• हिंदी

कर्नाटक में तेजी से बढ़ रहे हैं मंकी फीवर के मामले, जानें इसके लक्षण, कारण और बचाव के तरीके

कर्नाटक में तेजी से बढ़ रहे हैं मंकी फीवर के मामले, जानें इसके लक्षण, कारण और बचाव के तरीके

Monkey Fever Symptoms: कर्नाटक के उत्तर कन्नड़ जिले में मंकी फीवर के 34 मामले सामने आए हैं, जिसमें से दो लोगों की मौत हो चुकी है। जानें मंकी फीवर के लक्षण और बचाव के उपाय -

Written by priya mishra |Updated : February 6, 2024 3:46 PM IST

Monkey Fever In Hindi: पिछले कुछ दिनों से देश में मंकी फीवर का खतरा लगातार बढ़ रहा है। कई राज्यों में इस संक्रामक बुखार के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। कर्नाटक के उत्तर कन्नड़ जिले में मंकी फीवर के कई मामले सामने आने की खबर है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, अब तक इस वायरस के कुल 49 मामलों की पुष्टि की जा चुकी है। इनमें से, कर्नाटक के उत्तर कन्नड़ जिले में अब तक सबसे ज्यादा 34 मामले सामने आ चुके हैं। वहीं, कर्नाटक में मंकी फीवर से दो लोगों की मौत भी हो चुकी है। कर्नाटक के अलावा, महाराष्ट्र और गोवा में भी इस वायरस के मामले रिपोर्ट की गए हैं। इस वायरस के बढ़ते मामलों के बाद स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी ने इससे निपटने की तैयारियों में जुट गए हैं।

क्या है मंकी फीवर? - What Is Monkey Fever In Hindi

मंकी फीवर को क्यासानूर फॉरेस्ट डिजीज (KFD) के नाम से भी जाना जाता है। यह एक वायरस के कारण होने वाली बीमारी है, जो जानवरों से मनुष्यों में संक्रमित हो सकती है। बंदरों के शरीर में पाए जाने वाले टिक्स (किलनी) के काटने से यह बीमारी इंसानों में फैल सकती है। मंकी फीवर मनुष्यों के लिए जानलेवा भी हो सकता है। समय रहते इलाज न लेने से मरीज की स्थिति गंभीर हो सकती है।

मंकी फीवर के लक्षण - Monkey Fever Symptoms In Hindi

अचानक बुखार आना

Also Read

More News

सिर में तेज दर्द होना

मांसपेशियों में दर्द

उल्टी

दस्त

थकान

आंखों में दर्द या सूजन

नाक और मसूड़ों से खून आना

मंकी फीवर से बचाव के उपाय - Monkey Fever Prevention In Hindi

रिपोर्ट्स के मुताबिक, मंकी फीवर के लिए कोई विशिष्ट इलाज नहीं है। हालांकि, लक्षणों की पहचानकर करके इसके जोखिमों को कम किया जा सा सकता है। मंकी फीवर के लक्षण दिखाई देने पर मरीज को इलाज के लिए तुरंत अस्पताल में भर्ती करवाना चाहिए। हेल्थ एक्सपर्ट्स के मुताबिक, इस बुखार से बचने के लिए साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखना चाहिए। साथ ही, अधिक से अधिक पानी पीने की सलाह दी जाती है। मंकी फीवर के लिए एक वैक्सीन भी मौजूद है, जिससे संक्रमण से बचाव हो सकता है।