Sign In
  • हिंदी

स्मोकिंग नहीं इन 2 चीजों से भी आप हो जाएंगे जल्दी बूढ़े, स्टडी में दावा इन 2 काम से तेजी से बढ़ती है उम्र

स्मोकिंग नहीं इन 2 चीजों से भी आप हो जाएंगे जल्दी बूढ़े, स्टडी में दावा इन 2 काम से तेजी से बढ़ती है उम्र

वैज्ञानिकों ने ये पता लगाने कि कोशिश की क्या अकेलेपन का प्रभाव, खराब नींद और दुख किसी व्यक्ति को तेजी से बूढ़ा बनाने का काम करते हैं।

Written by Jitendra Gupta |Published : October 2, 2022 12:12 PM IST

अमेरिका और चीन के वैज्ञानिकों ने साथ मिलकर एक ऐसा अध्ययन किया है, जो आपके होश उड़ा सकता है। वैज्ञानिकों ने ये पता लगाने कि कोशिश की क्या अकेलेपन का प्रभाव, खराब नींद और दुख किसी व्यक्ति को तेजी से बूढ़ा बनाने का काम करते हैं। इस अध्ययन के निष्कर्षों में उन्होंने पाया कि ये सभी कारक एक व्यक्ति को एजिंग का शिकार बनाते हैं। मॉलीक्युलर क्षति के बढ़ने से होने वाली एजिंग कई गंभीर बीमारियों और दोष से जुड़ी हुई है। कुछ लोगों की मॉलीक्युलक प्रक्रिया दूसरों के मुकाबले बहुत ज्यादा होती है, जिसकी वजह से बहुत जल्दी बूढ़े हो जाते हैं।

कई काम आ सकती है ये थेरेपी

वैज्ञानिकों ने एजिंग के डिजिटल मॉडल का प्रयोग कर एजिंग की रफ्तार का पता लगाने की कोशिश की है ताकि इस प्रक्रिया को उसकी चरम सीमा पर पहुंचने से रोका जा सके। इन मॉडल को लोगों और बड़ी आबादी के लिए एंटी-एजिंग थेरेपी विकसित करने के लिए भी यूज किया जा सकता है।

चीनी लोगों पर किया गया अध्ययन

एजिंग-यूएस में प्रकाशित एक हालिया अध्ययन में ये सामने आया है कि एंटी-एजिंग थेरेपी किसी के भी मानसिक व शारीरिक स्वास्थ्य से जुड़ी समस्या को हल कर सकता है। इस अध्ययन में 11,914 चीनी लोगों के ब्लड और बायोमैट्रिक डेटा का यूज कर बहुत सारे परिणाम निकाले गए हैं।

Also Read

More News

ये कारक हैं जिम्मेदार

अध्ययन के मुताबिक, वे लोग जिन्हें अतीत में स्ट्रोक, लिवर और फेफड़ों से जुड़ी बीमारियां थी या फिर वे लोग, जो धूम्रपान करते हैं और बहुत ज्यादा मात्रा में करते हैं उन लोगों में दूसरे लोगों की तुलना में बुढ़ापा जल्दी आता है। इसके अलावा अध्ययन में ये पाया गया कि अगर आप आशाहीन, नाखुश और अकेला महसूस करते हैं उन्हें धूम्रपान के मुकाबले जल्दी बुढापा कैरी करने की संभावना होती है।

इन लोगों को भी बुढ़ापे का खतरा

अगर आप अकेले रहते हैं या फिर ग्रामीण इलाकों में बिना किसी चिकित्सीय सुविधा के रहते हैं उन्हें जल्दी बुढ़ापे का शिकारहोने की संभावना होती है।

इन 2 कारकों को नकारा जाता है

स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी की प्रोफेसर मैनुअल फारिया का कहना है कि मानसिक और मनोवैज्ञानिक दशा एक व्यक्ति के स्वास्थ्य और जीवन की गुणवत्ता के सबसे प्रमुख संकेतक होते हैं। लेकिन इन्हीं कारकों को आधुनिक स्वास्थ्य देखभाल में सबसे ज्यादा नजरअंदाज किया जाता है।

Total Wellness is now just a click away.

Follow us on