Advertisement

अब मोबाइल एप बच्चों के यौन उत्पीड़न को रोकने में सहायक होगा

मोबाइल एप निर्माताओं ने एक ऐसे एप का विकास किया है, जो बच्चों के यौन उत्पीड़न को रोकने में सहायक होगा। इस एप के माध्यम से माता-पिता अपने बच्चों से कुछ सवालों के जवाब पूछकर उसके मूल्यांकन के आधार पर अपने बच्चे की सुरक्षा को सुनिश्चित कर सकते हैं। इस एप का निर्माण, बाल मामलों के वकील तथा यौन उत्पीड़न के शिकार पीड़ितों के प्रतिनिधि जेफ हरमन के हवाले से एचएलएनटीवी डॉट कॉम ने कहा, 'इस एप की सहायता से माता-पिता इस बात से सुनिश्चित हो सकते हैं कि उनका बच्चा कहीं यौन उत्पीड़न का शिकार तो नहीं हो रहा या हो सकता है।'

हरमन ने कहा, 'यौन उत्पीड़न के सैकड़ों पीड़ितों का प्रतिनिधित्व करने के बाद यह बात मेरे लिए स्पष्ट हो गई कि अगर बच्चों के माता-पिता खतरे के कुछ सूचकों से परिचित हो जाएं, तो बच्चों को यौन उत्पीड़न से बचाया जा सकता है।' हरमन ने कहा कि बच्चों को 'गुड टच' या 'बैड टच' से अवगत कराना आसान काम नहीं है।

एप की प्रश्नोत्तरी में सवालों की एक श्रृंखला होती है, जिससे माता-पिता इस बात का पता लगा सकते हैं कि उनके बच्चे पर कोई वयस्क व्यक्ति बुरी नजर तो नहीं डाल रहा। उत्तरों का मूल्यांकन कर आपको आसानी से इस बात का पता चल सकता है कि आपका बच्चा उत्पीड़न के खतरे में है या नहीं। हरमन ने कहा, 'अपने बच्चे को लेकर यदि आप किसी व्यक्ति के प्रति सशंकित हैं, तो उसके साथ उसे अकेला कतई न छोड़ें।'

Also Read

More News

स्रोत: IANS Hindi

चित्र स्रोत: Getty images


हिन्दी के और आर्टिकल्स पढ़ने के लिए हमारा हिन्दी सेक्शन देखिए।लेटेस्ट अप्डेट्स के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो कीजिए।स्वास्थ्य संबंधी जानकारी के लिए न्यूजलेटर पर साइन-अप कीजिए।

Stay Tuned to TheHealthSite for the latest scoop updates

Join us on