Advertisement

Home Remedies For Runny Nose In Babies: बिना सर्दी जुकाम हुए इसलिए बहती है बच्‍चों की नाक, बिना देर किए जाने कारण

सर्दी जुकाम के कारण बच्‍चों की नाक बहना आम है। लेकिन कई बार बच्‍चों की नाक अन्‍य कारणों की वजह से भी बहती है। आइए जानते हैं कारण-

छोटे बच्‍चे अक्‍सर सर्दी जुकाम की चपेट में जल्‍दी आ जाते हैं इसका कारण उनकी कमजोरी इम्‍युनिटी है। इसके अलावा मौसम में बदलाव, ठंड के संपर्क में आने से या ठंडी चीजें खाने के कारण भी बच्‍चे जल्‍दी बीमार पड़ जाते हैं। आपने भी नोटिस किया होगा कि जब बच्‍चे बीमार होते हैं तो उनकी नाक बहनी शुरू हो जाती है। या कभी-कभी बच्‍चों की नाक बिना बीमार हुए ही बहने लगती है। अगर बड़ों को सर्दी-जुकाम या नाक बहने की दिक्‍कत होती है तो वो तुरंत एलोपैथी दवा खाकर सही हो जाते हैं, लेकिन बच्‍चों को दवा देने के बजाय घरेलू नुस्‍खे देने की कोशिश की जाती है। ऐसा इसलिए क्‍योंकि एलोपैथी दवा से तुरंत राहत तो मिल जाता है लेकिन इसके नुकसान भी होते हैं। तो आइए सबसे पहले जानते हैं क्‍यों कुछ बच्‍चों की नाक इतनी ज्‍यादा बहती है।

Baby nose

बच्‍चों में नाक बहने के लक्षण

  • नाक के गीले और चिपचिपे पदार्थ का धीरे धीरे आना
  • पूरे दिन नाक से लिक्विड/बलगम बहना। एक बार जब आप इसे साफ करते हैं तो कुछ देर बाद ही फिर से गंदा हो जाना।
  • बच्‍चों को रनी नोज की दिक्‍कत होती है तो उन्‍हें समझ नहीं आता है कि ये क्‍या हो रहा है और वो बार बार अपनी नाक में अंगुली डालते हैं।
  • बच्‍चों के नाक में दिनभर खुजली रहती है और इसे वो रोकर जताते हैं।

बच्‍चों की नाक बहने का कारण क्‍या है?

बच्‍चों की नाक बहने का सबसे पहला कारण सर्दी-जुकाम होता है। इसके अलावा कई बार वायरस भी नाक बहने का कारण बनते हैं। दरअसल छोटे बच्‍चे बहुत उत्‍सुक रहते हैं और वो अपने आसपास की हर चीज को छूते रहते हैं। सिर्फ यही नहीं बच्‍चों को जो दिखता है उसे वो मुंह में डाल देते हैं। बच्‍चों को चाहे फर्श पर चाबी दिखे, कोई गंदा कपड़ा दिखे, बॉल दिखे या उनके खिलौने दिखें, बच्‍चे तुरंत उन्‍हें मुंह में डाल देते हैं। इससे बच्‍चों के मुंह में वायरस चले जाते हैं जो लो इम्‍युनिटी और बैक्‍टीरियल इंफेक्‍शन का कारण भी बनते हैं।

Also Read

More News

बच्‍चों की बहती नाक को रोकने के लिए घरेलू नुस्‍खे

  • बच्‍चों को सब्जियों का सूप पिलाएं
  • शहद के साथ अदरक का रस मिलाकर देने से बच्‍चों का सर्दी जुकाम और बहती नाक की दिक्‍कत दूर हो जाएगी।
  • दूध को उबालते वक्‍त उसमें जयफल का पाउडर डालें। दूध को हल्‍का ठंडा करने के बाद बच्‍चे को पिलाएं। इससे नाक बहना तुंरत कम हो जाएगा।
  • तुलसी के पत्‍ते सर्दी जुकाम को कम करने की एक आयुर्वेदिक दवा है। पानी में 3 से 4 तुलसी की पत्तियों को 5 मिनट के लिए उबालें, जब ये ठंडा हो जाए तो इसमें शहद डालकर बच्‍चों का दें।
  • आप घर में बच्‍चों की मालिश करने के लिए तेल भी बना सकते हैं। इसके लिए सरसों के तेल को गैस में रखकर इसमें लहसुन की
  • कलियों को काटकर डालें। जब लहसुन भूरा हो जाए तो गैस बंद कर दें। अब इससे बच्‍चों के शरीर की मालिश करें। इस तेल को बच्‍चे के चेहरे और सिर पर न लगाएं। कोशिश करें कि बच्‍चों की मालिश रात के वक्‍त करें।

Stay Tuned to TheHealthSite for the latest scoop updates

Join us on