Advertisement

Lambda Variant: डेल्‍टा वेरिएंट से भी ज्‍यादा खतरनाक है कोरोना का लैम्ब्डा वेरिएंट, WHO ने किया अलर्ट

Corona Lambda variant: ब्रिटेन में भी लैम्ब्डा वेरिएंट के 6 केस सामने आ चुके हैं। यूरो न्यूज ने 'पैन अमेरिकन हेल्थ ऑर्गनाइजेशन' (PAHO) का हवाला देते हुए कहा कि पेरू में मई-जून में मिले कोरोना के 82% मामले लैम्‍ब्‍डा वेरिएंट के थे।

अभी लोग डेल्‍टा वेरिएंट को ही सही तरह से नहीं समझ पाए थे कि अब कोरोना का सबसे लेटेस्‍ट वेरिएंट लैम्‍ब्‍डा वेरिएंट (Corona Lambda variant) आ चुका है। बताया जा रहा है कि ये डेल्‍टा वेरिएंट से कई गुना खतरनाक है। मलेशियाई स्वास्थ्य मंत्रालय ने ट्वीट कर कहा कि दक्षिणी अमेरिका के पेरू (Peru) देश में लैम्‍ब्‍डा वेरिएंट का पहला केस मिला था। लेकिन आज की तारीख में दुनियाभर के 30 देशों में लैम्‍ब्‍डा वेरिएंट के केस सामने आ चुके हैं। दुनियाभर में पेरू में सबसे ज्यादा कोरोना मृत्यु दर है। वहीं, अमेरिका के शीर्ष संक्रामक रोग विशेषज्ञ डॉक्‍टर एंथनी फाउची का कहना है कि देश में कोरोना से हो रही मौतों में करीब 99 फीसदी लोग ऐसे हैं जिन्‍हें वैक्‍सीन नहीं लगी है।

ब्रिटेन में भी लैम्ब्डा वेरिएंट के 6 केस सामने आ चुके हैं। यूरो न्यूज ने 'पैन अमेरिकन हेल्थ ऑर्गनाइजेशन' (PAHO) का हवाला देते हुए कहा कि पेरू में मई-जून में मिले कोरोना के 82% मामले लैम्‍ब्‍डा वेरिएंट के थे। वहीं, दक्षिणी अमेरिकी देश चिली (Chile) में मई-जून के बीच 31% मामले लैम्ब्डा के थे। बता दें कि पहले इस वेरिएंट को C.37 नाम दिया गया था।

Also Read

More News

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने लैम्ब्डा को 'वेरिएंट ऑफ इंटरेस्ट' कहा है। WHO का कहना है कि लैम्ब्डा वेरिएंट तेजी से फैलता है और ये एंटीबॉडी से भी लड़ सकता है। यानि कि अगर किसी व्‍यक्ति ने वैक्‍सीन लगा भी ली है तब भी ये संक्रमण अटैक कर सकता है। लैम्ब्डा के बढ़ते खतरे को देखते हुए 'पब्लिक हेल्थ इंग्लैंड' (PHE) ने लैम्बडा को 'वेरिएंट अंडर इन्‍वेस्टिगेशन' (Variants Under Investigation) की लिस्‍ट में डाल दिया है।

Stay Tuned to TheHealthSite for the latest scoop updates

Join us on