Sign In
  • हिंदी

दोपहर की झपकी या नींद से शिशु रात को देर से सोने के आदि हो जाते हैं

Written by Agencies |Updated : April 19, 2017 8:29 PM IST

एक नए शोध में पता चला है कि शिशु के लिए दोपहर की झपकी या नींद उसके सोने की गुणवत्ता को प्रभावित कर सकती है। शोध के अनुसार, दोपहर की झपकी या नींद से शिशु की रात्रि निद्रा का समय प्रभावित होता है। ऑस्ट्रेलिया की क्वींसलैंड यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्नोलॉजी के शोधकर्ता केरेन थोर्पे ने बताया कि उनकी टीम यह पता लगाना चाहती थी कि शिशुओं में दोपहर की नींद का उनकी रात्रि निद्रा की गुणवत्ता, उनके व्यवहार, संज्ञानात्मक और शारीरिक स्वास्थ्य पर क्या प्रभाव पड़ता है।

शोधकर्ताओं ने पाया कि दो साल से ऊपर के बच्चों में दोपहर की नींद का उनकी रात्रि निद्रा पर बुरा प्रभाव पड़ता है। शोध के अनुसार नींद और व्यवहार, विकास एवं संपूर्ण स्वास्थ्य पर पड़ने वाले हानिकारक प्रभाव में अंर्तसबंध है।

यह अध्ययन जर्नल 'अर्काइव्स ऑफ डिजीज इन चाइल्डहुड' के ऑनलाइन संस्करण में प्रकाशित हुआ है। पढ़े- अच्छी नींद आने में गरम दूध कैसे मदद करता है

Also Read

More News

स्रोत: IANS Hindi

चित्र स्रोत: Getty images


Total Wellness is now just a click away.

Follow us on