Sign In
  • हिंदी

महिलाओं के लिए ज्‍यादा घातक है ‘बिन्‍ज ड्रिंकिंग’, जानें इसके नुकसान

‘बिन्‍ज ड्रिंकिंग’ करने वाले पुरुषों में से जहां चार में से केवल एक के साथ लीवर संबंधी समस्‍याएं आईं, वहीं महिलाओं में यह चार में से तीन का औसत था। © Shutterstock

‘बिन्‍ज ड्रिंकिंग’ करने वाले पुरुषों में से जहां चार में से केवल एक के साथ लीवर संबंधी समस्‍याएं आईं, वहीं महिलाओं में यह चार में से तीन का औसत था।

Written by Yogita Yadav |Published : August 21, 2019 3:49 PM IST

पुरुषों और स्त्रियों के शरीर के साथ ही इंटरनल सिस्‍टम में भी काफी अंतर होता है, इसलिए जो चीजें पुरुषों को कम नुकसान देती हैं, वहीं स्त्रियों की सेहत के लिए चार गुना अधिक नुकसानदायक होती हैं। हाल ही में हुए शोध में यह एक बार पुन: साबित हो गया है। ‘बिन्जू ड्रिंकिंग’ (Binge drinking) करने वाले पुरुषों में से जहां चार में से केवल एक के साथ लीवर संबंधी समस्याएं आईं, वहीं महिलाओं में यह चार में से तीन का औसत था। आइए जानें क्‍या कहता है शोध। और क्‍या हैं ‘बिन्‍ज ड्रिंकिंग’ (Binge drinking) के नुकसान-

क्‍या कहता है शोध

जर्नल ऑफ फार्माकोलॉजी एंड एक्सपेरिमेंटल थेरेप्यूटिक्स में प्रकाशित, मिसौरी विश्वविद्यालय के शोध में यह सामने आया है कि पुरुषों की तुलना में महिलाओं पर ‘बिन्‍ज ड्रिंकिंग’ (Binge drinking) के नुकसान की संभावना चार गुना अधिक बढ़ जाती है। चूहों पर किए गए इस अध्‍ययन में यह देखा गया कि ‘बिन्‍ज ड्रिंकिंग’ का असर नर चूहों की तुलना में मादा चूहों के लीवर पर अधिक घातक साबित होता है।

भारतीय मूल के शोधकर्ता शिवेंद्र शुक्ला ने कहा, "हमने ‘बिन्‍ज ड्रिंकिंग’ (Binge drinking) का असर देखने के लिए लिए लिंग-विशिष्ट प्रतिक्रियाओं की समानता और अंतर का अध्ययन किया। शोध में हमने बहुत कम अंतराल पर नर और मादा चूहों को तीन बार शराब का सेवन करवाया गया। इसमें उन्हें 12 घंटे के अंतराल पर तीन बार शराब की समान मात्रा दी गई।"

Also Read

More News

मादाओं को होता है ज्‍यादा नुकसान

इस अध्‍ययन के परिणाम बताते हैं कि ‘बिन्‍ज ड्रिंकिंग’ (Binge drinking) यानी कम अ‍वधि में बार-बार शराब का सेवन करने के नुकसान नर की तुलना में मादाओं पर अधिक होते हैं। हालांकि इसमें नर चूहों में शराब की दोगुनी मात्रा दी गई, फि‍र भी मादा चूहों पर इसका दुष्‍प्रभाव ज्‍यादा नजर आया। उनका लीवर ज्‍यादा फैटी पाया गया, जो लीवर की बीमारियों में इजाफा करने का संकेत है। यह भी पाया गया कि मादा चूहों के लिवर में लगभग चार गुना फैटी बिल्ड-अप था, अतिरिक्त सूजन और क्षति के लिए एक ट्रिगर।

महिलाओं में बढ़ जाता है जोखिम

शिवेंद्र शुक्ला बताते हैं, "(Binge drinking) के कारण वहाँ एक प्रोटीन है जिसे डायसाइलग्लिसरॉल किनेसे-अल्फा (DGKa) कहा जाता है, जो ट्यूमर के विकास और कैंसर को बढ़ावा देने के लिए अन्य अध्ययनों में दिखाया गया है। हमारे निष्कर्षों में, यह प्रोटीन पुरुष चूहों में 20 प्रतिशत तक जाता है, लेकिन महिलाओं में 95 प्रतिशत बढ़ जाता है ।"

ये चीजें बना रहीं हैं आपको उम्र से पहले बूढ़ा, रहें सावधान!

क्‍या आप जानते हैं सेहत के लिए बहुत जरूरी इस विटामिन के बारे में?

बोन हेल्‍थ को नुकसान तो नहीं पहुंचा रहा आपका RO वाला पानी

Total Wellness is now just a click away.

Follow us on