Sign In
  • हिंदी

किशोर बच्चों से खुलकर बात करके उन्हें पोर्न के लत से बचाया जा सकता है

Written by Agencies |Published : February 23, 2015 2:03 PM IST

किशोरहोते बच्चों के साथ पोर्नोग्राफी को लेकर खुलकर बातचीत उन्हें पोर्न की लत से बचा सकती है। एक अध्ययन में यह भी पता चला है कि किशोर होते बच्चों के साथ खुलकर बातचीत करने से वयस्क जीवन के प्रति उन्हें सशक्त बनाने में मदद करता है। ऐसा किए जाने से उनमें आत्मविश्वास बढ़ता है और उन्हें हमउम्र बच्चों के सामने आत्मविश्ववास खोने से बचाता है।

अध्ययेताओं के अनुसार, 'पोर्नोग्राफी के नकारात्मक प्रभावों के बारे में बच्चों से बात करने से उनका आत्मविश्वास बढ़ता है, जो वयस्क होने पर किसी के साथ रिश्ते में होना उनके आत्मबल को नुकसान पहुंचाने से बचाता है।' लुबॉक स्थित टेक्सास टेक यूनिवर्सिटी ने अपने अध्ययन में पाया कि जो अभिभावक नियमित रूप से अपने बच्चों के साथ पोर्नोग्राफी के नकारात्मक प्रभावों के बारे में चर्चा करते हैं, उनके बच्चे बड़े होने पर पोर्नोग्राफी में दिलचस्पी नहीं रखते।

सहायक प्रोफेसर एरिक रैसम्युसेन के अनुसार ये खुलासे दिलचस्प हैं, क्योंकि कई अध्ययनों में यह बात सामने आ चुकी है कि वैवाहिक या प्रेम संबंधों में यदि साथी को पोर्नोग्राफी की लत हो, तो यह दूसरे के लिए खासकर महिलाओं के लिए नुकसानदेह और सदमे जैसा होता है।

Also Read

More News

उन्होंने कहा कि अभिभावकों को अपने बच्चों से पोर्नोग्राफी के बारे में खुलकर बातचीत करनी चाहिए। यह शोध जर्नल चिल्ड्रेन एंड मीडिया में प्रकाशित हुई है।

स्रोत: IANS Hindi

चित्र स्रोत: Getty images


हिन्दी के और आर्टिकल्स पढ़ने के लिए हमारा हिन्दी सेक्शन देखिए।लेटेस्ट अप्डेट्स के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो कीजिए।स्वास्थ्य संबंधी जानकारी के लिए न्यूजलेटर पर साइन-अप कीजिए।

Total Wellness is now just a click away.

Follow us on