फैट( पेट की चर्बी) कम हो जाएगा।

3 / 6

Banana-flower-healthy-hindi

केले का फूल- महाराष्ट्र के भोजन में केले के फूल की लज़ीज़ सब्जियां शामिल होती हैं। यह फूल एंटीऑक्सीडेंट और फाइबर से भरपूर होता है और यह डायरिया(दस्त) और डिसन्टेरी( आंव) जैसी तकलीफों का अच्छा इलाज भी है। इतना ही नही डायबिटीक और पीरियड्स के दौरान जिन महिलाओं को अत्यधिक रक्तस्राव होता है वो भी दवाई के रूप में केले के फूल को अपने भोजन में शामिल करें ।

Advertisement
Advertisement
4 / 6

Drumstick-flowers-sexual-health-Hindi

सहजन के फूल- देसी वियाग्रा के नाम से जाने जानेवाले सहजन (drumstick) के फूलों का सेवन इरेक्टाइल डिसफंक्शन(erectile dysfunction) और सेक्सुअल हेल्थ को सुधारने के लिए किया जा सकता है। साथ ही ये इंफेक्शन से भी बचाते हैं। दूध, शक्कर और इलायची पाउडर के साथ सहजन के फूलों को पकाकर इसका रोज सेवन करें।

5 / 6

Pomegranate-flowers-diabetes-Hindi

अनार के फूल – डायबिटीज का एक प्राकृतिक इलाज हैं अनार के फूल। डायबिटीज, ओबेसीटी एंड मेटाबॉलिज़म के जर्नल में छपे एक शोध के अनुसार अनार के फूल ग्लूकोज़ homoeostasis को नियत्रित करते हैं और सूजन कम करते हैं। इन फूलों को कच्चा या पानी में उबालकर चाय के तौर पर पिया जा सकता है।

6 / 6

Rose-flower-cooking-hindi

गुलाब के फूल- भले ही गुलाब फलों और सब्जियों की श्रेणी में ना आता हो लेकिन भारतीय व्यंजनों में गुलाब सदियों से इस्तेमाल होता रहा है। इसकी ठंडा तासीर और माइल्ड फ्लेवर के कारण गुलाब को पानी में मिलाया और उबाला जाता रहा है। यह मोटापा कम करने में भी मदद करता है। आयुर्वेद में इसे प्राकृतिक कामोद्दीपक (aphrodisiac) माना जाता है। गुलाब की पंखुड़ियों को ताज़ा या सुखाकर खा सकते हैं।