Sign In
  • हिंदी

यूपी में 3 लाख लोगों ने प्रीकॉशनरी डोज, 34 लाख से अधिक किशोरों ने ली कोरोना की पहली खुराक

यूपी में 3 लाख लोगों ने प्रीकॉशनरी डोज, 34 लाख से अधिक किशोरों ने ली कोरोना की पहली खुराक

उत्तर प्रदेश में सिर्फ तीन दिनों के भीतर तीन लाख से अधिक लोगों को कोविड टीके की बूस्टर डोज मिल चुकी है। वहीं, सिर्फ 9 दिनों में 34 लाख 25 हजार से अधिक किशोरों ने कोरोना की पहली खुराक ले ली है।

Written by Anshumala |Updated : January 12, 2022 6:56 PM IST

Corona Booster Dose in UP: उत्तर प्रदेश में जहां कोरोना के केसेस बढ़ रहे हैं, तो वहीं इसके प्रसार को रोकने के लिए अब बूस्टर डोज भी दिए जाने लगे हैं। फिलहाल, यूपी में हेल्थ वर्कर्स, फ्रंट लाइन वर्कर्स और 60 से ऊपर के वरिष्ठ नागरिकों को प्रीकॉशनरी डोज (Corona precautionary Dose) दी जा रही है। सिर्फ तीन दिनों के अंदर ही 3 लाख से अधिक लोगों को कोरोना वैक्सीन की बूस्टर डोज (corona booster dose in UP) मिल चुकी है। वहीं, 15-17 आयु वर्ग के लगभग 34 लाख 25 हजार से अधिक किशोरों को सिर्फ 9 दिनों में टीके की पहली (Adolescents vaccinated in UP) खुराक लगाई जा चुकी है।

यूपी में 56 % वयस्क आबादी को टीके की दोनों डोज लगी

राज्य सरकार द्वारा मिली जानकारी के अनुसार, 9 करोड़ 53 लाख टेस्ट और 21 करोड़ 82 लाख से अधिक टीके की डोज लगाने वाले उत्तर प्रदेश में करीब 56 % वयस्क आबादी को टीके की दोनों डोज लग चुकी है, जबकि 92 % ने कम से कम एक डोज जरूर लगवा ली है। कोरोना वैक्सीनेशन अभियान को और अधिक तेज करने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विधानसभा निर्वाचन कार्यक्रम को आधार बनाते हुए जिलों की प्राथमिकता तय की है।

राज्य में आए 13,681 नए संक्रमित

पिछले 24 घंटों में 2 लाख 39 हजार 771 सैम्पल की जांच की गई, जिसमें कुल 13,681 नए संक्रमितों की पुष्टि हुई। इसी अवधि में 700 लोग उपचारित होकर कोरोना मुक्त भी हुए। वर्तमान में कुल एक्टिव केस की संख्या 57,355 है। इनमें से 98 % से अधिक मरीज होम आइसोलेशन में स्वास्थ्य लाभ ले रहे हैं।

Also Read

More News

ट्रेसिंग, टेस्टिंग और वैक्सीनेशन को तेज करने के निर्देश

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि ट्रेसिंग, टेस्टिंग और टीकाकरण को तेज करने के निर्देश दिए हैं। साथ ही कहा है कि लोगों में पैनिक न हों, इसलिए उन्हें सही, सटीक और समुचित जानकारी दी जाए। लोगों को बताया जाना चाहिए कि घबराने की नहीं, सावधानी और सतर्कता की जरूरत है। आदित्यनाथ ने निर्देश दिए कि सभी कार्यालयों, औद्योगिक इकाइयों में कोविड हेल्प डेस्क की स्थापना अनिवार्य रूप से हो। बिना स्क्रीनिंग किसी को प्रवेश न दिया जाए। होम आइसोलेशन में उपचाराधीन लोगों से सतत संवाद बनाए रखने और मेडिकल किट पहुंचाने के निर्देश भी दिए हैं।

स्रोत: (आईएएनएस)

Total Wellness is now just a click away.

Follow us on