Sign In
  • हिंदी

साल भर इस बीमारी से सबसे ज्‍यादा परेशान रहे लोग

आप भी जरूर जानना चाहेंगे कि साल भर लोग सबसे ज्‍यादा किस बीमारी से परेशान रहे। असल में यह बीमारी ऐसी है कि जिससे हम परेशान तो रहे पर इसका निदान करने की बजाए हम इसमें इजाफा ही करते रहे। ©Shutterstock.

आप भी जरूर जानना चाहेंगे कि साल भर लोग सबसे ज्‍यादा किस बीमारी से परेशान रहे। असल में यह बीमारी ऐसी है कि जिससे हम परेशान तो रहे पर इसका निदान करने की बजाए हम इसमें इजाफा ही करते रहे।

Written by Yogita Yadav |Published : December 20, 2018 7:37 PM IST

साल के अंत में तमाम क्षेत्रों में साल भर हुई हलचलों का आंकलन किया जा रहा है। ऐसे में सेहत का क्षेत्र कैसे बचा रह सकता है। आप भी जरूर जानना चाहेंगे कि साल भर लोग सबसे ज्‍यादा किस बीमारी से परेशान रहे। असल में यह बीमारी ऐसी है कि जिससे हम परेशान तो रहे पर इसका निदान करने की बजाए हम इसमें इजाफा ही करते रहे। जबकि कुछ लोगों ने इसे चैलेंज के रूप मे लिया और इससे निजात पाई। यह भी पढ़ें - कितनी देर तक सुरक्षित है एल्‍युमीनियम फॉइल में रखा खाना

ये है वह बीमारी

ओबेसिटी या मोटापा ऐसी स्थिति है, जिसमें व्यक्ति का वजन इतना ज्यादा हो जाता है कि इसका बुरा असर उसकी सेहत पर पड़ने लगता है। वजन बढ़ने से लोग सबसे ज्‍यादा परेशान रहते हैं। इस साल भी यही हुआ। जब व्यक्ति जरूरत से ज्यादा कैलरी का सेवन करता है तो यह अतिरिक्त कैलरी फैट के रूप में शरीर में जमा होने लगती है। ओबेसिटी का निदान मरीज की शारीरिक जांच एवं उसके इतिहास के आधार पर किया जाता है। मोटापे के कारण बीमारियों के संभावना की जांच के लिए व्यक्ति के बीएमआई (बॉडी मास इंडेस्क) का मापन किया जाता है।

Also Read

More News

यह भी पढ़ें – माथे पर खुजली से हैं परेशान, तो करें ये उपाय

क्या हैं मोटापे के लक्षण और कारण जीन इस बात के निर्धारण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं कि आपके शरीर में कहां और कितना वसा जमा होगा। शारीरिक रूप से निष्क्रिय व्यक्ति में वजन बढ़ने से आर्थराइटिस, दिल, लिवर व ब्लड प्रेशर की बीमारियां हो सकतीं हैं। अगर किसी व्यक्ति के माता-पिता में से एक या दोनों मोटापे का शिकार हैं तो बच्चों में मोटापे की संभावना बढ़ जाती है। कैलरी युक्त आहार, जंक फूड, पेय पदार्थों का अधिक सेवन करने तथा फलों और सब्जियों का सेवन कम करने से व्यक्ति मोटापे का शिकार हो सकता है। मोटापा किसी भी उम्र में, यहां तक कि छोटे बच्चों में भी हो सकता है।

यह भी पढ़ेें –कहीं आप भी तो नहीं करते सुबह-सुबह ये गलतियां ? उम्र से पहले हो जाएंगे बूढ़े

किन किन रोगों की वजह हो सकता है मोटापा

मोटापा कई बीमारियों के कारण भी हो सकता है। कुछ दवाओं के कारण भी कई बार व्यक्ति का वजन बढ़ जाता है। ऐसे में आपको आहार और व्यायाम पर ध्यान देना चाहिए। गर्भावस्था में महिलाओं का वजन बढ़ना अनिवार्य है। लेकिन, कई बार यह बाद में मोटापे का कारण बन जाता है। पूरी नींद न लेने से शरीर में हॉर्मोनल बदलाव होते हैं, जिससे भूख बढ़ती है।

यह भी पढ़ेें – पेरेंट्स के साथ खाएंगे खाना, तो हेल्‍दी रहेंगे बच्‍चे

मोटापे के कारण स्ट्रोक,  कैंसर, प्रजनन क्षमता में कमी,  दिल, ऑस्ट्रियोआर्थराइटिस, टाइप 2 डाइबिटीज,  पित्ताशय की बीमारी, सांस, उच्च रक्तचाप, लिवर में मोटापा,  नर्व डिसऑर्डर जैसी कई गंभीर बीमारियां हो सकती हैं।

यह भी पढ़ें – सर्दियों में गर्म पानी से नहाना नष्‍ट कर सकता है पुरुषों की ताकत

मोटापे से बचने के उपाय

- नियमित व्यायाम से आप अपना वजन नियन्त्रण में रख सकते हैं।

- तेज चलना, तैरना और साइकल चलाना अच्छे व्यायाम हैं।

-दिन में तीन बार नियमित आहार लें। कुछ लोग भूख लगने पर किसी भी समय खाते हैं। वे बिना समय मीठे व्यंजनों और जंकफूड का सेवन करते हैं।

- कम कैलरी युक्त आहार, फल, सब्जियों और साबुत अनाज का सेवन करें।

- मिठाई, अल्कोहल का सेवन सीमित मात्रा में करें।

- सैचुरेटेड फैट के सेवन से बचें।

- रोजमर्रा के जीवन में पानी का पर्याप्त सेवन करना चाहिए।

- खीरे, नींबू, अदरक, पुदीने का रस वजन घटाने, विशेष रूप से पेट से फैट कम करने में मददगार है।

- फैट कम करने में ग्रीन टी, बैरीज, मेवे, दही, दालें, ओट, अंडा, फैटी फिश का सेवन भी मददगार साबित हो सकता है।

Total Wellness is now just a click away.

Follow us on