Sign In
  • हिंदी

मेनोपॉज़ हार्मोन्स ट्रीटमेंट से कम हो सकता है दिल की बीमारियों का ख़तरा

इस रिसर्च में पाया गया कि मेनोपॉज़ हार्मोन्स ट्रीटमेंट से इंसानों के दिल से जुड़ी परेशानियों में भी कमी आती है।

Written by Sadhna Tiwari |Published : March 12, 2018 1:22 PM IST

मेनोपॉज़ हार्मोन्स ट्रीटमेंट से कार्डियोवैस्कुलर बीमारियों के ख़तरे को भी कम किया जा सकता है। जी हां, भारतीय मूल के एक शोधकर्ता की अगुवाई में किए गए अध्ययन से इस बात की पुष्टि हुई है। मेनोपॉज़ हार्मोन्स ट्रीटमेंट की मदद पसीना ना आने, नींद में खलल पड़ने व वैजाइनल ड्राईनेस जैसी शिकायतों से राहत पाने के लिए ली जाती है।

इस रिसर्च में पाया गया कि मेनोपॉज़ हार्मोन्स ट्रीटमेंट से इंसानों के दिल के बायें निलय (हृदय के निचले हिस्से का कोष) और बायीं तरह के धमनी प्रकोष्ठ की संरचना व कार्य प्रणाली पर थोड़ा फर्क पड़ता है।

इससे हृदय की नलिका के कार्य करने के तरीके में भी सुधार होता है और जिसकी वजह से इससे जुड़ी परेशानियों व दिल के काम नहीं करने की दर में भी कमी आती है।

Also Read

More News

लंदन के क्वीन मैरी यूनिवर्सिटी के रिसर्चर मिहिर संघवी ने कहा, "यह पहली स्टडी है जिसमें मेनोपॉज़ हार्मोन्स ट्रीटमेंट के इस्तेमाल और दिल की संरचना व प्रकार्य में सूक्ष्म बदलाव के बीच संबंध दर्शाया गया है। यह भविष्य में हृदयरोग संबंधी शिकायतों की पूर्व सूचना देने में सहायक हो सकता है।"

स्रोत: IANS Hindi.

चित्रस्रोत: Shutterstock.

Total Wellness is now just a click away.

Follow us on