Sign In
  • हिंदी

जानिए लोग जुआ क्यों खेलते हैं, क्या नुकसान हैं और इससे कैसे बचा जा सकता है

जानिए जुआ खेलने वाले लोगों को मदद की जरूरत कब होती है!

Written by Editorial Team |Published : August 28, 2017 4:31 PM IST

क्या आपने कभी लॉटरी की टिकट खरीदा है? क्या आपने अपनी पसंदीदा टीम पर कुछ पैसों की शर्त लगाई है? वास्तव में इन आदतों को जुआ कहते हैं। यह एक ऐसा काम है जिसमें अधिकतर लोग किसी न किसी तरह संलिप्त हैं। वास्तव में यह लत एक ऐसा वायरस है जो आपको धीरे-धीरे खोखला बना देती है। इससे आदमी कर्जदार बन सकता है और उस व्यक्ति की लाइफ बर्बाद हो सकती है।

आपने हाल ही में खबरों में संदीप कौर का नाम सुना होगा। संदीप कौर फिलहाल अमेरिका की जेल में बंद हैं। संदीप कौर पर बैंक से चोरी करने का आरोप है। जुए में बुरी तरह से हारने के बाद कर्ज में डूबी संदीप कौर ने डकैती का सहारा लिया था। संदीप कौर की असल जिंदगी से प्रेरित 'सिमरन' नाम की फिल्म बन रही है जिसमें कंगना रानौत मुख्य भूमिका में हैं। उनका किरदार इस फिल्म में काफी बेबाक, बिंदास और अल्हड़ है। उनके किरदार सिमरन को जुआ खेलने और चोरी करने की बुरी लत है।

जुआ क्या है?

Also Read

More News

जुआ ऐसी कुछ चीज है जो आपको कुछ चीजों को हासिल करने के लिए मजबूर करता है और आखिरी में आपको खतरे में डाल सकता है। परंपरागत जुआ गतिविधियों में लॉटरी, घुड़दौड़, सट्टेबाजी और कार्ड गेम शामिल हैं। यह एक व्यापक गतिविधि है और कम से कम 86 फीसदी युवक जुए की किसी ना किसी गतिविधि में शामिल हैं जबकि 52 फीसदी वयस्क लॉटरी में भाग लेते हैं। ऐसा लगता है जैसे बहुत से लोग जुआ के आदी हैं।

लोग जुआ क्यों खेलते हैं?

वंद्रेवाला फाउंडेशन में साइकेट्रिस्ट डॉक्टर अरुण जॉन के अनुसार, 'यह जोखिम का रोमांच है, जो लोगों को जुए के लिए खींचता है।' शुरुआती भाग्य के मिथक को खारिज करते हुए डॉक्टर जॉन कहते हैं कि पहली बार जुआरी दांव बढ़ाकर वे पहले कुछ समय के लिए जीतते हैं। जब आप शुरुआत में जीतते हैं, तो आपको कॉंफिडेंट हो जाता है और उसके बाद आप हारना शुरू कर देते हैं। अपनी हार को जीत में बदलने के लिए ज्यादा बड़ी शर्त लगाते हैं। लॉटरी के मामले में छोटे जीत भी आत्मविश्वास पैदा करती हैं। यहां तक कि पुरस्कार राशि के रूप में मिलने वाले पांच रुपये भी आपके दिल में भविष्य में बड़ी जीत हासिल करनेकी उम्मीद पैदा कर देते हैं।

जोखिम में कौन है?

जुआ लत किसी को भी नहीं छोड़ती है। लेकिन डॉक्टर के अनुसार, यह आमतौर पर उन लोगों में देखा जाता है जो कि 18-35 आयु वर्ग के हैं। यह वह उम्र है जब पैसा महत्वपूर्ण हो जाता है और सहकर्मी मांग बढ़ जाती है।

आपको कब मदद की आवश्यकता होगी?

जॉन के अनुसार, जब आपकी आदतें आपको अपने पैसे गवांना शुरू करती हैं और आपके रिश्तों को खतरे में डालती हैं, तो इसका मतलब है कि आपको तत्काल मदद की ज़रूरत है। जो लोग निम्नलिखित गुणों का पांच या अधिक प्रदर्शन करते हैं उन्हें जुआ की लत या रोग जुआ के लिए पेशेवर मदद की आवश्यकता होगी। इसके अलावा अगर किसी व्यक्ति में यह लक्षण दिखते हैं, तो उन्हें मदद की जरूरत है-

•जुआ के साथ अति व्यस्तता।

• खेल के रोमांच को बनाए रखने के लिए बड़ी मात्रा में पैसा या महंगी चीजों के साथ जुआ खेलने की आवश्यकता।

• आदत को रोकने के दोहराए गए प्रयास विफल होने लगते हैं।

• जुआ का विरोध करने की कोशिश करते वक्त बेचैन या चिड़चिड़ा महसूस करता है।

• जुआ पलायनवाद का एक रूप बन जाता है।

• असहायता, चिंता, अपराध या अवसाद की भावनाओं को भूल जाने के लिए जुआ।

• खोए धन की वापसी के लिए किसी के नुकसान के लिए जुआ खेलना।

• पैसे के लिए प्रियजनों और मनोवैज्ञानिक को झूठ बोलना।

• आदत को बढ़ावा देने के लिए धोखाधड़ी, धोखाधड़ी या गबन जैसे आपराधिक व्यवहार में शामिल।

• जुआ के लिए नौकरी या रिश्तों को खतरे में डालना।

• आदत को बढ़ावा देने के लिए दूसरों से धन उधार लेना।

जुआ क्या आपके स्वास्थ्य को प्रभावित करता है?

पैथोलॉजिकल जुआ आपको अपने पैसे से निकलता है, लेकिन यह आपकी शरीर को भी प्रभावित करता है। डॉक्टर के अनुसार, 'लगभग सभी जीवन शैली संबंधी विकार उन लोगों में दिखाई देते हैं जो लगातार जुआ खेलते हैं जैसे- हाइपरटेंशन, डायबिटीज और हृदय संबंधी समस्याएं। अध्ययनों के अनुसार, इससे आपको तनाव हो सकता है जोकि सीधे रूप से आपके हृदय स्वास्थ्य, इम्युनिटी सिस्टम और आपके पेट के स्वास्थ्य पर प्रत्यक्ष असर पड़ता है।

डॉक्टर के अनुसार, जुआ खेलने वालों में गैस्ट्रिक समस्याएं आम हैं। उन्हें पेप्टिक अल्सर, अल्सरेटिव कोलाइटिस का जोखिम होता है। इसके अलावा उन्हें आंख से जुड़ी समस्याएं हो सकती हैं।

जुआ खेलने वालों के व्यवहार में एक महत्वपूर्ण बदलाव होता है। जीतने के साथ लगातार व्यस्तता व्यक्ति को और अधिक चिंतित कर देती है। वह जीतने के उत्साह और हताशा और अवसाद और चिंता के बीच घिरा रहता है।

जुआ की लत का इलाज कैसे किया जाता है?

सभी लतों की तरह, व्यक्ति को खुद को एक एडिक्शन सेंटर में जांचना होगा। कॉग्निटिव बेहवियर थेरेपी आमतौर पर आदर्श हैं। डॉक्टर के अनुसार, हमें व्यक्ति की जुआ आदत में पूरी तरह से जांच करनी होगी। इसका क्या कारण है? एबीसी (एक्शन, बिलीफ, कान्सक्वेन्स) चिकित्सा का मॉडल है, जो हम आमतौर पर उपयोग करते हैं।

सीबीटी जुआ के व्यवहार और विचारों को बदलने पर केंद्रित है। यह व्यसकों तक पहुंच जाता है और उनसे आग्रह करता है कि वे उन दुखद भावनाओं का सामना करें जो उन्हें पहली जगह पर जुआ करने के लिए प्रेरित करते हैं। उदाहरण के लिए, यदि व्यक्ति उत्तेजना या एड्रेनालाईन रश के लिए जुआ खेल रहा है, तो सीबीटी के माध्यम से व्यक्ति को रॉक क्लाइम्बिंग या स्पोर्ट्स जैसी स्वस्थ आदत लेने के लिए राजी किया जाता है, जो उसे रोमांच दे।

Read this in English

अनुवादक – Usman Khan

चित्र स्रोत - Shutterstock

सन्दर्भ- 1.Gerstein, D., Hoffmann, J., Larison, C., Engelman, L., Murphy, S., Palmer, A., … & Hill, M. A. (1999). Gambling impact and behavior study. Report to the National Gambling Impact Study Commission. National Opinion Research Center at the University of Chicago, Chicago.

2.Potenza, M. N., Fiellin, D. A., Heninger, G. R., Rounsaville, B. J., & Mazure, C. M. (2002). Gambling. Journal of General Internal Medicine, 17(9), 721-732.

3. Salleh, M. R. (2008). Life event, stress and illness. The Malaysian journal of medical sciences: MJMS15(4), 9.

4.Jazaeri, S. A., & Habil, M. H. B. (2012). Reviewing Two Types of Addiction – Pathological Gambling and Substance Use. Indian Journal of Psychological Medicine, 34(1), 5–11. http://doi.org/10.4103/0253-7176.96147

Total Wellness is now just a click away.

Follow us on