Sign In
  • हिंदी

वजन कम करने से जुड़े 5 सबसे फेमस डायट प्लान और उसके साइड इफेक्ट्स

इनमें से कई डायट प्लान को लम्बे समय तक अपनाने से शरीर में पोषक तत्वों की कमी हो जाती है!

Written by Editorial Team |Published : August 22, 2017 5:22 PM IST

वजन कम करने के लिए इस समय पूरी दुनिया में तरह तरह के डाइटिंग प्लान अपनाएं जा रहे हैं। खासतौर पर इन दिनों फैड डायट काफी प्रचलन में है जिसमें कुछ ही दिनों में बहुत अधिक वजन कम करने का दावा किया जाता है। इसमें कुछ दिन तक सिर्फ कुछ ख़ास चीजों का खाना होता है जिससे वजन तेजी से कम होने लगता है। कई लोग इसे अपना रहे हैं जबकि वे बाद में होने वाले नुकसान के बारे में नहीं सोच रहे हैं। मुलुंड स्थित फोर्टिस हॉस्पिटल के हेड ऑफ़ न्यूट्रीशन डॉ. पूर्वा दुग्गल इन फेमस डायट प्लान से जुड़ी जानकारियां दे रही हैं।

एटकिंस डायट : यह एक लो कार्बोहाइड्रेट डायट प्रोग्राम है जिसमें कार्बोहाइड्रेट के सेवन को नियंत्रित करके वजन कम करने का दावा किया जाता है। इसमें प्रोटीन का सेवन ज्यादा होता हैं और कार्बोहाइड्रेट का सेवन कम होता है। अगर आप लम्बे समय तक इस हाई प्रोटीन, लो-कार्बोहाइड्रेट डायट का सेवन करते हैं तो इससे आगे चलकर दिल और किडनी से जुड़ी बीमारियों का खतरा ज्यादा रहता है। इसके अलावा कैल्शियम की कमी भी हो सकती है जिससे आपकी हड्डियाँ कमजोर पड़ सकती हैं।

रॉ फ़ूड डायट : इस डायट प्लान में सिर्फ ताजे फलों, सब्जियों, नट्स, साबुत अंकुरित अनाज और बींस का कच्चा सेवन करना होता है। कुछ एक्सपर्ट का मानना है कि पकाने से इन चीजों के पोषक तत्व नष्ट हो जाते हैं। ये सच है कि इस डाइट प्लान से पोषक तत्वों और एनर्जी ज्यादा हासिल होती है लेकिन इससे डायबिटीज, कैंसर और कार्डियोवैस्कुलर बीमारियों का खतरा ज्यादा रहता है। लम्बे समय तक एक ही टाइप की चीज खाने से कुछ ख़ास मिनरल्स जैसे कि कैल्शियम, आयरन और प्रोटीन की कमी भी हो जाती है।

Also Read

More News

जीएम डायट : यह 7 दिनों का डायट प्लान है जिसमें रोजाना अलग अलग किस्म की चीजें खानी होती हैं। यह डायट प्लान जनरल मोटर के कर्मचारियों के लिए बनाया गया था जिसे बाद में पूरी दुनिया में अपनाया जाने लगा। ये सच है कि इससे वजन कम होता है लेकिन शुरुवाती दिनों में जो वजन कम होता है वो सिर्फ वाटर लॉस के कारण होता है और फिर जब आप वापस वैसा ही सामान्य खानपान अपनातें हैं तो दोबारा वजन बढ़ने लगता है। इस डायट प्लान को हर थोड़े दिनों बाद अपनाने से आपका शरीर भी कमजोर पड़ सकता है।

ब्लड टाइप डायट : यह डायट प्लान खासतौर पर आपके ब्लड टाइप के हिसाब से डिजाईन की जाती है। जब आप इसे अपनाते हैं तो आप जो भी खातें हैं वो बहुत तेजी से पचने लगता है। इसी वजह से इस डाइट प्लान को अपनाने से वजन कम होने लगता है। ऐसा दावा है कि इससे सिर्फ वजन ही कम नहीं होता बल्कि आप कई तरह की बीमारियों से भी बचे रहते हैं। हर एक ब्लड ग्रुप के लोगों के लिए अलग डाइट प्लान होता है और उन्हें कुछ ख़ास चीजों को ना खाने की सलाह दी जाती है।

लम्बे समय तक इस डाइट को अपनाने से शरीर में पोषक तत्वों की कमी हो सकती है। जैसे कि अगर आप फलों और सब्जियों या अनाज की जगह पर सिर्फ मीट का सेवन कर रहे हैं तो आपके दिल से जुड़ी बीमारियां और कैंसर होने का खतरा काफी बढ़ जाता है। वहीँ कुछ ख़ास ब्लड ग्रुप वाले लोगों को कैल्शियम की कमी और ओस्टियोपोरोसिस जैसी बीमारियों का खतरा रहता है।

साउथ बीच डायट : इस डायट प्लान में वजन कम करने के लिए कार्बोहाइड्रेट का कम सेवन जबकि प्रोटीन और फैट का ज्यादा सेवन करना होता है। हालांकि इस डायट प्लान को अपनाने से केटोसिस नामक बीमारी का खतरा ज्यादा बढ़ जाता है जो शरीर में कार्बोहाइड्रेट की कमी के कारण होता है। इसके अलावा लम्बे समय तक इसे अपनाने से मिचली आना, सिर में दर्द और हमेशा थकान जैसी समस्याएँ होने लगती हैं।

Read this in English

अनुवादक: Anoop Singh

चित्रस्रोत : Shutterstock

Total Wellness is now just a click away.

Follow us on