Sign In
  • हिंदी

उत्तर प्रदेश सरकार ने कोरोना से संबंधित जारी किए नए दिशानिर्देश, सरकारी-निजी कार्यालयों में 50% कर्मचारी करेंगे काम

उत्तर प्रदेश सरकार ने कोरोना से संबंधित जारी किए नए दिशानिर्देश, सरकारी-निजी कार्यालयों में 50 फीसद कर्मचारी करेंगे काम

उत्तर प्रदेश में कोरोना के बढ़ते मामलों पर रोक लगाने के लिए यूपी सरकार ने नई गाइडलाइंस जारी की हैं। पढ़ें यहां किन बातों का रखना होगा ख्याल....

Written by Anshumala |Updated : January 10, 2022 9:32 PM IST

Covid New Guidelines in UP: उत्तर प्रदेश सरकार ने कोविड के प्रसार (Corona spread in UP) को रोकने के लिए तत्काल प्रभाव से अतिरिक्त प्रतिबंध लगाए हैं। सरकारी प्रवक्ता के अनुसार, सभी सरकारी और निजी कार्यालय एक बार में 50 प्रतिशत क्षमता के साथ काम करेंगे। सरकार वर्क फ्रॉम होम मॉड्यूल को भी प्रोत्साहित कर रही है और ट्रांसमिशन के स्तर को नीचे लाने के लिए कार्यस्थल पर रोटेशन सिस्टम लागू करने का आग्रह किया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को एक उच्च स्तरीय बैठक में वरिष्ठ अधिकारियों के साथ राज्य में कोविड की स्थिति की समीक्षा करते हुए कहा है कि 'जीवन और आजीविका' दोनों को बचाने के प्रयास किए जाने चाहिए।

उन्होंने वर्क फ्रॉम होम कल्चर को बढ़ावा देने की आवश्यकता को रेखांकित करते हुए कहा कि काम में कोई असुविधा न हो, उन्होंने कार्यालयों में रोटेशन सिस्टम लागू करने के भी निर्देश दिए। राज्य सरकार के नए कोविड नियंत्रण दिशा-निर्देशों के अनुसार, यदि निजी क्षेत्र के कार्यालयों में कार्यरत कोई कर्मचारी कोविड पॉजिटिव निकलता है, तो उसे भी वेतन में बिना किसी कटौती के 7 दिन का अवकाश दिया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने यह भी निर्देश दिए कि जनपदों में इंटीग्रेटेड कोविड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर (आईसीसीसी) को 24 घण्टे एक्टिव रखा जाए। पूर्व की भांति वहां नियमित बैठकें आयोजित की जाएं। आईसीसीसी में विशेषज्ञ चिकित्सकों का पैनल मौजूद रहे। लोगों को टेलीकन्सल्टेशन की सुविधा दी जाए।

Also Read

More News

आईसीसीसी हेल्पनंबर सार्वजनिक कर इसका व्यापक प्रचार-प्रसार किया जाए। ताकि लोग किसी जरूरत पर तत्काल वहां संपर्क कर सकें। उन्होंने कहा कि निगरानी समिति और इंटीग्रेटेड कोविड कमांड सेंटर को पूरी तरह सक्रिय किया जाए। गांवों में प्रधान के नेतृत्व में और शहरी वाडरे में पार्षदों के नेतृत्व में निगरानी समितियां क्रियाशील रहें। घर-घर संपर्क कर बिना टीकाकरण वाले लोगों को चिन्हित किया जाए। उनकी सूची जिला प्रशासन को दी जाए। जरूरत के मुताबिक लोगों को मेडिसिन किट उपलब्ध कराई जाए। कोविड के उपचार में उपयोगी जीवनरक्षक दवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित कर ली जाए।

अतिरिक्त मुख्य सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि राज्य में सोमवार को कुल 8,334 नए मरीज कोरोना पॉजिटिव पाए गए।

वर्तमान में कुल सक्रिय मामलों की संख्या 33,946 है, जिसमें से 33,563 लोग होम आइसोलेशन में हैं।

स्रोत : (IANS Hindi)

Total Wellness is now just a click away.

Follow us on