Sign In
  • हिंदी

जानिये सत्तू के फायदे और उसकी एक मज़ेदार रेसिपी

सत्तू में होता है उच्च मात्रा में फाइबर। जानिये कुछ और फायदे।

Written by Editorial Team |Updated : January 5, 2017 2:41 PM IST

Read this in English.

जो लोग बिहार में रहते हैं उन्होंने ज़रूर सत्तू के बारे में सुना होगा। ये एक ऐसी ख़ास चीज़ है जिसे बिहारी लोग बहुत चाव से खाते हैं। चाहे वो बिहार में रहते हों या बिहार से बाहर। जो लोग बिहार से बाहर देश के अलग अलग कोने में रहते हैं वो छुट्टियों के दौरान बिहार जाकर वहां से अपने लिए सत्तू का पूरे साल का स्टॉक लाना नहीं भूलते।

अब सवाल उठता है कि सत्तू है क्या? सत्तू शुरू में भुने चने के आटे का बनता था। लेकिन अब इसमें कुछ और चीज़ें मिलाई जाने लगी है। जैसे कि जौ का आटा, गेहूं का आटा आदि। सत्तू को बहुत तरह से बनाया जाता है। सत्तू के परांठे, लड्डू, लिट्टी चोखा और बहुत सी चीज़ें।

Also Read

More News

 सत्तू के फायदे

  • सत्तू संतुलित पोषकों का मिश्रण होता है। इसे सबसे ज्यादा हेल्दी तरीके  यानि भूनकर बनाया जाता है। इस तरीके से पोषक तत्व बने रहते हैं और इनको सहेजकर रखने का समय बढ़ जाता है।
  • इसमें उच्च मात्रा में फाइबर होता है जो कि पेट  के लिए बहुत लाभदायक होता है।
  •  इसमें लो ग्लाईसेमिक इंडेक्स होने के कारण यह डायबिटीज़ रोगी के लिए अच्छा होता है। सत्तू में ठंडक देने वाले तत्व भी होते हैं।

हम यहां आपको सत्तू से बनने वाली एक बहुत लोकप्रिय डिश लिट्टी चोखा की रेसिपी बता रहे हैं। लिट्टी चोखा बिहार की पारंपरिक डिश है। ये आमतौर पर शाम को खाया जाता है। लिट्टी को चोखा के साथ परोसा जाता है, जो कि टमाटर, बैंगन और आलू से तैयार किया जाता है। (tarladalal.com पर एक मेंबर द्वारा शेयर की गई।)

तैयारी में लगने वाला समय : 30 मिनट

बनाने में लगने वाला समय : 20 मिनट (6-7 पीस के लिए)

सामग्री:

लिट्टी के लिए

  • 2 कप गेहूं का आटा

  • ½ चम्मच अजवायन

  • दो चम्मच रिफाइंड ऑयल

  • ¾ चम्मच नमक

  • 2 चम्मच घी

 स्टफिंग के लिए

  • एक कप भुना हुआ बेसन

  • 2 से 4 हरी मिर्ची, बारीक कटी हुई

  • ½ चम्मच भुने जीरा

  • ½ चम्मच अदरक, बारीक कटा हुआ

  • ½ चम्मच लहसुन, बारीक कटा हुआ

  • ½ कटोरी हरा धनिया, बारीक कटा हुआ

  • 1 चम्मच आमचूर पावडर

  • 1 चम्मच भरवां लाल मिर्च अचार का मसाला

  • 1 चम्मच नींबू का रस (वैकल्पिक)

  • ½ चम्मच अजवायन

  • 1 चम्मच प्याज़, बारीक कटी हुई

  • 1 चम्मच सरसों का तेल

  • पानी

  • नमक स्वादानुसार

चोखा के लिए

  • दो मध्यम आकार के उबले आलू

  • 1 मध्यम आकार का बैंगन

  • 2 मध्यम आकार के टमाटर

  • 2-3 बारीक हरी मिर्च, बारीक कटी हुई

  • ½ कटोरी प्याज़, बारीक कटी हुई

  • 1 चम्मच धनिया, बारीक कटा हुआ

  • 1 चम्मच सरसों का तेल

  • नमक स्वादानुसार

 लिट्टी तलने के लिए रिफायंड तेल

 विधि

लिट्टी के आटे के लिए – आटा लें, उसमें नमक, अजवायन, कलौंजी और रिफायंड तेल मिला लें। पानी के साथ आटा गूंथें। एक गीले कपड़े से आटा ढक कर रख दें।

स्टफिंग के लिए – एक कटोरी में सत्तू या भुना बेसन लें। उसमें सभी सामग्री मिलाएं। अगर मिश्रण बहुत सूखा हो तो आप उसमें मिला सकते हैं लेकिन ध्यान रखें पानी ज्यादा न हो जाए।

लिट्टी के लिए - आटा लें। उसके 6-7 मध्यम आकार के गोले बना लें। हर एक गोले को लेकर हथेली पर रखकर चपटा कर लें। उसके ऊपर थोड़ा सा स्टफिंग किया हुआ सत्तू  डालें और फिर उसे बंद कर लें। उंगली की सहायता से उसका खुला मुंह बंद कर लें। फिर कढ़ाई में तेल गर्म करें और उसे सुनहला रंग का होने तक तलें।

चोखा के लिए - टमाटर को उबाल लें और एक तरफ रख दें। बैंगन को आधा काट के आग में रखकर दोनों तरफ से भून लें। फिर एक बर्तन लें और उसमें ठंडा पानी डालें। इस पानी में भुना बैंगन डाल लें। इस बैंगन की जली परत को निकाल लें। आलू, बैंगन और टमाटर को एक साथ मसल लें। आखिर में प्याज़, धनिया पत्ती, नमक, हरी मिर्च और तेल को मिला लें। बाकी की सभी सामग्री भी मिला लें।

परोसते समय लिट्टी को चोखे के साथ परोसे।

मूल स्रोत : Sattu – why is it healthy?

अनुवादक : Shabnam Khan

चित्र स्रोत : Wikimedia Commons


हिन्दी के और आर्टिकल्स पढ़ने के लिए हमारा हिन्दी सेक्शन देखिए।लेटेस्ट अप्डेट्स के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो कीजिए।स्वास्थ्य संबंधी जानकारी के लिए न्यूजलेटर पर साइन-अप कीजिए।

Total Wellness is now just a click away.

Follow us on