Sign In
  • हिंदी

Ear piercing: पहली बार जब कराएं ईयर पियर्सिंग, तो यूं रखें बच्चे की स्किन का ख्याल

ईयर पियर्सिंग के बाद, कानों की त्वचा की देखभाल करने के लिए कुछ खास बातों पर ध्यान देना चाहिए। खासकर, छोटे बच्चों को पहली बार ईयर पियर्सिंग कराने के बाद परेशानी होती है। उनकी कोमल त्वचा पर रैशेज़ और जख्म भी हो जाते हैं। इसीलिए, ऐसे में बच्चे की त्वचा का ख्याल रखें इन टिप्स की मदद से।

Written by Sadhna Tiwari |Published : January 5, 2020 4:29 PM IST

कानों में छेद कराने (Post Ear piercing care ) के बाद कई लोगों को तकलीफें होती हैं। इसमें, दर्द के अलावा छेद वाली जगह पर त्वचा में सूजन हो जाती है। जिससे, कई तरीके की परेशानियां होने लगती हैं। इसीलिए, पियर्सिंग के बाद (Post Ear piercing care ) कानों की त्वचा की देखभाल करने के लिए कुछ खास बातों पर ध्यान देना चाहिए। खासकर, छोटे बच्चों को पहली बार ईयर पियर्सिंग कराने के बाद परेशानी होती है। उनकी कोमल त्वचा पर रैशेज़ और जख्म भी हो जाते हैं। इसीलिए, ऐसे में बच्चे की त्वचा का ख्याल रखें इन टिप्स की मदद से। Post Ear piercing care

पहली बार जब कराएं ईयर पियर्सिंग तो यूं रखें बच्चे का ख्याल (Post Ear piercing care):

केवल सोने की बालियां पहनें :

दरअसल, पियर्सिंग के बाद त्वचा में खुजली और इरिटेशन जैसी समस्याएं होती हैं। ऐसे में, धातुओं से बनी इयरिंग्स पहनने से इसकी संभावना और बढ़ जाती है। लेकिन, वहीं सोना या गोल्ड एक ऐसी धातु है। जिससे, बनी इयरिंग्स पहनने से कम इरिटेशन होती है। क्योंकि, इसमें निकल कम मात्रा में मिलाया जाता है और इसीलिए सोने से बनी चीज़ें पहनने से कम इरिटेशन और खुजली होती है।

Diaper Rashes Remedies: जब बच्चे को हों डायपर रैशेज़, तो दर्द और इरिटेशन से राहत के लिए फॉलो करें ये 3 बेबी केयर टिप्स

Also Read

More News

रखें साफ-सफाई का ध्यान:

इंफेक्शन से बचने के लिए कानों की साफ-सफाई का खास ख्याल रखें। अगर, आपने अभी-अभी पियर्सिंग करायी है। तो, कान में कोई भी पुरानी इयरिंग पहनने से पहले उसे साफ कर लें। इयरिंग्स को स्टर्लाइज करें और फिर पहनें। झुमकों और इयरिंग्स की सफाई के लिए गर्म पानी और साबुन का घोल इस्तेमाल करें। सोने-चांदी के इयरिंग्स को भी 20 मिनट तक उबालने के बाद पहनें।

हल्दी का लेप:

पियर्सिंग या कान छिदवाने के बाद कानों की त्वचा पर हल्दी का लेप लगाएं। इसमें, हल्दी के साथ थोड़ा पानी मिलाकर पेस्ट बनाएं और जख्म पर लगाएं। चूंकि, हल्दी में एंटी-सेप्टिक और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं। इसीलिए, इससे जख्म जल्दी भरते हैं और आराम मिलता है।

यह भी पढ़ें- Sugar and Salt for Babies: क्या छोटे बच्चों को नमक और शक्कर खिलानी चाहिए? जानें, कब खिलाना चाहिए बेबीज़ को चीनी और नमक

Total Wellness is now just a click away.

Follow us on