Advertisement

दिल्‍ली-एनसीआर में बढ़ रहे हैं स्‍वाइन फ्लू के मामले, रहें सावधान

एक जनवरी से अब तक आरएमएल हॉस्पिटल में स्वाइन फ्लू से 6 लोगों की जान जा चुकी है, जबकि पिछले साल केवल दो लोगों की मौत हुई थी।

दिल्ली-एनसीआर में स्वाइन फ्लू यानी H1N1वायरस तेजी से फैल रहा है। नए साल का एक महीना भी नहीं हुआ है और राजधानी दिल्ली में 267 मामलों की पुष्टि हो चुकी है। जबकि पिछले पूरे साल में 205 मामले सामने आए थे। एक जनवरी से अब तक आरएमएल हॉस्पिटल में स्वाइन फ्लू से 6 लोगों की जान जा चुकी है, जबकि पिछले साल केवल दो लोगों की मौत हुई थी। बता दें कि राजस्थान में स्वाइन फ्लू की स्थिति गंभीर है और वहां अब तक 70 लोगों की मौत हो चुकी है। इसके साथ ही गुजरात के बडोदरा में पांच और उत्तराखंड में 13 लोगों के मौत की पुष्टि हुई है।

यह भी पढ़ें - स्‍वाइन फ्लू से बचना है, तो इन दिनों न मिलें किसी से गले

इस साल न सिर्फ H1N1 के मामले तेजी से सामने आ रहे हैं बल्कि वायरस का खतरनाक रूप भी दिख रहा है। इलाज के बाद भी अब तक कई लोगों की मौत हो चुकी है। कई अलग-अलग प्राइवेट हॉस्पिटल में भी मौतें हुई हैं। हालांकि, नैशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल (NCDC) की तरफ से जारी रिपोर्ट में अभी तक दिल्ली में एक भी मौत को आंकड़ों में शामिल नहीं किया गया है।

Also Read

More News

यह भी पढ़ें – सर्दियों में बढ़ जाता है स्‍वाइन फ्लू का खतरा, जानें इसके लक्षण और बचाव के उपाय

 नोएडा में 13 लोगों में स्वाइन फ्लू की पुष्टि

एनसीआर में भी स्वाइन फ्लू का प्रकोप तेजी से बढ़ रहा है। सबसे ज्यादा केस गुरुग्राम में आए हैं, जहां 56 लोगों में इसकी पुष्टि हुई है। फरीदाबाद में 43 तो गाजियाबाद में स्वाइन फ्लू के 33 कन्फर्म मरीज सामने आ चुके हैं। नोएडा में 13 लोगों में स्वाइन फ्लू की पुष्टि हुई है। हालांकि इन शहरों में स्वास्थ्य विभाग ने इस साल इससे किसी की मौत की पुष्टि नहीं की है।

स्वाइन फ्लू वीडियो: स्वाइन फ्लू होने पर क्या करना चाहिए और क्या नहीं ?

राजस्थान में सबसे ज्‍यादा कहर 

राजस्थान में स्वाइन फ्लू से पीड़ित तीन और लोगों की शनिवार को मौत होने के साथ इस साल इस रोग से मरने वालों की संख्या बढ़ कर 70 हो गई है। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार स्वाइन फ्लू के चलते शुक्रवार को पांच और शनिवार को तीन रोगियों की मौत हो गई। इस साल एक जनवरी से अब तक स्वाइन फ्लू से राज्य में 70 मौतें हो चुकी हैं। इस बीच राज्य भर में 84 और रोगियों में इस रोग की पुष्टि हुई है। इनमें जयपुर में 37, उदयपुर में 12, जोधपुर में 10 और बीकानेर में चार रोगी शामिल हैं। राज्य में अब तक कुल 1787 लोगों में स्वाइन फ्लू की पुष्टि हो चुकी है।

यह भी पढ़ें – 11 की मौत के बाद उत्‍तराखंड में स्‍वाइन फ्लू अलर्ट, जरूरी है बचाव

गुजरात के वडोदरा में 5 की मौत

गुजरात के वडोदरा में रविवार को एक 54 वर्षीय शख्स की मौत के साथ ही शहर में इस साल अबतक इस बीमारी से मरने वालों की संख्या बढ़कर 5 हो गई है। इसके अलावा तीन महिला और दो पुरुष H1N1 वायरस से पीड़ित पाए गए हैं। एक जनवरी से अबतक शहर में स्वाइन फ्लू के 40 मामले सामने आ चुके हैं।

उत्तराखंड में भी बरपा स्वाइन फ्लू का कहर

उत्तराखंड के उत्तरकाशी में एक 28 वर्षीय महिला की स्वाइन फ्लू से मौत हो गई। पिछले 25 दिनों में इस खतरनाक बीमारी से मरने वालों की संख्या बढ़कर 13 हो गई है। राज्य में अबतक 42 लोग स्वाइन फ्लू से पीड़ित पाए गए हैं।

इस मौसम में ज्‍यादा एक्टिव है वायरस 

विशेषज्ञों की मानें तो अभी का मौसम स्वाइन फ्लू के लिए अनुकूल है, इसलिए यह तेजी से फैल रहा है। चूंकि यह सांस से एक से दूसरे में फैलता है तो अगर किसी परिवार में एक को होता है तो पूरा परिवार इसका शिकार हो सकता है। यह वायरस साल में दो बार ऐक्टिव होता है- ठंड में और बारिश में। कुछ सालों से यह वायरस अब हमारे वातावरण में फैल चुका है। बहुत से लोगों में यह सामान्य इन्फ्लूएंजा की तरह बिहेव करता है और कई बार वायरस का स्ट्रेन ही बदल जाता है।

वैक्सीन से ही है बचाव संभव

वायरस से बचना है तो वैक्सीन ही इलाज है, अभी रिस्क वाले मरीजों को वैक्सीन लगवा लेना चाहिए।  एक बार वैक्सीन लगाने के बाद लगभग दो हफ्ते बाद यह इफेक्टिव होता है। 65 साल से अधिक उम्र के लोग, प्रेग्नेंट महिलाएं, डायबीटीज, अस्थमा के मरीज और एक साल से छोटे बच्चे को सबसे ज्यादा खतरा है, इसलिए जहां तक संभव है अभी भीड़भाड़ वाली जगहों पर जाने से बचें।

Total Wellness is now just a click away.

Follow us on