Advertisement

वजन कम कर रहे हैं तो खाने में शामिल करें ये जादुई मसाला

मेटाबॉलिज्‍म को बेहतर बनाकर वजन कम करने में भी मिलती है मदद।

काली मिर्च सफेद और काली दो तरह की होती हैं। कालीमिर्च के आधा पक जाने पर काली मिर्च सफेद हो जाती है। वनस्पति विशेषज्ञों के अनुसार पूरी तरह पक जाने पर काली मिर्च का तीखापन अपने आप कम हो जाता है। काली मिर्च न सिर्फ दाल-सब्जी और पकवान का स्‍वाद बढ़ाती है, बल्कि यह वेट लॉस में भी मदद करती है। अगर आप आवाज मीठी बनाना चाहते हैं तो भी काली मिर्च आपके काम आ सकती है।

  • सुबह सुबह गर्म पानी के साथ कालीमिर्च का सेवन करने से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है | इसके अलावा ये हमारे बॉडी सेल्स को भी पोषण देने का काम भी करती है |
  • जुकाम होने पर पिसी काली मिर्च मिलाकर गर्म दूध पिएं। मौसमी एलर्जी से अगर बार-बार कफ की शिकायत हो रही हो तो काली मिर्च असरदार साबित होगी।
  • यदि जुकाम (cold cough ) लम्बे समय से बार-बार होता है और छींके आती हैं तो काली मिर्च की संख्या एक से शुरू करके रोज एक बढ़ाते हुए 15 दिन तक खाएं। ऐसा ही 15 दिन के बाद वापस एक-एक घटाते हुए खत्म करें। ऐसा करने से पुराना जुकाम नजला खत्म हो जाएगा।
  • काली मिर्च को गुनगुने पानी में मिलाकर पीने से बॉडी को भरपूर आयरन मिलता है। यह एनीमिया यानि खून की कमी से भी बचाता है यह जॉइंट पैन से बचाव करता है। इससे बॉडी के जहरीले पदार्थ यानि टॉक्सिन्स दूर होते हैं। यह कब्ज को भी दूर करता है। इससे बॉडी का मेटाबॉलिज्म बढ़ता है।
  • यह तेजी से वजन कम करता है। इससे शरीर में नमी बनी रहती है और चेहरे की चमक भी बढ़ती है। इससे मसल्स मजबूत होती हैं।
  • नीबू और अदरक के 5-5 ग्राम रस में 1 ग्राम काली मिर्च का पाउडर मिलाकर सेवन करने से पेट का दर्द ठीक होता है।
  • काली मिर्च के 5 दाने मिसरी मिले दूध के साथ निगलने से तेज जुकाम भी जल्द ही ठीक होता है।
  • काली मिर्च की तासीर गर्म होती है। गर्मी के दिनों में गर्मी को कम करने के लिए इसे गुनगुने पानी के साथ लेना फायदेमंद होता है।
  • खांसी होने पर आधा चम्मच काली मिर्च का पाउडर और आधा चम्मच शहद मिलाकर दिन में 3-4 बार खाने से खांसी दूर होती है।

medicinal-benefits-black-pepper

  • गैस की शिकायत होने पर एक कप पानी में आधे नीबू का रस डालकर आधा चम्मच काली मिर्च का पाउडर और आधा चम्मच काला नमक मिलाकर रोज कुछ दिन तक सेवन करने से गैस की दिक्कत दूर होती है।
  • गला खराब होने पर कालीमिर्च में घी और मिश्री के साथ मिलाकर लेने से बंद गला खुल जाता है। कालीमिर्च का रोज सेवन करने से आवाज मीठी होती है। इसके अलावा गले में किसी तरह का इंफेक्शन होने से कालीमिर्च को पानी में उबालकर गरारे करने से गले की दिक्कत दूर होती है।
  • काली मिर्च को बारीक पीसकर घी में मिलाकर चहेरे पर लेप लगाएं। इससे फोड़े-फुंसी, दाद जैसे रोग आसानी से ठीक हो जाते हैं |
  • काली मिर्च, पीपल, जीरा, सेंधा नमक और सोंठ सभी चीजें बराबर मात्रा में लेकर पीसकर पाउडर बना लें। इसमें से एक चम्मच पाउडर भोजन के बाद पानी के साथ सेवन करने से पाचन शक्ति की कमजोरी ठीक होती है।
  • काली मिर्च के 5 दाने, अजवायन 1 ग्राम और हरी गिलोय 10 ग्राम लेकर सबको 100 ग्राम पानी में उबालकर छानकर सुबह-शाम पीने से मलेरिया बुखार ठीक हो जाता है।
  • काली मिर्च को पानी में उबालकर, छानकर उस पानी से गरारे करने से गला बैठने और दांतों का दर्द ठीक होता है। काली मिर्च को प्याज व नमक के साथ पीसकर सिर के बालों में लगाने से दाद, खुजली के कारण झड़ने वाले बालों की सुरक्षा होती है।

चित्रस्रोत: Shutterstock.

Also Read

More News

Stay Tuned to TheHealthSite for the latest scoop updates

Join us on