Sign In
  • हिंदी

Acupuncture: तुर्की में अंतर्राष्ट्रीय एक्यूपंक्चर संगोष्ठी आयोजित, इस चीनी पद्धति से मिलती है दर्द से राहत!

एक्यूपंक्चर चीन की परम्परागत चिकित्सा पद्धति है।

विश्व एक्यूपंक्चर संघ के अध्यक्ष ल्यू बाओयेन ने उद्घाटन समारोह में एक्यूपंक्चर तकनीक के विकास और सुयोग्य व्यक्तियों के प्रशिक्षण पर बल देने, एक्यूपंक्चर के वैज्ञानिक अनुसंधान को मजबूत करने, ज्यादा अच्छी तरह से एक्यूपंक्चर का प्रसार-प्रचार और प्रयोग करने, एक्यूपंक्चर के अंतर्राष्ट्रीय मानकीकरण को बढ़ावा देने की अपील की।

Written by IANS |Published : November 17, 2019 1:43 PM IST

विश्व एक्यूपंक्चर (Acupuncture) संघ, चीनी परंपरागत चिकित्सा विज्ञान अकादमी, और तुर्की एक्यूपंक्च र संघ द्वारा 14 नवंबर को आयोजित वर्ष 2019 अंतर्राष्ट्रीय एक्यूपंक्च र संगोष्ठी तुर्की के एंटाल्या में उद्घाटित हुई। इस बार संगोष्ठी का मुद्दा है -एक्यूपंक्चर और आपूर्ति चिकित्सा पर अंतर्राष्ट्रीय सहमति।(Acupuncture Therapy)

लोगों ने विश्व स्वास्थ्य संगठन के परंपरागत चिकित्सा (Acupuncture Therapy) की रणनीति के आधार पर एक्यूपंक्चर और अन्य परंपरागत चिकित्सा के बुनियादी सिद्धांत, वैज्ञानिक अनुसंधान, नैदानिक अनुभव और विभिन्न क्षेत्रों में प्रयोग पर विचार-विमर्श किया। 39 देशों और क्षेत्रों से आए चिकित्सा, शिक्षा, वैज्ञानिक अनुसंधान और व्यवसाय आदि पक्षों के लगभग एक हजार विशेषज्ञों, विद्वानों ने इस संगोष्ठी में भाग लिया। (Acupuncture Therapy)

विश्व एक्यूपंक्चर संघ के अध्यक्ष ल्यू बाओयेन ने उद्घाटन समारोह में एक्यूपंक्चर तकनीक के विकास और सुयोग्य व्यक्तियों के प्रशिक्षण पर बल देने, एक्यूपंक्च र के वैज्ञानिक अनुसंधान को मजबूत करने, ज्यादा अच्छी तरह से एक्यूपंक्च र का प्रसार-प्रचार और प्रयोग करने, एक्यूपंक्चर के अंतर्राष्ट्रीय मानकीकरण को बढ़ावा देने की अपील की।

Also Read

More News

तुर्की स्थित चीनी दूतावास के सांस्कृतिक कॉउंसिलर शी रेलिन ने उद्घाटन समारोह में भाग लिया। उनके अनुसार इस संगोष्ठी के आयोजन से दोनों देशों का आदान-प्रदान और गहन होगा।

एक्यूपंक्चर क्या है (Acupuncture Therapy) :

एक्यूपंक्चर चीन की परम्परागत चिकित्सा पद्धति है। इस पद्धति में दर्द से राहत दिलाने के लिए सुइयों का इस्तेमाल किया जाता है। इस पद्धति में इस्तेमाल होनेवाली सुइयां विशेष प्रकार की होती हैं। इन सुइयों को शरीर के विशिष्ट स्थानों पर रोमछिद्रों या पोर्स में चुभोया जाता है।

(साभार-चाइना रेडियो इंटरनेशनल, पेइचिंग)

यह भी पढ़ें-  कॉन्स्टिपेशन और पेट से जुड़ी प्रॉब्लम्स रहेंगी दूर, डायबिटीज़ में फॉलो करें ये डायट टिप्स।

Total Wellness is now just a click away.

Follow us on