Advertisement

Mudra for Hypertension : उच्च रक्तचाप से रहते हैं परेशान, तो करें इस एक मुद्रा का अभ्यास

उच्च रक्तचाप से पीड़ित हैं, तो दवाओं के अधिक सेवन से बचें। बेहतर होगा कि इस समस्या को आप योग मुद्रा (Mudra for High Blood Pressure) के जरिए कंट्रोल करने की कोशिश करें। 

दौड़ती-भागती एवं तनाव भरी जिंदगी में जिसे देखो वह हाई ब्लड प्रेशर का शिकार हो रहा है। उच्च रक्तचाप (Hypertension) की समस्या कई बार ब्रेन-हैमरेज का कारण भी बन सकता है। प्रेग्नेंट महिलाओं में भी आखिरी तिमाही में हाई ब्लड प्रेशर (High blood pressure in pregnancy) के मामले बहुत देखने को मिलते हैं। इसे नियंत्रित नहीं करने पर मां-बच्चे दोनों के लिए खतरनाक साबित हो सकता है। आप भी उच्च रक्तचाप से पीड़ित हैं, तो दवाओं के अधिक सेवन से बचें। बेहतर होगा कि इस समस्या को आप योग मुद्रा (Mudra for High Blood Pressure) के जरिए कंट्रोल करने की कोशिश करें।

हाई ब्लड प्रेशर से बचाएगा योग

योग में आप ध्यान और प्राणायाम के अभ्यास से हाई ब्लड प्रेशर की समस्या से बचे रहने के साथ ही उसे कंट्रोल में भी रख सकते हैं। इसका सबसे बड़ा लाभ यह है कि आपको दवा साथ लेकर चलने की जरूरत नहीं। योग मुद्रा जैसे ज्ञान मुद्रा के नियमित अभ्यास से भी उच्च रक्तचाप (Gyan Mudra reduces hypertension) की समस्या से बचे रह सकते हैं। जानें, ज्ञान मुद्रा (Gyan Mudra in hindi) कैसे करते हैं...

ज्ञान मुद्रा करने का सही तरीका

आपको हाई ब्लड प्रेशर की समस्या है, तो ज्ञान मुद्रा (Mudra for High Blood Pressure) करें। ज्ञान मुद्रा करने के लिए फर्श पर पालथी मारकर बैठ जाएं। पीठ और सिर को बिल्कुल सीधी रखें। हिले-डुलें नहीं। आंखें बंद कर लें। पलकों में कोई हलचल न हो। अब ज्ञान मुद्रा लगाएं। इसमें अंगूठे के ऊपरी हिस्से को तर्जनी के ऊपरी हिस्से से मिलाएं। अन्य उंगलियों को बिल्कुल सीधा रखें। इस मुद्रा में अपनी हथेलियों को घुटनों पर रखें। हथेलियों की दिशा ऊपर की ओर रहे। अब अपनी सांसों पर ध्यान दें। न अपनी तरफ से सांसों की गति घटाएं-बढ़ाएं और न ही कोई कुंभक लगाएं।

Also Read

More News

[caption id="attachment_714290" align="alignnone" width="655"]Gyan-mudra-for high blood pressure हाई ब्लड प्रेशर में करें ज्ञान मुद्रा। © Shutterstock[/caption]

इस दौरान सहज रूप से सांस लेते रहें। अगर आप इसी अवस्था में आधे घंटे रह सकते हैं, तो ठीक वरना शवासन में लेट जाएं। आपको नींद का अनुभव होगा, लेकिन नींद से बचने की कोशिश करें। ध्यान से बाहर आने के बाद, धीरे-से दायीं करवट लें और उठकर बैठ जाएं। हथेलियों को कुछ सेकंड तक रगड़ें और फिर उसे अपनी आंखों पर रखें। आंखों पर हथेलियों की गर्माहट से आप तरोताजा महसूस करेंगे और सामान्य दिनचर्या के लिए तैयार हो जाएंगे। हालांकि, किसी भी योगाभ्यास और मुद्रा लगाने से पहले किसी अच्छे योगाचार्य से संपर्क अवश्य कर लें।

Stay Tuned to TheHealthSite for the latest scoop updates

Join us on