• हिंदी

चीन में निमोनिया के मामलों ने बढ़ायी चिंता, भारतीय डॉक्टरों ने की हाइजिन मेंटेन करने की अपील

चीन में निमोनिया के मामलों ने बढ़ायी चिंता, भारतीय डॉक्टरों ने की हाइजिन मेंटेन करने की अपील

भारत के केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि भारत चीन में इन्फ्लूएंजा की स्थिति से जुड़ी किसी भी आपात स्थिति के लिए तैयार है।

Written by Sadhna Tiwari |Updated : November 25, 2023 9:33 AM IST

Pneumonia in china: चीन में निमोनिया के मरीजों की बढ़ती संख्या और लगातार गम्भीर हो रही स्थिति ने ना केवल लोगों बल्कि हेल्थ एक्सपर्ट्स की भी चिंता बढ़ा दी है। वहीं, भारत में भी डॉक्टर लगातार स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं। चीन जैसी स्थिति से बचने के लिए डॉक्टरों ने लोगों से साफ-सफाई के साथ-साथ अन्य सावधानियां बरतने की अपील की है।

इंटरनेशनल सोसायटी फॉर इंफेक्शस डिजीज की ऑनलाइन रिपोर्टिंग प्रणाली, प्रोमेड मेल पर हाल में ही एक पोस्ट की गयी जिसमें बताया गया है कि चीन में बच्चों में निमोनिया के मामले एक बड़े प्रकोप के तौर पर दिखायी दे रहे हैं। इतनी भारी संख्या में निमोनिया के मामलों का सही कारण पता नहीं चल सका है। रिपोर्ट में कहा गया है कि इस बीमारी में तेज बुखार लक्षण के तौर पर दिखायी दे रहा है और कुछ बच्चों में पल्मोनरी नोड्यूल भी दिखायी दे रहा है। बच्चों में निमोनिया की वजह से देश के सभी चिल्ड्रेन हॉस्पिटल्स में बहुत दबाव भी बढ़ा है।

भारत में खतरा कितना ?

गुरुवार को, भारत के केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि उनकी टीम उत्तरी चीन में H9N2 ( एच9एन2) मामलों और बच्चों में श्वसन संबंधी बीमारी के बड़े पैमाने पर फैलने की खबरों और सभी रिपोर्ट्स पर बारीकी से नजर रख रही है।

Also Read

More News

मंत्रालय की तरफ से जारी बयान में कहा गया है, चीन से रिपोर्ट किए गए एवियन इन्फ्लूएंजा मामले के साथ-साथ श्वसन संबंधी बीमारी के समूहों से भारत को फिलहाल खतरा कम है। बयान में यह कहा है कि देश चीन में इन्फ्लूएंजा की स्थिति से जुड़ी किसी भी आपात स्थिति के लिए तैयार है।

हालांकि, डॉक्टरों ने लोगों से अपील की है कि वे घबराएं नहीं, हाथों को बार-बार साबुन पानी से साफ करें और इन्फ्लूएंजा की वैक्सीन लगवाने जैसे उपाय अपनाएं।

सकरा वर्ल्ड हॉस्पिटल के पल्मोनोलॉजी और क्रिटिकल केयर मेडिसिन के वरिष्ठ सलाहकार सचिन कुमार ने कहा, कोविड की बीमारी मुख्य रूप से वयस्कों को प्रभावित करती है, लेकिन चीन में फैला न्यू निमोनिया का प्रकोप कोविड के उलट बच्चों को प्रभावित कर रहा है और यही सबसे बड़ी चिंता की बात है। बीमारी के बारे में उपलब्ध सीमित जानकारी को देखते हुए इन बातों को प्राथमिकता देना आवश्यक है-

  • हाथ की साफ-सफाई
  • इन्फ्लूएंजा टीकाकरण
  • प्रभावित बच्चों को आइसोलेशन में रखें
  • फेस कवर करके बाहर निकलना