Advertisement

माइग्रेन दर्द से पा सकते हैं छुटकारा, बस रोजाना करना होगा ये प्रणायाम

अगर आप रोजाना भ्रामरी प्राणायाम (Bhramari pranayama) करते हैं, तो इससे आपको माइग्रेन की समस्या से छुटकारा मिलेगा.

आमतौर पर माइग्रेन 3 से 4 घंटे तक रहता है। लेकिन कभी-कभी यह समस्या काफी लंबे समय तक रहता है। आज हम आपको भ्रामरी प्राणायाम  (Bhramari Pranayam) के बारे में बताने जा रहे हैं, जिससे आप माइग्रेन के दर्द से काफी हद तक छुटकारा पा सकते हैं।

Bhramari Pranayam: भागती-दौड़ती जिंदगी में सिर दर्द होना एक आम बात दो चुकी है। लेकिन जब यह समस्या बढ़ती है, तो माइग्रेन (Migraine) का रूप ले लेती है। माइग्रेन मतली, उल्टी और प्रकाश के प्रति संवेदनशीलता के साथ शुरू होता है। आमतौर पर माइग्रेन 3 से 4 घंटे तक रहता है। लेकिन कभी-कभी यह समस्या काफी लंबे समय तक रहता है। आज हम आपको भ्रामरी प्राणायाम  (Bhramari Pranayam) के बारे में बताने जा रहे हैं, जिससे आप माइग्रेन के दर्द से काफी हद तक छुटकारा पा सकते हैं। (Migraine Problem)

माइग्रेन से राहत के लिए करें भ्रामरी प्राणायाम

अमेरिकन माइग्रेन फाउंडेशन के अनुसार, माइग्रेन की समस्या महिलाओं को पुरुषों की तुलना में 3 गुना ज्यादा होता है। 10 से 40 साल की उम्र में माइग्रेन (Migraine) की समस्या होने लगती है। एक्सपर्ट के अनुसार, माइग्रेन का सिरदर्द कई  कारणों से हो सकता है। इन कारणों में थकान, तनाव, चिड़चिड़ापन, मौसम में बदलाव, खाना स्किप करना इत्यादि जैसी स्थिति हो सकती है। माइग्रेन का कोई सटिक इलाज नहीं होता, लेकिन इसके लक्षणों पर हम नियंत्रण कर सकते हैं। योग माइग्रेन को कंट्रोल करने  का सबसे अच्छा उपाय माना जाता है। योग एक्सपर्ट मानते हैं कि भ्रामरी प्राणायाम (Bhramari Pranayam) माइग्रेन के लिए सबसे अच्छा प्रणायाम है। इससे हमारा दिमाग काफी जल्दी शांत होता है। इसके साथ ही यह बेहतरीन ब्रीदिंग योगासन में से ए है। इस प्रणायाम से अवसाद, क्रोध, उत्‍तेजना जैसी समस्या को कंट्रोल किया जा सकता है।

क्या है भ्रामरी प्राणायाम ?

भ्रामरी प्राणायाम का नाम काली भारतीय मधुमक्‍खी से लिया गया है। यह मन को शांत करने के लिए काफी प्रभावी योगसन माना जाता है। इस योगासन को आप कही भी कर सकते हैं। वो चाहे घर हो या फिर ऑफिस कहीं भी इस आसान योगासन को आप कर सकते हैं। इस प्राणायाम में आपको सांस छोड़ते समय मधुमक्‍खी की ध्वनि निकालनी होती है। इसलिए इसे भ्रामरी प्राणायाम कहते हैं।

भ्रामरी प्राणायाम ( Bhramari pranayama ) के लाभ

अगर आप रोजाना  भ्रामरी प्राणायाम (Bhramari pranayama) करते हैं, तो इससे आपको माइग्रेन की समस्या से छुटकारा मिलेगा। इस प्रणायाम से गुस्सा और चिंता जैसी समस्या से भी निजात मिलता है।  हाइपरटेंशन या  फिर हाई ब्लप्रेशन के मरीजों को भी इस प्रणायाम से लाभ मिलता है। इस योगासन से ब्लड प्रेशर कंट्रोल में रहता है।  इसके साथ-साथ अगर आप एंसाइटी के शिकार हैं, तो इस प्रणायाम को अपने डैली रुटीन में जरूर शामिल करें। इससे आप कुछ ही समय में अपने आपको चिंता से मुक्त पाएंगे।

Total Wellness is now just a click away.

Follow us on