Advertisement

करनी है मुंह की पूरी सफाई,  तो टूथब्रश की जगह इस्‍तेमाल करें यह चीज

इससे न सिर्फ दांत साफ होते हैं, बल्कि जीभ और मुंह का अंदरूनी हिस्‍सा भी कीटाणुमुक्‍त होता है।

टूथब्रश बाजार में आने से पहले, भारतीयों ने दांतों को ब्रश करने के लिए नीम की दातुन प्रयोग में लाते थे, इसे दातुन भी कहते हैं। ग्रामीण अंचलों में आज भी लोग नीम की दातुन ही करते हैं। क्योंकि वे मौखिक स्वच्छता बनाए रखने में एक बेहतर काम करते हैं। यह वास्तव में एक बहुत स्वस्थ अभ्यास है। कुछ अध्ययनों का यह भी दावा है कि जो लोग नीम का दातुन करते हैं वह कुछ दंत समस्याओं के जोखिम को कम कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें - बच्‍चों के लिए उत्‍तम आहार है राजगिरा, खिलाएं इसके लड्डू

दरअसल नीम के पेड़ में 130 से अधिक सक्रिय यौगिक मौजूद होते हैं। यही कारण है कि नीम के पेड़ के लगभग सभी हिस्से उपयोगी होते हैं। नींम की छाल, पत्तियां, टहनियां आदि में औषधीय गुण पाए जाते हैं। नीम में एंटी-कैंसरजन्य, एंटी-बैक्टीरिया, एंटीसेप्टिक, एंटीमाइमरियल, एंटी-वायरल और एंटीऑक्सीडेंट गुण भी होते हैं। यदि आप हैरान हैं, तो यहां नीम की छड़ें और दंत स्वास्थ्य में उनकी भूमिका के बारे में कुछ और तथ्य हैं जिसके बारे में आप जान सकते हैं।

Also Read

More News

औषधीय गुणों से भरपूर -  नीम की टहनियों में औषधीय गुण होते हैं। दांत साफ करने के लिए पहले इनके कोनों को चबाया जाता है। इस प्रक्रिया के दौरान, चबाने वाले कोने ब्रश के ब्रिस्टल की तरह काम करते हैं। वे दांतों के कोनों को साफ करते हैं।

यह भी पढ़ें – जानें क्‍या है जूस क्लिंज, कैसे करता है सेहत पर असर

एंटी-माइक्रोबियल -  चूंकि नीम में एंटी-माइक्रोबियल गुण होते हैं, इसे चबाने से प्लाक गठन को रोका जा सकता है। नीम का कड़वा स्वाद भी बुरी सांस से लड़ता है। सांसों की दुर्गंध को दूर करता है

यह भी पढ़ें – लो कार्ब्‍स डायट का भारतीय फॉर्मूला है ‘फलाहार’

दांतों का पीलापन दूर करता है - नीम में मौजूद केमिकल दांतों के पीलेपन को दूर करता है। जो काम टूथपेस्‍ट नहीं कर सकते उससे कई गुना ज्‍यादा लाभ नीम की दातुन करती है।

ऐसे करें प्रयाेेेग  

  • आम तौर पर, पतले और लचीले टहनियों का उपयोग किया जाता है। छड़ की लंबाई लगभग 15 सेमी हो सकती है। टहनी की त्वचा छील जाती है। इसे एक कोने में चबाया जाना चाहिए। टहनी के तंतुओं को थोड़ा ढीला करके ब्रश की तरह काम करते हैं।
  • चबाने की प्रक्रिया भी महत्वपूर्ण है क्योंकि यह नीम टहनियों में मौजूद औषधीय एजेंटों को रीलीज करती है। नीम की चोटी के बाद गुप्त होने वाला लार आपकी जीभ के संपर्क में आता है जिसमें एंटीबैक्टीरियल एजेंट होते हैं जो आपके मुंह में हानिकारक सूक्ष्म जीवों को मार देते हैं। यह अभ्यास भी सूजन को कम करता है। चबाने के बाद अंत में लार थूकें।
  • अपने दांतों को साफ करने के लिए दातुन को घुमाने पर, बहुत सावधान रहें क्योंकि फाइबर की कठोरता आपके नाजुक मसूड़ों को चोट पहुंचा सकती है। दांतों को ब्रश करने के बाद, अपने दांतों में फंसने वाले तंतुओं को थूक दें।
  • आप केवल एक बार टहनी का उपयोग कर सकते हैं। ब्रशिंग खत्म करने के बाद, आप टहनी को विभाजित कर सकते हैं और इसे जीभ क्लीनर के रूप में उपयोग कर सकते हैं।

Total Wellness is now just a click away.

Follow us on