Sign In
  • हिंदी

कैंसर के प्रभाव से अवगत कराएगा 'कैंसर स्क्रीनिंग' कार्यक्रम

प्रीवेंटिव ओन्कोलॉजी कैंसर को रोकने और शुरुआती चरण में कैंसर का पता लगाने के लिए कारगर है।

Written by Editorial Team |Updated : May 31, 2018 2:39 PM IST

विश्व तंबाकू निषेध दिवस 2018 के मौके पर तंबाकू के कारण होने वाले हानिकारक प्रभावों के बारे में तथा कैंसर के बारे में लोगों को अवगत कराने के लिए राजीव गांधी कैंसर इंस्टीट्यूट एवं अनुसंधान केंद्र (आरजीसीआईआरसी) ने कैंसर स्क्रीनिंग कार्यक्रम शुरू किया है। आरजीसीआईआरसी का यह नि:शुल्क ओरल कैंसर स्क्रीनिंग कार्यक्रम सात जून 2018 तक जारी रहेगा। तम्बाकू खाने एवं धूम्रपान करने वाले लोगों पर विशेष रूप से ध्यान केंद्रित किया जाएगा। कैंसर एक जानलेवा बीमारी है जिसका मुख्य कारण तम्बाकू है।

इस कार्यक्रम का लक्ष्य कैंसर का शुरुआती चरण में ही पता लगाकर उसका सफलतापूर्वक इलाज करना है। आरजीसीआईआरसी की नवीनतम कैंसर रजिस्ट्री के अनुसार, पुरुषों में 40 फीसदी और महिलाओं में 12 फीसदी कैंसर के मामले तम्बाकू सेवन के देखे गये हैं।

आरजीसीआईआरसी के मेडिकल डायरेक्टर डॉ. सुधीर रावल बताते हैं, "स्वस्थ जीवनशैली कैंसर रोकथाम की कुंजी है और तम्बाकू सेवन छोड़ते हुए, अच्छी स्वास्थ्य आदतें अपनाकर सभी कैंसर केस के लगभग दो तिहाई कैंसर केस को रोका जा सकता है।"

Also Read

More News

डॉ. रावल बताया कि "आरजीसीआईआरसी की प्रीवेंटिव ओन्कोलॉजी ओपीडी में तीन सबसे आम कैंसर, स्तन, गर्भाशय एवं ग्रीवा कैंसर के लिए सबसे कम दरों पर स्क्रीनिंग की जाती है। नियमित ओपीडी सोमवार से शनिवार तक डॉ. जय गोपाल शर्मा और डॉ. इंदु अग्रवाल द्वारा आयोजित की जाती है।"

डॉ. रावल ने बताया, "70 प्रतिशत से अधिक कैंसर के मामले लास्ट स्टेज में डायग्नोसिस हो पाते हैं, जिसके परिणामस्वरूप रोगी के बचने की उम्मीदें काफी कम होती हैं।" उन्होंने कहा, "प्रीवेंटिव ओन्कोलॉजी कैंसर को रोकने और शुरुआती चरण में कैंसर का पता लगाने के लिए कारगर है।"

स्क्रीनिंग अभियान के दौरन नि:शुल्क तंबाकू समाप्ति परामर्श सत्र भी जारी रहेगा ताकि तंबाकू सेवन करने वालों को इसकी लत छोड़ने के लिए प्रेरित किया जा सके।

डॉ. रावल ने कहा, "तंबाकू नशे की लत है और तंबाकू सेवन करने वालों के लिए खुद से छोड़ना मुश्किल है। ऐसे में तंबाकू पर निर्भरता को दूर करने के लिए प्रेरणा और समर्थन महत्वपूर्ण है।"

आरजीसीआईआरसी के प्रमुख कार्यकारी अधिकारी डी.एस. नेगी ने कहा, "कैंसर के इलाज के लिए विश्व स्तर की सुविधाएं प्रदान करने के अलावा आरजीसीआईआरसी कैंसर की रोकथाम पर ध्यान केंद्रित करता है। हम स्वस्थ भारत दृष्टिकोण के साथ आने वाले वर्षो में जागरूकता के माध्यम से कैंसर की रोकथाम के लिए निरंतर प्रयास करेंगे।"

स्रोत:IANS Hindi.

चित्रस्रोत:Shutterstock.

Total Wellness is now just a click away.

Follow us on