Advertisement

सिगरेट से चाहते हैं छुटकारा? जानें चेन-स्मोकर अनुराग कश्‍यप ने कैसे किया यह

अनुराग बताते हैं जब वो सिगरेट पीते थे तब बहुत कम खाना खा पाते थे और मोटे भी ज्‍यादा थे।

किसी भी नशे की लत हमारी सेहत पर बुरा असर डालती है। आज के दौर में सिगरेट, शराब और ड्रग्स की बुरी लत के शिकार लोग बहुत जल्द हो जाते हैं। कोई भी लत हो इसकी कीमत शरीर को चुकानी पड़ती है। अगर आप अपने  आस पास देखेंगे तो अक्सर लोगों को इस लत के गिरफ्त में पायेंगे। एक बार किसी को  अगर स्मोकिंग की लत लग गयी तो फिर उससे छुटकारा पाना बहुत ही मुश्किल काम हो जाता है। ऐसा नहीं है कि स्मोकिंग करने वाले लोग नहीं जानते  कि यह हमारे हेल्थ पर बुरा असर डालता है लेकिन फिर भी इस लत को कोई आसानी से छोड़ नहीं पाता है। फिल्म निर्माता अनुराग कश्यप भी इस लत के गिरफ्त में काफी समय से थे।

पिछले 25 साल से अनुराग कश्यप सिगरेट पी रहे थे लेकिन उन्होंने अब इस लत से छुटकारा पाने की ठान ली है। जी सही पढ़ा आपने यह सिर्फ फैसला नहीं है बल्कि कश्यप ने पिछले 40 दिनों से सिगरेट को हाथ भी नहीं लगाया है। उन्होंने इस बात की जानकारी देते हुए अपने इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट शेयर की है।

Also Read

More News

अपने इंस्टाग्राम पर खाने की प्‍लेट की तस्‍वीर शेयर करते हुए अनुराग कश्‍यप ने  लिखा कि जब से उन्‍होंने सिगरेट छोड़ी है तब से उनकी भूख वापस आ गई है। पोस्ट में वो लिखते हैं कि 'सिगरेट छोड़े हुए 40 दिन हो गए हैं और मुझे भुख इस कदर लग रही है कि मैं किसी सुअर की तरह खाना खा रहा हूं। आगे लिखते हैं कि इस खाने के बदले 30 मीटर के स्विमिंग पूल में 93 मिनट तक तीन किलोमीटर तैर कर खाना हजम कर रहा हुं। अनुराग कश्यप बताते हैं जब वो सिगरेट पीते थे तब बहुत कम खाना खा पाते थे और मोटे भी ज्‍यादा थे। इतना ही नहीं इतनी ही दूरी तक एक किलोमीटर तैरने में 40 मिनट लग जाते थे। अब रोज़ाना 90 मीटर तैरने में कोई परेशानी नहीं होती है।

Post Sickness .... getting back to work Photo (not by)@khamkhaphotoartistA post shared by Anurag Kashyap (@anuragkashyap10) on

अनुराग अपना एक्‍सपीरियंस बताते हुए कहते हैं कि अाजकल 'मुझे अपनी सांसें महसूस होती हैं। मेरा गला नहीं फंसता, मैं हर समय खांसता नहीं हूं। उठने पर मेरे सिर में दर्द नहीं होता है और ये सब सिर्फ 40 दिनों में हुआ है। लेकिन हां, कभी-कभी फिर से सिगरेट उठाने का मन करता है। ऐसा तब ज्यादा होता है जब आपके आस-पास लोग सिगरेट पी रहे हों। कश्यप अपना अनुभव बताते हुए लिखते हैं कि मैं पिछले 25 सालों से चेन-स्‍मोकर रहा हूं और जिसने 'नो स्‍मोकिंग' बनाई हो वो यह मानने पर मजबूर है कि सिगरेट उठाए बिना भी जिंदगी बहुत ज्‍यादा अच्‍छी है।

आप भी अनुराग कश्यप के इस फैसले का स्वागत करें और अगर सिगरेट छोड़ना चाहते हैं तो इनसे प्रेरणा लेकर आप भी अपनी इस लत को छोड़ देें।

चित्रस्रोत: instagram.com/anuragkashyap 

Total Wellness is now just a click away.

Follow us on