Advertisement

अमेरिकी रिसर्चर्स ने गामा कोविड वैरिएंट (पी1) में पाया और भी ज्यादा घातक म्यूटेंट, जो बढ़ा सकता है मौतों का आंकड़ा

अमेरिकी शोधकर्ताओं को गामा कोविड वैरिएंट (पी1) में अधिक घातक म्यूटेंट के बारे में पता चला है, जिससे मृत्यु दर में तेजी से वृद्धि आ सकती है।

Gamma Covid Variant in Hindi: कोरोनावायरस का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। अमेरिका में भी नए वैरिएंट के बारे में पता चला है। वहां के शोधकर्ताओं ने कहा है कि कोरोना रोग के गामा वैरिएंट (पी 1) में एक म्यूटेंट मृत्यु दर में वृद्धि से जुड़ा हुआ है। यह बात हार्वर्ड टी.एच. चैन स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ और एमआईटी के शोधकतार्ओं (US researchers) ने कही है। जेनेटिक एपिडेमियोलॉजी जर्नल में विस्तृत अध्ययन से पता चला है कि म्यूटेंट (mutations) में अधिक संचरण क्षमता, उच्च संक्रमण दर और बढ़ी हुई रोगजनकता भी होती है।

निष्कर्ष जीनोम-वाइड एसोसिएशन स्टडीज (जीडब्ल्यूएएस) पद्धति पर आधारित थे, जिसमें सार्स-सीओवी-2 म्यूटेशन और कोविड -19 मृत्यु डेटा के पूरे-जीनोम अनुक्रमण डेटा का विश्लेषण किया गया था। सितंबर 2020 में, टीम ने सार्स-सीओवी-2 वायरस के एकल-असहाय आरएनए के प्रत्येक उत्परिवर्तन और ब्राजील में 7,548 कोविड -19 रोगियों में मृत्यु दर के बीच संबंधों की तलाश की।

शोधकतार्ओं ने वायरस के जीनोम में 25,088बीपी के स्थान पर एक उत्परिवर्तन पाया, जो स्पाइक प्रोटीन को बदल देता है और कोविड -19 रोगियों में मृत्यु दर में उल्लेखनीय वृद्धि से जुड़ा था। टीम ने इस उत्परिवर्तन के साथ संस्करण को चिह्न्ति किया, जिसे बाद में पी 1 के भाग के रूप में पहचाना गया।

Also Read

More News

हार्वर्ड चैन स्कूल में बायोस्टैटिस्टिक्स के प्रोफेसर क्रिस्टोफ लैंग ने कहा, "हमारे अनुभव के आधार पर, जीडब्ल्यूएएस पद्धति उपयुक्त उपकरण प्रदान कर सकती है जिसका उपयोग वायरल जीनोम और बीमारी के परिणामों में विशिष्ट स्थानों पर उत्परिवर्तन के बीच संभावित लिंक का विश्लेषण करने के लिए किया जा सकता है।"

लैंग ने कहा, "यह महामारी में नोवेल, हानिकारक वेरिएंट/नए वायरल स्ट्रेन का बेहतर वास्तविक समय में पता लगाने में सक्षम हो सकता है।"

ब्राजील में पी 1 संस्करण के साथ पहले रोगियों को जनवरी 2021 में प्रलेखित किया गया था और कुछ ही हफ्तों के भीतर इस प्रकार के कारण ब्राजील के मनौस में मामलों में वृद्धि हुई। मई 2020 में शहर पहले ही महामारी की चपेट में आ गया था और शोधकतार्ओं ने सोचा कि शहर के निवासियों ने जनसंख्या प्रतिरक्षा हासिल कर ली है क्योंकि उस प्रारंभिक लहर के दौरान क्षेत्र के बहुत से लोगों ने वायरस के लिए एंटीबॉडी विकसित कर ली थी।

इसके बजाय, पी 1, जिसमें स्पाइक प्रोटीन में कई उत्परिवर्तन होते हैं जो वायरस एक मेजबान सेल से जुड़ने और आक्रमण करने के लिए उपयोग करता है, संक्रमण की दूसरी लहर का कारण बनता है और ऐसा लगता है कि उच्च संचरण क्षमता है और पहले के वेरिएंट की तुलना में मृत्यु का कारण बनने की अधिक संभावना है।

ब्राजील ने हाल ही में आधा मिलियन कोविड -19 मौतों को पार कर लिया है। राष्ट्रीय मृत्यु का आंकड़ा 5,00,800 तक पहुंचने के साथ, ब्राजील अमेरिका के बाद महामारी से होने वाली पांच लाख से अधिक मौतों को दर्ज करने वाला दुनिया का दूसरा देश बन गया है।

Stay Tuned to TheHealthSite for the latest scoop updates

Join us on