Advertisement

कम सैचुरेटेड फैट वाली डायट से दिल की बीमारियों का खतरा होता है कम

एक नए अध्ययन से पता चला है कि बादाम, सोया, दाल, फलियां सहित पादप आधारित भोजन और पादप स्टेरोल्स की थोड़ी मात्रा लेने से रक्तचाप, ट्राइग्लिसराइड्स और सूजन(इनफलेमेशन) समेत हृदयरोग संबंधी बीमारी के कई जोखिम कम हो सकते हैं। अध्ययनकर्ताओं के अनुसार, पादप आधारित आहार पैटर्न को पोर्टफोलियो डाइट के रूप में जाना जाता है और यह 2,000 कैलोरी आहार पर आधारित होता है।

पादप आधारित भोजन को कम संतृप्त वसा वाले आहार के साथ सेवन करने से कम घनत्व वाले लिपोप्रोटीन कोलेस्ट्रॉल(बेड कोलेस्ट्रोल) में 30 प्रतिशत की कमी आती है। इसके अलावा अध्ययनकर्ताओं ने पाया कि इस आहार के सेवन से हृदयाघात समेत हृदय रोग के संपूर्ण खतरे में 13 प्रतिशत तक की कमी आती है।

कनाडा में टोरंटो विश्वविद्यालय के एसोसिएट प्रोफेसर और सह-लेखक जॉन सिवेनपाइपर ने कहा, "हम जानते हैं कि पोर्टफोलियो डाइट से एलडीएल कोलेस्ट्रोल में कमी आती है, लेकिन हमारे पास इसकी स्पष्ट तस्वीर उपलब्ध नहीं थी कि यह और क्या कर सकता है।"

Also Read

More News

सिवनेपाइपर ने कहा, "यह अध्ययन आहार के प्रभाव और इसके स्वास्थ्य क्षमताओं के बारे में ज्यादा स्पष्ट और प्रमाणिकता के साथ बताता है।"

हृदय संबंधी बीमारियों पर छपी पत्रिका में अध्ययनकर्ताओं ने एक विश्लेषण किया, जिसमें 400 रोगियों के साथ सात नियंत्रित परीक्षण किया गया।

उन्होंने पाया कि रक्तचाप के खतरे में दो प्रतिशत और सूजन(इन्फ्लेमेशन) के खतरे में 32 प्रतिशत की कमी पाई गई।

अध्ययनकर्ताओं ने कहा कि आहार और जीवनशैली में बदलाव करके रोगी उच्च कोलेस्ट्राल और हृदय संबंधी रोग के खतरे को कम कर सकता है और मौजूदा अध्ययन इस दिशा में और तर्क प्रदान करता है।

स्रोत: IANS Hindi.

चित्रस्रोत: Shutterstock.

Stay Tuned to TheHealthSite for the latest scoop updates

Join us on