Sign In
  • हिंदी

भारत बायोटेक के बाद कई चिकित्सकों ने भी कहा, कोरोना वैक्सीन लगवाने के बाद किशोरों को ना दें पैरासिटामोल, हो सकता है नुकसान

भारत बायोटेक के बाद कई चिकित्सकों ने भी कहा, कोरोना वैक्सीन लगवाने के बाद किशोरों को ना दें पैरासिटामोल, हो सकता है नकुसान

भारत बायोटेक के बाद कई चिकित्सकों ने भी कहा, कोरोना वैक्सीन लगवाने के बाद किशोरों को ना दें पैरासिटामोल, लिवर को हो सकता है नुकसान....

Written by Anshumala |Updated : January 7, 2022 6:41 PM IST

देश भर में 15 से 18 वर्ष के किशोरों को वैक्सीन लगाने का अभियान शुरू हो चुका है। केन्द्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री डॉ. मनसुख मांडविया के अनुसार, बुधवार तक देश में 15 से 18 वर्ष के एक करोड़ बच्चों को वैक्सीन लगाई जा चुकी है। वैक्सीनेशन सेंटर उत्साहित होकर बच्चे टीका लगवाने के लिए आगे आ रहे हैं। ऐसा भी देखा जा रहा है कि वैक्सीन लगाने के बाद वैक्सीन सेंटर पर किशोरों को पैरासिटामोल दवा भी दी जा रही है। हालांकि, अधिकतर चिकित्सकों ने इसे सही नहीं ठहराया है और उन्होंने सलाह दी है कि कोरोना वैक्सीन (Corona vaccine to teens) लगवाने के बाद इससे होने वाले दर्द को कम करने के लिए बच्चों को बिना डॉक्टरी परामर्श के पैरासिटामोल दवा नहीं लेनी चाहिए।

वैक्सीन सेंटर पर दी जा रही है पैरासिटामोल की गोलियां

चिकित्सकों ने यह सलाह शुक्रवार को जारी करते हुए कहा कि ऐसा देखा जा रहा है कि कुछ वैक्सीनेशन सेंटर्स पर बच्चों को वैक्सीन लगाए जाने के बाद कहा जा रहा है कि अगर दर्द महसूस हो तो 500 मिलीग्राम पैरासिटामोल की तीन गोलियां नियमित अंतराल पर खा लेना। इस तरह पैरासिटामोल की गोली बिना किसी सलाह के लेना बच्चों को नुकसान पहुंचा सकता है। आकाश हेल्थकेयर के डॉ. अक्षय बुद्धिराजा  ने कहा कि कोरोना वैक्सीन लगवाने से पहले या बाद में एहतियात के तौर पर किसी को भी इस दवा को लेने की सलाह नहीं दी जाती है, क्योंकि हमें अभी तक यह जानकारी नहीं है कि यह शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली पर किस प्रकार असर डालती है।

पैरासिटामोल से लिवर पर गंभीर दुष्प्रभाव पड़ सकता है

इंडियन स्पाइनल इंजरीज सेंटर के वरिष्ठ सलाहकार डॉ. कर्नल विकास दत्ता का कहना है कि 15 से 18 वर्ष के बच्चों को कोरोना वैक्सीन लगाने के बाद पैरासिटामोल दवा लेने की सलाह नहीं दी जा सकती है, क्योंकि इसका लीवर पर गंभीर दुष्प्रभाव पड़ता है।

Also Read

More News

वैक्सीन लगाने के साइड एफेक्ट्स (Corona Vaccine Side Effects)

  • अब तक अधिकतर लोगों में कोरोना वैक्सीन लेने के बाद कई साइड एफेक्ट्स नजर आए हैं।
  • इंजेक्शन लगाई जाने वाली जगह पर दर्द या सूजन होने लगती है।
  • पहले दो दिनों में मांसपेशियों में दर्द हो सकता है।
  • बुखार, सिरदर्द और ऐसी ही कुछ दिक्कतें देखने को मिलती है, लेकिन ये अपने आप ठीक भी हो जाती हैं।

कब ले सकते हैं पैरासिटामोल?

डॉ. बुद्धिराजा ने कहा, 'अगर वैक्सीन लेने के बाद बुखार हो या दर्द अधिक हो, तो चिकित्सक की सलाह पर ही बच्चों को यह दवा या कोई और दर्दनिवारक दवा खाने की सलाह दी जा सकती है। पैरासिटामोल को एहतियात के तौर बुखार की रोकथाम के लिए नहीं दिया जा सकता है, क्योंकि वैक्सीन लगवाए जाने के बाद शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली में कुछ बदलाव आने के बाद ही बुखार होता है।'

बच्चों को बुखार होने पर क्या दैं?

डॉ. कर्नल विकास दत्ता ने बताया कि अगर बच्चों को वैक्सीन के बाद बुखार आता है, तो उनके लिए मेफानामिक एसिड या मेफटाल सीरप बेहतर है और बड़ों के लिए पैरासिटामोल सुरक्षित है।

गौरतलब है कि भारत की पहली स्वदेशी कोविड वैक्सीन बनाने वाली कंपनी भारत बायोटेक ने भी हाल ही में कहा था कि वैक्सीनेशन के बाद पैरासिटामोल या कोई अन्य दर्द निवारक दवा के इस्तेमाल की सिफारिश नहीं की गई है। देश में ओमिक्रोन संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए सरकार ने 15 से 18 वर्ष के बच्चों के लिए कोवैक्सीन लगाए जाने को मंजूरी दी है।

स्रोत: (IANS Hindi)

Total Wellness is now just a click away.

Follow us on