Sign In
  • हिंदी

हिमाचल में दो और लोगों की स्‍वाइन फ्लू से मौत, जानिए कैसे फैल रहा है संक्रमण

2018 में इस बीमारी से मरने वालों की संख्या दो थी। हिमाचल प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री विपिन परमार ने मंगलवार को विधानसभा को यह जानकारी दी। ©Shutterstock.

2018 में इस बीमारी से मरने वालों की संख्या दो थी। हिमाचल प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री विपिन परमार ने मंगलवार को विधानसभा को यह जानकारी दी।

Written by Editorial Team |Published : February 5, 2019 7:11 PM IST

स्वाइन फ्लू ने इस साल अब तक हिमाचल प्रदेश में 16 लोगों की जान ले ली है। 2018 में इस बीमारी से मरने वालों की संख्या दो थी। हिमाचल प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री विपिन परमार ने मंगलवार को विधानसभा को यह जानकारी दी।

परमार के मुताबिक सोमवार को दो लोगों की मौत स्वाइन फ्लू से हुई।

यह भी पढ़ें - सर्दियों में बढ़ जाता है स्‍वाइन फ्लू का खतरा, जानें इसके लक्षण और बचाव के उपाय

Also Read

More News

राज्य में स्वाइन फ्लू की स्थिति को लेकर पूछे गए सवाल के जवाब में परमार ने कहा कि कांगड़ा और शिमला जिलों में क्रमश: 36 और 33 पाजीटिव मामले पाए गए हैं। राज्य भर में कुल 113 मामले सामने आए हैं।

स्वाइन फ्लू से पीड़ित 21 लोगों का यहां के इंदिरा गांधी मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल में इलाज चल रहा है जबकि आठ लोग टांडा शहर में स्थित डॉ. राजेंद्र प्रसाद गर्वमेंट मेडिकल कॉलेज में भर्ती हैं।

स्वाइन फ्लू और जुकाम में अंतर कैसे करना चाहिए, क्या आप जानते हैं ?

साल 2018 में राज्य में स्वाइन फ्लू से सिर्फ दो लोगों की मौत हुई थी जबकि 2017 में यह संख्या 17 थी। इसी तरह 2016 में पांच और 2015 में सात लोग इस बीमारी से मरे थे।

राज्य में स्वाइन फ्लू का पहला मामला 2009 में प्रकाश में आया था।

यह भी पढ़ें - इन घरेलू नुस्‍खों से दे सकते हैं स्‍वाइन फ्लू को मात

ऐसे फैलता है स्‍वाइन फ्लू

नमी के मौसम में संक्रामक वायरस सक्रिय हो जाते हैं। जिस वजह से स्वाइन फ्लू जैसी बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। देश भर में लगातार सामने आ रहे स्‍वाइन फ्लू के मामलों के कारण लोगों में इस बीमारी के खतरे के प्रति एक बार फि‍र से डर फैल गया है। स्वाइन फ्लू को H1N1 के नाम से भी जाना जाता है। ये एक तरह का संक्रमण है जो इंफ्लूएंजा ए वायरस के कारण फैलता है। ये वायरस मुख्यत: सूअरों में पाया जाता है और इनसे ही इंसानों में फैलता है। इंसानों में ये एक से दूसरे में काफी तेजी से फैलता है। इस बीमारी के वायरस को नमी की जरूरत होती है इसलिए ये ठंड और बरसात के दिनों में तेजी से फैलता है।

बच्‍चों और बीमारों को होता है ज्‍यादा खतरा

स्वाइन फ्लू का सबसे ज्यादा खतरा बच्चों, बुजुर्गों और गर्भवती महिलाओं को होता है। जिन लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होती है वो भी तेजी से इस वायरस की चपेट में आ जाते हैं। इस बीमारी के लिए अभी तक कोई वैक्सीन नहीं बनी है। इसलिए ठंड और बरसात के मौसम में इससे बचने के लिए अतरिक्त सावधानी रखने की जरुरत होती है।

इन लक्षणों को पहचानें

  • स्वाइन फ्लू के रोगी को सर्दी जुकाम बना रहता है और नाक लगातार वहती रहती है।
  • शरीर की मांसपेशियों में दर्द और अकड़न बनी रहती है।
  • सिर में बहुत तेज दर्द होता है और लगातार खांसी आती रहती है।
  • बुखार आता है और इलाज के बाद भी ठीक नहीं होता है।
  • गले में खराश हो जाती है और बहुत ज्यादा थकान महसूस होती है।

Total Wellness is now just a click away.

Follow us on