Sign In
  • हिंदी

International Yoga Day 2020: नरेंद्र मोदी ने कहा प्राणायाम से बढ़ती है इम्यूनिटी, जानें इसके अभ्यास का सही तरीका

International Yoga Day 2020: नरेंद्र मोदी ने कहा प्राणायाम से बढ़ती है इम्यूनिटी, जानें इसके अभ्यास का सही तरीका

प्राणायाम सेहत के लिए बहुत ही फायदेमंद और उपयोगी हैं क्योंकि, ये मन और हृदय के तनाव को कम करते हैं। प्राणायाम के कई प्रकार हैं। जिन्हें, आप घर पर और आसानी से कर सकते हैं। एक्सपर्ट्स प्राणायाम करने वालों को इन ब्रीदिंग एक्सरसाइज़ेस की एक पूरी श्रृंखला सिखाते हैं और उसे ही अपनाने की सलाह भी देते हैं। कपालभांति, भ्रामरी, अनुलोम विलोम (नाड़ी शोधन प्राणायाम) प्राणायम के ही प्रकार हैं। आइए जानते हैं प्राणायाम करने के लिए सही समय और इसके सही तरीके के बारे में। (International Yoga Day 2020 in hindi)

Written by Sadhna Tiwari |Updated : June 21, 2020 4:25 PM IST

International Yoga Day 2020:  आज विश्वभर में छठवां विश्व योग दिवस (International Yoga Day)  मनाया जा रहा है। योगासनों के साथ हर व्यक्ति को प्राणायाम भी करना चाहिए। प्राणायाम (Pranayam) योग का ही एक प्रकार है जिसमें सांसों की गति को नियंत्रित करते हुए अभ्यास किया जाता है। प्राणायाम सेहत के लिए बहुत ही फायदेमंद और उपयोगी हैं। क्योंकि, यह मन और हृदय के तनाव को कम करते हैं। प्राणायाम के कई प्रकार हैं। जिन्हें, आप घर पर और आसानी से कर सकते हैं। एक्सपर्ट्स प्राणायाम करने वालों को इन ब्रीदिंग एक्सरसाइज़ेस श्र की एक पूरी श्रृंखला सिखाते हैं और उसे ही अपनाने की सलाह भी देते हैं। कपालभांति, भ्रामरी, अनुलोम विलोम (नाड़ी शोधन) प्राणायाम के ही प्रकार हैं। आइए जानते हैं प्राणायाम करने के लिए सही समय और इसके सही तरीके के बारे में। (International Yoga Day 2020 in hindi)

ये हैं प्राणायाम के 3 मूल नियम :

पूरक: नियंत्रित गति से सांस लेने की क्रिया को पूरक कहते हैं।

कुंभक: अंदर ली हुई सांस को क्षमतानुसार रोककर रखने की क्रिया को कुंभक कहते हैं।

Also Read

More News

रेचक: सांस को खींचकर रखने के बाद उसे नियंत्रित गति से छोड़ने की क्रिया को रेचक कहते हैं।

इन्ही तीनों नियमों पर पूरा प्राणायाम निर्भर करता है। प्राणायाम के अभ्यास के समय इनका ही पालन किया जाता है जिससे, शरीर को प्राणायाम के सही फायदे मिलते हैं और किसी प्रकार के नुकसान से भी शरीर को बचाने में मदद होती है।

क्या है प्राणायाम करने का सही तरीका?

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि कोविड काल में खुद की इम्यूनिटी बढ़ाने और सांस संबंधी बीमारियों से बचने में प्राणायाम मददगार साबित हो सकता है। इसीलिए, कोरोना वायरस के खिलाफ खुद को मज़बूत बनाने के लिए इसका अभ्यास ज़रूर करें। दरअसल, प्राणायाम का सबसे बड़ा फायदा यही है कि इससे, लंग्स यानि फेफड़े मज़बूत बनते हैं। इसके अभ्यास के समय आपके शरीर में ऑक्सीज़न का स्तर बढ़ जाता है। जिससे, फेफड़ों का विस्तार होता है और उसके मसल्स भी मज़बूत बनते हैं। यहां हम लिख रहे हैं प्राणायाम करने के सही तरीके-

  • इसका अभ्यास बैठकर या खड़े रहते हुए भी किया जा सकता है।
  • सबसे पहले अपनी कमर पर हाथ रखें, फिर आराम से धीरे-धीरे गहरी सांस लें। थोड़ी देर के लिए सांस रोक कर रखें।
  • फिर, धीरे-धीरे सांस छोड़ें अपनी सुविधा के अनुसार दोहराएं। दिन में 3-4 बार इसका अभ्यास करें।

अनुलोम विलोम प्राणायाम का अभ्यास करें ऐसे:

  • सुखासन या किसी भी आराम दायक मुद्रा में बैठें।
  • फिर, सांस छोड़ते हुए फेफड़ों में भरी हवा को बाहर निकालें।
  • अब, दाहिने हाथ के अंगूठे को दाहिनी तरफ नाक पर रखें, और बायीं तरफ से सांस खींचें।
  • फिर अनामिका उंगली नाक की बायी तरफ रखें और अब दाहिनी तरफ से सांस लें। ऐसा 10 बार करें।

International Yoga Day 2020: योग से रहते हैं प्रधानमंत्री हमेशा एनर्जेटिक, जानें नरेंद्र मोदी करते हैं किस योगासन का अभ्यास

Reusable Face Mask: इज़रायल में बना रियूज़ेबल फेस मास्क वायरस को करेगा खत्म, मिलेगी कोविड-19 से दोगुनी सुरक्षा

 Covid-19 in India: 97 दिनों में हुई 12 हजार लोगों की मृत्यु, भारत में कोविड-19 के मामले साढे़ 3 लाख के पार

Covid-19 Cases in Mumbai: मॉनसून में बढेंगे मुंबई में कोविड-19 के मामले, एक्सपर्ट्स ने किया दावा

Total Wellness is now just a click away.

Follow us on