Advertisement

डुकन (Dukan) डायट क्या है और इससे वजन कैसे कम होता है?

क्या वजन कम करने के लिए इस डायट को लेने से कुछ नुकसान भी हो सकता है!

डायट के जरिए वजन कम करना कोई नई बात नहीं है। आजकल लोग वजन घटाने के लिए विभिन्न डायट का सहारा ले रहे हैं। इन्हीं डायट में से एक है डुकन डायट भी, जिसका बड़े लेवल पर इस्तेमाल किया जा रहा है। फ्रांस के मशहूर न्यूट्रिशनिस्ट पियरे डुकन ने इस डायट को तैयार किया है। यह कार्बोहाइड्रेट सेवन को सीमित करने के सिद्धांत पर आधारित है जिससे शरीर को फैट बर्न करने और वजन कम करने में मदद मिलती है। मुंबई स्थित फोर्टिस हॉस्पिटल में न्यूट्रिशनिस्ट डॉक्टर पुर्वा दुग्गल आपको इस डायट के बारे में विस्तार से बता रहे हैं।

इस डायट में प्रोटीन से भरपूर चीजें अधिक खानी होती हैं और फल, स्टार्च वाली सब्जियां, फलियां और साबुत अनाज सहित कार्बोहाइड्रेट वाली चीजों का सेवन सीमित करना होता है। कम फैट और प्रोटीन वाली चीजें जैसे मछली, मुर्गी और कम फैट वाले डेयरी उत्पादों की सिफारिश की जाती है। इस डायट को चार चरणों में लिया जाता है जिसमें प्रोटीन वाली चीजें खाना, खूब पानी पीना और रोजाना कम से कम बीस मिनट चलना शामिल है।

यह कैसे काम करती है?

Also Read

More News

अधिक प्रोटीन होने की वजह से इस डायट से आपके मेटाबोलिज्म में सुधार होता है। इसके अलावा, इससे आपको उल्टी-सीधी चीजों के सेवन को सीमित करने में मदद मिलती है, जिनसे आपका फैट बढ़ सकता है। इस तरह इससे आपको अपना वजन कम करने में मदद मिलती है।

साइड इफेक्ट्स

हालांकि इस डायट के कुछ साइड इफेक्ट्स भी हैं। इसमें प्रोटीन वाली चीजों पर ध्यान केंद्रित किया जाता है। लेकिन भारतीयों के खाने में पश्चिमी देशों की तुलना में कम प्रोटीन होता है। कुछ चीजों पर प्रतिबंध से आवश्यक विटामिन और खनिज नहीं मिल पाते हैं, जिससे पोषण संबंधी कमी का खतरा बढ़ सकता है। हर कोई कम कार्बोहाइड्रेट डायट के अनुकूल नहीं हो सकता क्योंकि इससे सुस्ती और थकान हो सकती है। इसके अलावा यह डायट किडनी की समस्याओं, उच्च कोलेस्ट्रॉल और गाउट से ग्रस्त लोगों के लिए उपयुक्त नहीं है।

Read this in English

अनुवादक – Usman Khan

चित्र स्रोत - Shutterstock

Total Wellness is now just a click away.

Follow us on