Sign In
  • हिंदी

वजाइनल इंफेक्शन से बचा सकता है इंनरवियर, बस आपको रखना होगा इन बातों का ख्याल

वजाइनल इंफेक्शन से बचा सकता है इंनरवियर्स, बस आपको रखना होगा इन बातों का ख्याल।© Shutterstock.

यूटीआई और वजाइनल इंफेक्शन की समस्याएं महिलाओं में आम होती हैं। प्रेग्नेंसी के समय यह परेशानी बहुत ही अधिक होती है। इन समस्याओं से आप प्राइवेट पार्ट्स की हाइजीन का ख्याल रखकर बच सकती हैं।

Written by Kishori Mishra |Published : June 23, 2020 7:48 PM IST

Underwear and Vaginal Infection : यूटीआई और वजाइनल इंफेक्शन की समस्याएं महिलाओं में आम होती हैं। प्रेग्नेंसी के समय में यह परेशानी बहुत ही अधिक होती है। इन समस्या से आप प्राइवेट पार्ट्स की हाइजीन का ख्‍याल रखकर बच सकती हैं। अगर आप अंडरगार्मेंट्स (Underwear and Vaginal Infection) को ठीक से साफ नहीं करते हैं, तो उससे भी वजाइना में इंफेक्शन होने का खतरा बढ़ सकता है।

धूप और हवा से दूर रहने और जननंगों के लगातार संपर्क में आने के कारण अंडरगार्मेंट्स में कई तरह के कीटाणु पनपते हैं। साफ अंडरगार्मेंट न पहनने के कारण जनगांगो में संक्रमण और यूटीआई (मूत्र मार्ग संक्रमण) जैसी बीमारी होने का खतरा बढ़ सकता है। आइए जानते हैं कैसे आप इंडरवियर के सही इस्तेमाल से वजाइनल इंफेक्शन (Underwear and Vaginal Infection) के खतरे से बच सकते हैं।

हाइजीन को ध्यान में रखकर चुनें इनरवियर्स

सिर्फ फैशन और ट्रेंड के हिसाब से ही महिलाओं को इनरवियर्स का चुनाव नहीं करना चाहिए, बल्कि सेहत को ध्यान में रखकर भी इनरवियर खरीदना चाहिए। नाइलॉन या मिक्स कॉटन के फैंसी इनर्स चुनने के कारण आपके वजाइना में इंफेक्शन होने का खतरा बढ़ता है। ऐसे कपड़ों की जगह पर आप प्योर कॉटन के आरामदायक इनर्स चुनें। इससे आपकी स्किन को सांस लेने का पूरा अवसर मिलेगा। कॉटन के कपड़े आपके शरीर का पसीना सोखते में आपकी मदद करता है। एयर पास होने की वजह से आप स्किन इंफेक्शन से बच सकते हैं।

Also Read

More News

वॉशिंग मशीन में ना धोएं इनरवियर्स

कई लोग गंदे कपड़ों के साथ इनरवियर्स को भी वॉशिंग मशीन में धोने के लिए डाल देते हैं। दो-तीन दिन ये ऐसे ही गंदे कपड़े में पड़े रहते हैं, जो सही नहीं हैं। इन्हें बाकी कपड़ों से अलग साफ करना चाहिए। इनसे कई तरह के इंफेक्शन दूसरे कपड़ों में भी प्रवेश कर सकते हैं। ऐसे में जरूरी है कि आप अंडरवियर, ब्रा, शॉर्ट्स आदि को नहाते समय खुद से ही साफ कर लें। इससे ये अच्छी तरह से साफ भी होते हैं।

प्राइवेट पार्ट की रखें सफाई

गाइनोकॉलजिस्ट के मुताबिक, महिलाओं को कम से कम दिन में दो बार अपने वजाइनल एरिया को साफ करना चाहिए। इससे बैक्टीरिया और फंगस पनपने का खतरा कम होता है। इस दौरान आप धुले हुए और साफ अंडरगार्मेंट्स पहनें। इसके साथ ही ध्यान रखें कि आपके इनर्स ज्यादा टाइट ना हों। रात में सोने से पहले अपने प्राइवेट पार्ट्स को मेडिकेटेड वॉश से साफ करें। यह आपके लिए बेहतर हो सकता है।

इन लक्षणों को ना करें अनदेखा

गर्मियों में अधिक पसीना आने की वजह से वजाइना में इचिंग, डिस्‍चार्ज,  इंफेक्शन जैसी परेशानियां बहुत ही कॉमन है। लेकिन अगर यह परेशानी अधिक होती है, तो इसे अनदेखा ना करें। साफ-सफाई के साथ-साथ डाइट का भी विशेष ख्याल रखें। इस दौरान लिक्विड डाइट अधिक लें। इससे आपको फायदा हो सकता है।

ऑफिस गोइंग महिलाओं को अधिक परेशानी हो सकती है। क्योंकि वह पब्लिक टॉइलट इस्तेमाल करती हैं। इससे वेजिनाइटिस होने की संभावना अधिक होती है। इसलिए अपने हाइजीन को लेकर अधिक सतर्क रहें।

सावधान! बारिश में इन बीमारियों के चपेट में आ सकते हैं आप, इस तरह करें बचाव

Immunity Boost Drink: हर दिन थोड़ा-थोड़ा पिएंगे पंचामृत तो बूस्ट होगी इम्यूनिटी, जानें इसके अन्य फायदे

Total Wellness is now just a click away.

Follow us on