Advertisement

10 छोटी-छोटी आदतें जो आपके ब्रेन को कर सकती हैं बर्बाद,बढ़ सकता है मेमरी लॉस का खतरा

रोजमर्रा की ज़िंदगी में लोग कुछ ऐसी गलतियां कर जाते हैं जो दिमाग के लिए नुकसानदायक साबित हो सकती हैं।

1 / 10

ब्रेन को कमजोर बना सकती हैं ये आदतें

Lifestyle habits that can harm your brain: ब्रेन की हेल्थ शरीर की सभी कार्यप्रणालियों के लिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि, ब्रेन ही शरीर के पूरे सिस्टम को कंट्रोल करता है और शरीर को काम करने के लिए संकेत देते हैं। इसीलिए, ब्रेन की हेल्थ को नुकसान से बचाने और उसे स्वस्थ रखने के लिए लोगों को सावधानी बरतने की जरूरत पड़ते हैं। प्रदूषण, बीमारियों और अनुवांशिक कारणों के चलते जहां लोगों के ब्रेन को नुकसान पहुंच सकता है। वहीं, रोजमर्रा की ज़िंदगी में लोग कुछ ऐसी गलतियां भर कर जाते हैं जो दिमाग के लिए नुकसानदायक साबित हो सकती हैं। यहां पढ़ें कुछ ऐसी ही गलतियों के बारे में जिन्हें दोहराना तुरंत बंद कर देना है ब्रेन की हेल्थ के लिए अच्छा साबित हो सकता है। (Lifestyle habits that can harm your brain in Hindi.) यहां पढ़ें उन्हीं आदतों के बारे में-

2 / 10

कम समय के लिए सोना

ऐसे लोग जो रात में देर तक जागते हैं या देर रात तक मोबाइल पर या लैपटॉप पर कुछ देखते रहते हैं ऐसे लोगों को धीरे-धीरे रात में जल्दी सो पाया पूरी तरह मुश्किल हो जाता है। धीरे-धीरे अनिद्रा और नींद से जुड़ी अन्य परेशानियां बढ़ने लगती हैं और लोगों की मानसिक सेहत पर भी इसका असर दिखायी देने लगता है। नींद की कमी ब्रेन के लिए बहुत हानिकारक साबित हो सकता है। क्योंकि जब कोई कम समय के लिए सोता है तो इससे ब्रेन सेल्स पर बुरा असर पड़ता है। Also Read - कमल ककड़ी की सब्‍जी खाने के फायदे

3 / 10

गुस्सा और चिड़चिड़ापन

बहुत अधिक गुस्सा करने वाले लोगों को बहुत अधिक तनाव और थकान महसूस होता है। इसी तरह इन चीजों का बुरा असर आपकी ब्रेन हेल्थ पर भी असर पड़ता है। गुस्सा आने पर दिमाग से जुड़ी नसों पर बहुत अधिक दबाव बनता है जिससे ब्रेन के काम करने की क्षमता कम होने लगती है।

Advertisement
Advertisement
4 / 10

स्ट्रेस

तनाव या स्ट्रेस आपकी ब्रेन की हेल्थ के लिए भी खराब साबित हो सकता है। तनाव की वजह से मेमरी धीरे-धीरे कमजोर होने लगती हैं और जब स्ट्रेस बढ़ जाता है तो ब्रेन के काम करने के तरीके भी बदल जाते हैं। इसीलिए, स्ट्रेस से बचने और स्ट्रेस को मैनेज करने के उपाय करने चाहिए। स्ट्रेस-फ्री रहने के लिए खुली हवा में टहलें, संगीत सुनें और दिनभर में खूब पानी पीएं।  Also Read - रोज सुबह खाली पेट खाएं लहसुन की एक कली कभी पास भी नहीं आएंगी ये 4 बीमारियां, बस जान लें सही तरीका

5 / 10

चादर से मुंह ढंककर सोना

कुछ लोगों को मुंह ढंककर सोना पसंद आता है और ऐसे लोगों के लिए सांस के साथ पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन पाना मुश्किल हो सकता है। जब शरीर को ऑक्सीजन नहीं मिलता तो इससे ब्रेन को नुकसान पहुंच सकता है। जिससे ब्रेन फंक्शन से जुड़ी परेशानियां आ सकती है और शरीर में सुस्ती भी महसूस होती है।

6 / 10

शक्कर का सेवन

शर्बत,कोल्ड्रिंक्स और डिब्बाबंद फ्रूट जूसेस जैसी मीठी चीजों का सेवन करने से दिमाग को नुकसान पहुंचता है जिससे ब्रेन फंक्शन से जुड़ी परेशानियां बढ़ सकती है। इसके अलावा सोडा, कॉफी और चाय का सेवन भी ब्रेन के लिए नुकसानदायक साबित हो सकता है और इसके अधिक सेवन से मेमरी भी कमजोर हो सकती है। Also Read - सोते समय पैरों के नीचे बर्फ लगाने से मिलते हैं ये 5 फायदे, दर्द-जलन के साथ ये समस्याएं भी होंगी दूर

7 / 10

फोन साथ रख कर सोना

ऐसे लोग जो रात में म्यूजिक सुनते हुए सो जाते हैं या अपना फोन अपने पास रखते हैं उनके ब्रेन पर इसका बुरा प्रभाव पड़ सकता है। इससे, दिमाग की कार्यक्षमता कम हो सकती है। इसीलिए, रात में सोने से पहले हेडफोन और मोबाइल को खुद से दूर रखें।

8 / 10

स्मोकिंग

सिगरेट पीने की आदत ब्रेन के लिए नुकसानदायक साबित हो सकता है और इससे मेमरी पर भी बुरा असर पड़ता है। स्मोकिंग करने से याद्दाश्त से जुड़ी कई प्रकार की बीमारियां जैसे अल्जाइमर्स और डिमेंशिया का खतरा बढ़ सकता है। Also Read - पीरियड्स क्रैम्प में राहत दिलाते हैं ये 6 फूड्स

9 / 10

ओवरइटिंग

कई बार ऐसा होता है कि खाने-पीने के शौकिन लोग अपनी मनपसंद की चीजें मिलने पर उन्हें बहुत अधिक मात्रा में खा लेते हैं। वहीं, कई लोग इमोशनल इटिंग भी करते हैं और इस तरह उनके शरीर में एक्स्ट्रा कैलोरी, एक्स्ट्रा फैट और अधिक मात्रा में नमक पहुंच जाता है। इससे हाई बीपी, कोलेस्ट्रॉल, डायबिटीज और मोटापा जैसी समस्याएं बढ़ जाती हैं और इससे लोगों के सोचने-समझने की क्षमता भी कम हो सकती है।

Advertisement
Advertisement
10 / 10

सुबह नाश्ता ना करना

ऐसे लोग जो सुबह ब्रेकफास्ट स्किप करते हैं या खाली पेट घर से बाहर निकल जाते हैं जिससे उनके शरीर में ब्लड शुगर लेवल भी कम हो जाता है। इसकी वजह से ब्रेन तक जरूरी न्यूट्रिएंटस पर्याप्त मात्रा में नहीं पहुंच पाते और पूरे दिन दिमाग को काम करने में दिक्कतें आ सकती हैं।  Also Read - गुस्सैल और जिद्दी है बच्चा? सिखाएं ये 4 बातें जो उसे बना देंगी शांत और पड़ जाएगी सॉरी बोलने की आदत