Sign In
  • हिंदी

उप्र के 16 जिलों में जल्द खुलेंगे आयुष हॉस्पिटल, मिलेंगी शिरोधारा व पंचकर्म जैसी सुविधाएं

उत्तर प्रदेश में पहली बार पूरी तरह आयुष विधा से इलाज के लिए अस्पताल खोले जा रहे हैं, जहां आयुर्वेद, योग, यूनानी, सिद्घा और होम्योपैथिक विधाओं से रोगियों को एक ही छत के नीचे इलाज की सुविधा मिलेगी।

Written by Editorial Team |Published : August 24, 2018 1:08 PM IST

उत्तर प्रदेश के 16 जिलों में आयुष के 50 बिस्तरों वाले अस्पतालों का निर्माण होगा, जहां सभी विधाओं से इलाज एक साथ एक छत के नीचे उपलब्ध हो सकेगा। इन अस्पतालों के निर्माण का काम दिसम्बर 2018 तक पूरा हो जाएगा। उसके बाद इनकी शुरुआत की जाएगी। एक वरिष्ठ अधिकारी ने इसकी जानकारी दी। इन अस्पतालों में आयुर्वेद, योग, यूनानी, सिद्घा और होम्योपैथिक विधाओं से रोगियों को एक ही छत के नीचे इलाज की सुविधा मिलेगी। प्रदेश में पहली बार पूरी तरह आयुष विधा से इलाज के लिए अस्पताल खोले जा रहे हैं।

इन अस्पतालों में केवल ओपीडी ही नहीं बल्कि मरीजों को भर्ती की सुविधा भी मिलेगी। एक अस्पताल को बनाने के लिए 7.25 करोड़ रुपये का बजट दिया गया है।

अधिकारियों के मुताबिक, हिजामा थेरेपी, पंचकर्म व सिरोधारा समेत तमाम सुविधाएं मरीजों को मिलेंगी। यही नहीं अस्पताल में सर्जरी, अल्ट्रासाउंड, ईएनटी, गठिया, मेडिसिन, बाल रोग, स्त्री रोग विभाग, पैथोलॉजी और इमरजेंसी की भी सुविधा होगी।

Also Read

More News

आयुष विभाग के सचिव मुकेश कुमार मेश्राम के मुताबिक, "आयुष से इलाज के प्रति लोगों में जागरूकता आ रही है। आयुष विधा की तमाम विशेषताएं हैं। तुलनात्मक तौर पर इस विधा से इलाज भी सस्ता होता है। इन अस्पतालों को बनाने का उद्देश्य यही है कि लोगों को आसानी से आयुष चिकित्सा उपलब्ध हो सके। इनमें गरीबों को मुफ्त इलाज की सुविधा मिलेगी।"

उन्होंने बताया कि प्रमुख रूप से अमेठी, सोनभद्र, सुल्तानपुर, संत कबीरनगर, कानपुर देहात, ललितपुर, जालौन, कौशांबी एवं देवरिया में अस्पताल खोले जाएंगे।

स्रोत : IANS Hindi.

चित्रस्रोत : Shutterstock.

Total Wellness is now just a click away.

Follow us on