• हिंदी

क्या सर्दियों में आपका शरीर भी हो जाता है सुन्न? इन आसान तरीकों से सुधारें ब्लड सर्कुलेशन

क्या सर्दियों में आपका शरीर भी हो जाता है सुन्न? इन आसान तरीकों से सुधारें ब्लड सर्कुलेशन

सर्दी के स्वादिष्ट पकवानों का आनंद लेना कई लोगों को काफी पसंद होता है। लेकिन ये आनंद उन लोगों के लिए सजा बन जाता है, जिनका ब्लड सर्कुलेशन ठीक नहीं है।

Written by Atul Modi |Published : December 7, 2023 1:00 PM IST

सर्दियों के ठिठुरन भरे दिनों की शुरुआत हो चुकी है। ऊनी कपड़े पहनकर, सर्दी के स्वादिष्ट पकवानों का आनंद लेना कई लोगों को काफी पसंद होता है। लेकिन ये आनंद उन लोगों के लिए सजा बन जाता है, जिनका ब्लड सर्कुलेशन ठीक नहीं है। सर्दियों में ऐसे लोगों को अक्सर शरीर के कुछ हिस्सों में सुन्नता, झनझनाहट, दर्द, ऐंठन, चुभन महसूस होती है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि शरीर के इन हिस्सों में रक्त का प्रवाह ठीक से नहीं हो पाता है। दरअसल, परिसंचरण तंत्र से शरीर के सभी हिस्सों में रक्त, ऑक्सीजन और पोषक तत्वों का प्रवाह होता है। जब यह सुचा  रू रूप से नहीं होता तो कई परेशानियां खड़ी हो जाती हैं। हालांकि कुछ आसान तरीकों को अपनाकर आप अपने शरीर में परिसंचरण को ठीक कर सकते हैं।

एक्टिव रहें, हेल्दी रहें

ठंड के मौसम में अक्सर लोग रजाई में बैठे रहना पसंद करते हैं। उनका घूमना, फिरना कम हो जाता है, सर्दी के कारण लोग वॉक आदि भी बंद कर देते हैं। लेकिन ऐसा करना नुकसानदायक हो सकता है। आप ठंड के मौसम में भी अपनी एक्टिविटीज और व्यायाम नियमित रखें। व्यायाम से हमारी हृदय गति बढ़ती है। ऐसे में पूरे शरीर में रक्त का संचार होता है। इससे रक्त वाहिकाएं भी स्वस्थ रहती हैं, उनमें प्लाक नहीं जमता और वे डेमेज नहीं होतीं।

मालिश को रूटीन में करें शामिल

ठंड के मौसम में मालिश करवाना बहुत फायदेमंद रहता है। इससे परिसंचरण तंत्र में सुधार होता है। हालांकि यह वर्कआउट का विकल्प नहीं है। सर्दियों में मालिश के कई फायदे हैं। यह आपके शरीर में रक्त संचार को तेज करती है। आपके शरीर के दर्द को दूर करती है। साथ ही आपकी स्किन को भी हेल्दी रखती है। ऐसे में इसे अपने रूटीन में शामिल करें।

Also Read

More News

टेंशन को कहें बाय-बाय

टेंशन कई बीमारियों की जड़ है। यह आपकी ऊर्जा के स्तर को कम कर देता है। शोध बताते हैं कि तनाव आपके परिसंचरण को भी प्रभावित करता है। बढ़े हुए तनाव के स्तर से रक्तचाप बढ़ सकता है, जिससे नसों की दीवारों पर तनाव बढ़ जाता है। जिससे बड़ी परेशानियां हो सकती हैं। ऐसे में खुश रहने की कोशिश करें। परिवार के साथ समय बिताएं। योग और मेडिटेशन का सहारा लें।

शरीर को हाइड्रेटेड रखें

सर्दियों में अक्सर लोग पानी कम पीने लगते हैं, लेकिन यह खतरनाक हो सकता है। ठंड के मौसम में भी शरीर को हाइड्रेट रखना जरूरी है। जब आपका शरीर अच्छे से हाइड्रेट होता है तो दिल के लिए शरीर में ब्लड पंप करना काफी आसान हो जाता है, जिससे उसपर दबाव कम पड़ता है। जब हमारा शरीर कम हाइड्रेट होता है तो ब्लड में सोडियम अधिक जमा होने लगता है। जिससे ब्लड गाढ़ा होने लगता है और उसे पूरे शरीर में प्रवाहित होने में परेशानी होती है। इसलिए दिनभर में आप पर्याप्त मात्रा में पानी पिएं।

स्वस्थ आहार है जरूरी

स्वस्थ परिसंचरण के लिए स्वस्थ आहार बेहद जरूरी है। संतुलित आहार से आप अपनी रक्त वाहिकाओं को भी फिट रख सकते हैं। बहुत अधिक फैट, नमक और चीनी वाला आहार खाने से ब्लड प्रेशर और कोलेस्ट्रॉल दोनों का स्तर बढ़ने का खतरा रहता है। जिससे धमनियों में प्लाक जमा होता है और रक्त संचार में बाधा उत्पन्न होती है। ​इसलिए अपनी डाइट में ज्यादा से ज्यादा साबुत अनाज, फल, सब्जियां और बीन्स शामिल करें। इसी के साथ लहसुन, प्याज, लाल मिर्च का सेवन भी फायदेमंद है। शोध के अनुसार लहसुन रक्त प्रवाह में 50 प्रतिशत तक सुधार कर सकता है। वहीं लाल मिर्च से भी रक्त वाहिका की शक्ति बढ़ती है। प्याज भी रक्त प्रवाह और धमनी फैलाव में काफी सुधार कर सकता है। धूम्रपान और शराब के सेवन से बचें।