Advertisement

इबोला वायरस के प्रकोप से 6 दिन की बच्ची कैसे बची ? जानें फैक्ट्स

इबोला वायरस एक बार शरीर पर हमला कर दे, तो बचने की उम्मीद बहुत कम होती है।

इबोलो वायरस की चपेट में विश्व में सबसे ज्यादा अफ्रीकी देश कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य रहा है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी माना कि कांगों में इबोला प्रकोप संभावित अधिकतम खतरे से भी ज्यादा रहा है। लेकिन कांगों से ही एक चमत्कार वाली खबर आयी है।

कांगों में एक नवजात बच्ची को इबोला के प्रकोप से बचाया जा सका है। 6 दिन की बच्ची इबोला वायरस के चपेट में थी लेकिन वह इससे बचने वाली अब-तक की सबसे कम उम्र की इंसान है।

इबोला से बचने वाली बच्ची की मां प्रसव के बाद की मौत का शिकार हो गयी थी। लेकिन 24 घंटे की निगरानी रखने वाली टीम ने इस बच्ची को इबोला के वायरस से बचाने में सफलता पायी है।

Also Read

More News

कैसे फैलता है इबोला

इबोला वायरस एक बार शरीर पर हमला कर दे, तो बचने की उम्मीद बहुत कम होती है। आइए जानते हैं कैसे फैलता है यह जानलेवा वायरस। 1976 में पहली बार इबोला के मामले सामने आए। तब से अफ्रीका के कई देशों में इसका कहर फैल चुका है। माइक्रोस्कोप के नीचे देखने पर यह वायरस धागे जैसा नजर आता है। इसकी कई किस्में होती हैं और कुछ ही हैं जो इंसानों पर हमला करती हैं और यह हमला जानलेवा साबित होती हैं।

कैसे फैलता है संक्रमण

इबोला एक संक्रामक रोग है लेकिन यह सांस के जरिए नहीं फैल सकता, इसका संक्रमण तभी होता है यदि कोई व्यक्ति मरीज से सीधे संपर्क में आए। मिसाल के तौर पर मरीज के पसीने से यह वायरस फैल सकता है। मरीज की मौत के बाद भी वायरस सक्रिय रहता है। जानवरों के जरिए भी संक्रमण होता है। चमगादड़ों को इबोला की सबसे बड़ी वजहों में से एक माना गया है।

इबोला वायरस से होने वाली बीमारी के लक्षण

इबोला वायरस के शरीर में प्रवेश करने के दो से 21 दिन के बीच मरीज कमजोर होने लगता है। बुखार आता है, लगातार सरदर्द और मांसपेशियों के दर्द की शिकायत रहती है। भूख नहीं लगती है, पेट में दर्द रहता है, चक्कर आने लगते हैं और उल्टी दस्त भी होते हैं। बहुत तेज बुखार के बाद रक्तस्राव और खून की उल्टियां भी शुरू हो जाती हैं। आंतड़ियों, स्प्लीन यानि तिल्ली और फेंफड़ों में बीमारी फैल जाने के बाद मरीज की मौत हो जाती है।

इबोला वायरस के खिलाफ वैज्ञानिक अब तक कोई टीका नहीं बना पाए हैं और ना ही कोई इसे खत्म करने के लिए बाजार में कोई दवा उपलब्ध है। इसकी रोकथाम का केवल एक ही तरीका है, जागरूकता।

सर्दी के मौसम में दूर होगी आपकी सुस्ती, जब अपनाएंगे ये उपाय।

सर्दी के मौसम में देते हैं गर्मी का एहसास, ऐसे बनाएं ये 7 सूप खास।

प्रोटीन पाउडर नहीं सोयाबीन का ऐसे करें सेवन मिलेगा 10 गुना ज्यादा फायदा।

सेक्स लाइफ को करना है स्ट्रांग तो इन 5 उपायों में से कोई एक जरूर अपनाएं।

Stay Tuned to TheHealthSite for the latest scoop updates

Join us on