• हिंदी

ब्रिटेन में मंकीपॉक्स संक्रमितों को 21 दिनों तक रहना होगा सेल्फ-आइसोलेट, ये 2 नए नियमों का करना होगा पालन

ब्रिटेन में मंकीपॉक्स संक्रमितों को 21 दिनों तक रहना होगा सेल्फ-आइसोलेट, ये 2 नए नियमों का करना होगा पालन
ब्रिटेन में मंकीपॉक्स संक्रमितों को 21 दिनों तक रहना होगा सेल्फ-आइसोलेट, ये 2 नए नियमों का करना होगा पालन

ब्रिटेन के अधिकारियों ने देश में बढ़ते मामलों की संख्या को देखते हुए मंकीपॉक्स के खतरे को लेकर अलर्ट जारी किया है। जानिए क्या है नए नियम।

Written by Jitendra Gupta |Published : May 23, 2022 5:16 PM IST

दुनियाभर के अलग-अलग देशों में मंकीपॉक्स के मामले बहुत तेजी से बढ़ रहे हैं, वहीं ब्रिटेन में भी इस वायरस के मामले अब सामने आ रहे हैं, जिसकी गंभीरता को देखते हुए स्वास्थ्य अधिकारियों ने आइसोलेशन की अवधि को बढ़ाने का फैसला किया है। जी हां, ब्रिटेन के अधिकारियों ने देश में बढ़ते मामलों की संख्या को देखते हुए मंकीपॉक्स के खतरे को लेकर अलर्ट जारी किया है। सरकार ने उच्च जोखिम वाले लोगों से खुद को तीन सप्ताह को आइसोलेट करने का आग्रह किया है। इसका मतलब ये है कि अगर आपके शरीर में मंकीपॉक्स के लक्षण दिखाई देते हैं तो आप खुद को सेल्फ-आइसोलेट कर लें।

21 दिनों तक रहना होगा आइसोलेट

ब्रिटेन की हेल्थ सिक्योरिटी एजेंसी ने सलाह जारी कर कहा है कि वे लोग, जो संक्रमित लोगों के संपर्क में आते हैं उन्हें 21 दिनों तक खुद को सेल्फ-आइसोलेट करना होगा। संक्रमित लोगों को 21 दिनों तक काम से दूर रहना होगा और जिन लोगों की इम्यूनिटी कमजोर है उनसे दूर रहना होगा। इसके अलावा उन्हें गर्भवती महिलाओं और 12 साल से कम उम्र के बच्चों से जितनी हो सके उतनी दूरी बनानी होगी।

ब्रिटेन में अभी तक 20 मामलों की पुष्टि हो चुकी है।

Also Read

More News

ये चीजें करनी होंगी फॉलो

सरकार का कहना है कि अगर आप किसी मंकीपॉक्स से संक्रमित व्यक्ति के साथ एक ही घर में रह रहे हैं तो आपको उसके साथ यौन संपर्क से दूर रहना है और बिना उचित पीपीई किट के उनका बिस्तर नहीं बदलना है। ये दोनों ही चीजें असुरक्षित प्रत्यक्ष संपर्क या उच्च जोखिम वाले पर्यावरणीय मानदंडों में शामिल हैं।

अभी लोगों को खतरा नहीं

इन गर्मी की छुट्टियों में ब्रिटिश नागरिकों के बीच मंकीपॉक्स के बढ़ते खतरे के बारे में सवाल पूछे जाने पर स्वास्थ्य एजेंसी की चीफ मेडिकल ऑफिसर डॉ. सुजैन हॉपकिन्स का कहना है कि आम आबादी में मंकीपॉक्स का खतरा अभी भी बहुत ही कम बना हुआ है लेकिन लोगों को इससे सतर्क रहने की जरूरत है और हमें वाकई में क्लीनिक्ली तौर पर सतर्क रहने की जरूरत है।

डॉ. हॉपकिन्स ने चेतावनी जारी करते हुए कहा है कि वे लोग, जिन्हें किसी भी लक्षण का अनुभव हो रहा है उन्हें घर पर रहना चाहिए और आग्रह किया कि शरीर पर किसी भी संदेहास्पद रैश दिखाई देनेपर तुरंत मेडिकल सहायता हासिल करें।

सोमवार तक जारी होंगे आंकड़ें

उन्होंने कहा कि इस सप्ताहांत तक के सभी आंकड़ें सोमवार को जारी किए जाएंगे क्योंकि रोजाना इसके नए मामले सामने आ रहे हैं।

इसबीच ऑस्ट्रिया के स्वास्थ्य अधिकारियों ने सोमवार को घोषणा करते हुए कहा कि देश की राजधानी में विएना में मंकीपॉक्स का पहला मामला सामने आया है। ऑस्ट्रिया के बाद अब तक कुल 15 देशों में इस बीमारी की पुष्टि हो चुकी है।