Advertisement

5 तरह की चाय जो constipation और acidity से दिलाती हैं राहत!

साथ ही बढ़ाती हैं आपकी पाचन शक्ति!

हेल्दी हर्बल चाय की ढेर सारी वेरायटीज़ के बीच, चाय की लोकप्रियता में कोई कमी नहीं आई है। एक हेल्दी विकल्प के तौर पर साधारण चाय की जगह बहुत से लोग हर्बल चाय पीना पसंद करते हैं। चाय के कई तरीकों से हमारी सेहत के लिए तो फायदेमंद है ही लेकिन इनके अलावा, स्टडीज़ में यह भी साबित हो चुका है कि चाय पित्त, लार और अन्य गैस्ट्रिक रस के उत्पादन में सुधार करके पाचन तंत्र को बेहतर बनाने में मदद करती है, जो हमारे पाचन तंत्र को बेहतर बनाते हैं। यही एक कारण है कि कई लोग खाने के बाद चाय पीना पसंद करते हैं। हालांकि, हर तरह की चाय हमारे पाचन को सुधारने में मदद नहीं करती। जी हां, यहां हम बता रहे हैं चाय के कुछ प्रकारों के बारे में जो हमारे पाचन शक्ति के लिए है फायदेमंद। आप भी देखें कि कहीं इसमें आपकी मनपसंद हर्बल चाय भी शामिल है या नहीं।

अदरक की चाय [1]

एंटीऑक्सिडेंट और सक्रिय संघटक जिंजरोल से भरपूर, अदरक की चाय बहुत अधिक एसिडिटी को शांत करने में मदद करने के लिए बहुत अच्छी मानी जाती है। यह हर्बल चाय पाचन कार्यों और आंत्र या बोवेल की गतिविधियों को बढ़ाने में मदद करती है। यह कब्ज और पेट फूलने की समस्याओं से भी राहत दिलाती है।

Also Read

More News

कैमोमाइल चाय [2]

कैमोमाइल टी (Chamomile Tea) पेट फूलने और अपच जैसी समस्याओं में बहुत अच्छा असर करता है, जो आपको हैरान कर सकती है। यह राहत दिलानेवाली चाय आपके पेट की मांसपेशियों को आराम पाने में मदद कर सकती है और आपको कब्ज से राहत भी दे सकती है।

सेना टी [3]

इस रेचक चाय का उपयोग कब्ज से छुटकारा पाने के लिए किया जाता है और पाचन तंत्र की मांसपेशियों को आराम दिलाने और बोवेल के कार्यों को बेहतर बनाने के लिए इसे हमेशा पीएं। गैस की समस्या में सुधार करने के लिए भी सेना टी (Senna Tea) एक स्वादिष्ट तरीका है

पेपरमिंट टी [4]

पेपरमिंट चाय शरीर में पित्त और अन्य पाचन रस के उत्पादन को बढ़ाने में मदद करती है। इससे भोजन के लिए आंतों से गुजरना आसान हो जाता है, कब्ज से पीड़ित लोगों को पेपरमिंट चाय पीनी चाहिए। इस चाय में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण भी होते हैं जो एसिडिटी को कम करते हैं।

हल्दी चाय [5]

कर्कुमिन (Curcumin), हल्दी में पाया जानेवाला एक सक्रिय एंटीऑक्सिडेंट है और यह पेट की सूजन को कम कर सकता है। यह आपके जठरांत्र प्रणाली में एसिड रिफ्लेक्स और सूजन के अन्य कारणों के असर को भी कम करने में मदद करता है।

Read this in English.

अनुवादक: Sadhna Tiwari

चित्र स्रोत: Shutterstock.

संदर्भ:

Khan, N., & Mukhtar, H. (2013). Tea and Health: Studies in Humans. Current Pharmaceutical Design19(34), 6141–6147.

[1] Ali, B. H., Blunden, G., Tanira, M. O., & Nemmar, A. (2008). Some phytochemical, pharmacological and toxicological properties of ginger (Zingiber officinale Roscoe): a review of recent research. Food and chemical Toxicology46(2), 409-420.

[2] Benner, M. H., & Lee, H. J. (1973). Anaphylactic reaction to chamomile tea. Journal of allergy and clinical immunology52(5), 307-308.

[3] Başgel, S., & Erdemoğlu, S. B. (2006). Determination of mineral and trace elements in some medicinal herbs and their infusions consumed in Turkey. Science of the Total Environment359(1), 82-89.

[4] Ravikumar, C. (2014). Review on herbal teas. Journal of Pharmaceutical Sciences and Research6(5), 236-238.

[5] Gupta, S. C., Patchva, S., & Aggarwal, B. B. (2013). Therapeutic Roles of Curcumin: Lessons Learned from Clinical Trials. The AAPS Journal15(1), 195–218. http://doi.org/10.1208/s12248-012-9432-8

Stay Tuned to TheHealthSite for the latest scoop updates

Join us on