अगर घर में हैं ये 5 चीजें, तो कभी नहीं होगी सर्दी-खांसी

1 / 6

Home Remedies For Winter Diseases 1

सर्दी का मौसम आते ही लोग बुखार, खांसी, गले में खराश, सर्दी-जुकाम आदि से परेशान रहने लगते हैं। हालांकि, ये कोई गंभीर समस्याएं नहीं हैं। मौसम बदलने से ये सारी समस्याएं होना बहुत आम बात है। कुछ लोग इनके उपचार में दवाओं का सेवन करना शुरू कर देते हैं, जबकि इन समस्याओं को आप कुछ आसान से घरेलू उपायों से भी दूर करते हैं। बार-बार एंटी-बायोटिक्स का सेवन करना भी शरीर के लिए सही नहीं होता है। बेहतर है कि आप अपने किचन में रखे इन चीजों से सर्दी-जुकाम आदि का इलाज करें। इससे कोई साइट इफेक्ट भी नहीं होता है। घर में इस्तेमाल होने वाली इन पांच चीजों से आप अपनी इम्यूनिटी भी बूस्ट कर सकते हैं। जानें, कैसे ले सकते हैं आप इनका पूरा फायदा...

2 / 6

Home Remedies For Winter Diseases 2

मिश्री- मिश्री है, तो खाना खाने के बाद सौंफ के साथ इसका सेवन करें। मिश्री का सेवन सौंफ के साथ करने से कई तरह के सेहत लाभ होते हैं। इससे बलगम दूर होती है। खांसी से राहत मिलती है। गला दर्द में भी मिश्री बहुत लाभकारी है। दिन में दो बार इसका सेवन करें।

3 / 6

Home Remedies For Winter Diseases 3

सौंफ- ठंड लगने पर सबसे पहले पाचन क्रिया पर इसका असर पड़ता है। खाना खाने के बाद थोडी-सी सौंफ का सेवन करें। इससे पेट संबंधी परेशानियां दूर हो जाती हैं। सौंफ एसिडिटी और बदहजमी दूर करने में भी बहुत फायदेमंद है।

Advertisement
Advertisement
4 / 6

Home Remedies For Winter Diseases 4

कपूर- जोड़ों के दर्द की परेशानी गर्मियों के मुकाबले सर्दी में ज्यादा होती है। इससे बचने के लिए नारियल के तेल में कपूर का टुकड़ा डाल कर पिघला लें। गुनगुना हो जाए, तो इसे जोड़ों पर लगाकर मसाज करें। जोड़ों की दर्द और सूजन से आराम मिलेगा।

5 / 6

Home Remedies For Winter Diseases 5

ऐलोवेरा- हवा शुष्क होने के कारण त्वचा में रूखापन और खुजली की संभावना बढ़ जाती है। इससे राहत पाने के लिए एलोवेरा युक्त मॉइश्चराइजर का इस्तेमाल करें। इसके एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण स्किन इंफेक्शन से राहत दिलाने में मददगार हैं।

6 / 6

Home Remedies For Winter Diseases 6

नीलगिरी का तेल- नीलगिरी का तेल बंद नाक की परेशानी दूर करने में लाभकारी है। पानी को उबाल कर इसमें 2 बूंद नीलगिरी का तेल डाल दें। इसकी भाप लेने से बलगम निकल जाती है। नीलगिरी का तेल ज्यादा इस्तेमाल करने से बचें।